संत एकनाथ महाराज : पढ़ें दो प्रेरणात्मक रोचक प्रसंग

प्रसिद्ध मराठी का जन्म में हुआ था। उनके पिता का नाम श्री सूर्यनारायण तथा माता का नाम रुक्मिणी था। एकनाथ अपूर्व संत थे। वे श्रद्धावान तथा बुद्धिमान थे। उन्होंने  अपने गुरु से ज्ञानेश्वरी, अमृतानुभव, श्रीमद्भागवत आदि ग्रंथों का अध्ययन किया।
>
>  
वे एक महान  संत होने के साथ-साथ कवि भी थे। उनकी रचनाओं में श्रीमद्भागवत एकादश स्कंध की  मराठी-टीका, रुक्मिणी स्वयंवर, भावार्थ रामायण आदि प्रमुख हैं। संत एकनाथ ने जिस दिन  समाधि ली, वह दिन एकनाथ षष्‍ठी के नाम से मनाया जाता है। इस दिन पैठण में उनका  समाधि उत्सव मनाया जाता है।

आपके लिए प्रस्तुत हैं संत एकनाथजी महाराज के दो रोचक  प्रसंग- 
 
 



और भी पढ़ें :