1. खेल-संसार
  2. आईपीएल 2021
  3. आईपीएल न्यूज़
  4. Virat Kohli in and as skipper of RCB in IPL
Written By
पुनः संशोधित मंगलवार, 12 अक्टूबर 2021 (11:41 IST)

IPL में सबसे ज्यादा रन बनाने वाले विराट कप्तान के तौर पर एक भी ट्रॉफी नहीं जीत पाए , ऐसा रहा रिकॉर्ड

विराट कोहली का एक आईपीएल ट्रॉफी उठाने का सपना कल कोलकाता ने अंतिम ओवर में चूर चूर हो गया। विराट कोहली ने आईपीएल 2021 के दूसरे भाग के शुरुआत के दिन ही यह साफ कर दिया था कि यह कप्तान के तौर पर आरसीबी के लिए उनका आखिरी सीजन रहेगा।

हालांकि कल मैच के बाद उन्होंने एक बात और कही। उन्होंने कहा कि वह आईपीएल में हमेशा रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर के साथ ही रहना पसंद करेंगे। इसका मतलब यह है कि वह कप्तान के तौर पर अब कभी आईपीएल ट्रॉफी नहीं जीत पाएंगे।

साल 2013 में विराट कोहली को रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर की कप्तानी मिली थी लेकिन एक भी सीजन में वह बैंगलोर को विजेता नहीं बना सके। सिर्फ 1 बार टीम फाइनल में पहुंची और उसको हैदराबाद के हाथों खिताबी हार मिली।

विराट के कुल रिकॉर्ड को देखें तो कुल 139 मैच बैंगलोर टीम ने कोहली की कप्तानी में खेले। इनमें से 66 मैचों में टीम को जीत मिली। कोहली का जीत प्रतिशत खास अच्छा नहीं रहा। सिर्फ 47 प्रतिशत मौकों पर ही वह अपनी टीम को जीत दिला सके। वहीं टॉस की बात करें तो उन्होंने 49 प्रतिशत मौकों पर टॉस जीता।
कप्तानी के दौरान उन्होंने 133 मैचों में  42 की औसत से 4881 रन बनाए जो किसी भी कप्तान के लिए सर्वाधिक हैं। उनसे नीचे महेंद्र सिंह धोनी है जिन्होंने 4456 रन बनाए हैं। विराट कोहली के पांचो शतक तब आए हैं जब उन्हें बैंगलोर की कप्तानी मिली। इस दौरान उन्होंने 413 चौके और 167 छक्के लगाए। यही नहीं 41 बार वह टीम के टॉप स्कोरर रहे।

इसके अलावा एक कप्तान का एक सीजन में सबसे ज्यादा रन बनाने का रिकॉर्ड भी विराट कोहली के नाम है। उन्होंने साल 2016 के सीजन में 973 रन बनाए थे। उनके अलावा कोई भी कप्तान 900 रनों का आंकड़ा पार नहीं कर पाया है।
विराट से ज्यादा रन आईपीएल में किसी ने नहीं बनाए

कुल मिलाकर एक बल्लेबाज के तौर पर देखें तो आईपीएल में विराट कोहली ने 6283 रन बनाए हैं। किसी बल्लेबाज ने 6 हजार का आंकड़ा अभी नहीं छुआ है।207 मैचों में 37.39 की औसत के साथ विराट ने यह रन बनाए हैं। इसमें 42 अर्धशतक और 5 शतक शामिल हैं। उनका सर्वाधिक स्कोर 113 रनों का रहा है। (वेबदुनिया डेस्क)
ये भी पढ़ें
एलिमिनेटर का नतीजा कुछ और होता अगर यह श्रीलंकाई स्पिनर बैंगलोर छोड़ टी-20 विश्वकप के लिए राष्ट्रीय टीम से नहीं जुड़ता