WTC के महा मुकाबले में एक बार फिर से आमने-सामने होंगे, U-19 विश्व कप 2008 के ये 4 फाइनलिस्ट

Virat and Ken Williamson
Last Updated: गुरुवार, 10 जून 2021 (18:16 IST)
के फाइनल में अब सिर्फ आठ दिन बचे हैं। न्यूजीलैंड और भारत के बीच डब्ल्यूटीसी फाइनल साउथम्प्टन के एजेस बाउल मैदान पर खेला जाएगा। इस मैच को लेकर ना सिर्फ फैंस बल्कि दोनों टीमों के खिलाड़ी भी बेहद उत्साहित नजर आ रहे हैं।


टेस्ट चैंपियनशिप के फाइनल में 2008 के अंडर-19 विश्व कप की झलक देखने को मिलने वाली है। अब आप सोच रहे होंगे कि 13 साल पुराने अंडर-19 वर्ल्ड कप का डब्ल्यूटीसी फाइनल से भला क्या कनेक्शन हो सकता है। चलिए हम आपको बताते हैं...

2007-08 में मलेशिया के मैदानों पर आईसीसी अंडर-19 विश्व कप खेला गया था। यह वही अंडर-19 विश्व कप था जिसमें विराट कोहली की कप्तानी में भारत ने खिताबी जीत दर्ज की थी।


इस टूर्नामेंट के सेमीफाइनल में टीम इंडिया का सामना न्यूजीलैंड से हुआ था और भारतीय अंडर-19 टीम ने कीवी टीम को 3 विकेट से हराया था। उस मैच में भारत की ओर से कप्तान विराट कोहली और ऑलराउंडर रवींद्र जडेजा और न्यूजीलैंड की टीम से केन विलियमसन, ट्रेंट बोल्ट और टिम साउथी उन चुनिंदा खिलाड़ियों में से हैं जो अब आईसीसी टेस्ट चैंपियनशिप के फाइनल में भी दिखाई पड़ेंगे।


भारत ने सेमीफाइनल मुकाबले में कीवी टीम को हराकर फाइनल में जगह बनाई थी। ये मैच काफी रोमांचक था, जिसमें पहले न्यूजीलैंड की टीम ने 8 विकेट के नुकसान पर 205 रन बनाए थे। इस दौरान ने 37 रन की पारी खेलकर मैदान पर सेट हो चुके थे, लेकिन उनको आउट किया विराट कोहली की गेंद ने। लेकिन विलियमसन ने अपने विकेट का पूरा बदला लिया, जब विराट कोहली बल्लेबाजी करने आए।

असल में हुआ यूं कि बारिश के चलते भारत को 43 ओवर में 191 रन बनाने का लक्ष्य दिया गया। जहां कप्तान विराट कोहली 43 रन बनाकर मैदान पर सेट हो चुके थे। तभी केन विलियमसन ने उनका कैच लिया और बदला पूरा करते हुए विराट का रास्ता दिखाया।


वहीं गेंदबाजों की बात करें, तो टिम साउथी ने इस मैच में 4 विकेट लिए थे, ट्रेंट बोल्ट ने 1 और रविंद्र जडेजा ने एक विकेट लिया था।


जिस प्रकार अंडर-19 विश्व कप के उस सेमीफाइनल मैच में ये 5 खिलाड़ी अहम थे, ठीक वैसे ही टेस्ट चैंपियनशिप के फाइनल में भी इन 5 खिलाड़ियों की अहम भूमिका होगी और देखना दिलचस्प होगा की क्या 2008 वाला इतिहास दोहराया जाएगा, या फिर कीवी टीम के खिलाड़ी रचेंगे इतिहास।



और भी पढ़ें :