20 जून को संकष्टी चतुर्थी, जानिए श्री गणेश पूजन की खास 8 बातें


गुरुवार, को संकष्टी गणेश चतुर्थी व्रत है। यह व्रत हर तरह की सफलता देने वाला माना गया है। इस दिन का बड़ा महत्व शास्त्रों में बतलाया गया है।

आषाढ़ मास में आने वाली इस संकष्‍टी चतुर्थी के दिन अनिरुद्धरूपी श्री गणेश का पूजन तथा व्रत करके संन्यासियों को तूंबी इत्यादि देने का विधान है। इस दिन श्री गणेश का पूजन करते समय निम्न बातों का ध्यान अवश्य रखना चाहिए।

आइए जानें 8 खास बातें :-

* भगवान श्री गणेश को दूर्वा जरूर चढ़ाएं।

* तुलसी दल श्री गणेश को न चढ़ाएं।

* जनेऊ न पहनने वाले केवल पुराण मंत्रों से करें।

* सुबह का समय श्री गणेश पूजा के लिए श्रेष्ठ है, किंतु सुबह, दोपहर और शाम तीनों ही वक्त श्री गणेश का पूजन करें।

* यज्ञोपवीत यानी जनेऊ पहनने वाले वेद और पुराण दोनों मंत्रों से पूजा कर सकते हैं।

* तुलसी को छोड़कर सभी तरह के फूल श्री गणेश को अर्पित किए जा सकते हैं।

* सिंदूर, घी का दीप और मोदक भी पूजा में अर्पित करें।

* तीनों समय पूजा कर पाना संभव न हो तो सुबह ही पूरे विधि-विधान से श्री गणेश की पूजा कर लें, वहीं दोपहर और शाम को मात्र फूल अर्पित कर पूजा की सकती है।

इन बातों का ध्यान रखकर गणेश पूजन करेंगे तो निश्‍चित ही आप हर क्षेत्र में सफलता हासिल करेंगे। श्री गणेश आपको सुख-समृद्धि, यश-कीर्ति, वैभव, सफलता और पराक्रम के आशीषों की बरसात निश्चित ही आप पर कर देंगे।


 

और भी पढ़ें :