यह 22 अच्छी आदतें हैं अगर आप में, तो मान लीजिए शनिदेव हमेशा हैं साथ में...

12.पौधारोपण, और पीपल-बरगद का पूजन 
पौधारोपण व पेड़ों का पूजन शनि भगवान को खुश करने के लिए बहुत जरूरी है। जो लोग पीपल और बरगद की पूजा करते हैं उनपर शनि अपनी कृपा अक्षुण्ण बनाए रखते हैं।
 
13.शिव की पूजा
भगवान शिव की पूजा शनि को प्रसन्न करती है। रोज शिवलिंग पर जल चढ़ाने और पूजा अर्चना करने वालों का शनि सदैव ध्यान रखते हैं।
 
14.पितरों का श्राद्ध 
जो लोग अपने पितरों का श्राद्ध करते हैं उनसे प्रसन्न होकर उनके कष्ट दूर करते हैं। इसलिए यह आदत हमेश बरकरार रखें।
 
15. ईमानदारी से आजीविका 
ऐसे लोग जो बिना किसी को नुकसान पहुंचाए, सही और धर्म की राह पर चलकर धन अर्जित करते हैं उन्हें शनि अपार लक्ष्मी का वर देते हैं। जो लोग ब्याजखोरी करते हैं, उनसे शनि रुष्ट हो जाते हैं। ब्याजखोरी से बचने वालों की शनि हमेशा सहायता करते हैं।
 
16.हनुमान आराधना 
जिनके ईष्ट भगवान हनुमान होते हैं या जो हनुमान को ईष्ट देवता बनाता है शनिदेव उसके रक्षक बनकर सदैव उनकी रक्षा करते हैं।
 
17.कान्हा के दोस्त हैं शनि
जो श्रीकृष्ण को अपना ईष्ट भगवान मानते हैं शनि उनके दोस्त बन जाते हैं और कभी उनपर कोई विपत्ति नहीं आने देते।
 
18.दिव्यांगों की मदद
दिव्यांगों की सहायता करना शनिदेव को प्रसन्न करता है। ऐसे लोगों का शनि सदैव कल्याण करते हैं। शनि स्वयं एक पैर से शनै: शनै: चलते हैं अत: यथासंभव दिव्यांगों की मदद की आदत डालें। 
 
19.शराब से दूरी
शराब का सेवन शनिदेव को नाराज करता है। जो लोग मदिरापान से दूर रहते हैं शनिदेव की कृपा उनपर बनी रहती है।
 
20.शाकाहार की आदत 
जो लोग शाकाहार का सेवन करते हैं और मांस, मछली, मीट से दूर रहते हैं उनसे शनिदेव प्रसन्न होकर उनके परिवार समेत उनका भला करते हैं।
 
21.सातमुखी रुद्राक्ष
सातमुखी रुद्राक्ष धारण करने वालों के शनिदेव भाग्य खोल देते हैं। इसलिए जिन्हें रुद्राक्ष पसंद हो या रुद्राक्ष पहनने की आदत हो, वे शनिदेव से शुभ फल पाते हैं।
 
22.कुष्ठ रोगियों की मदद
कुष्ठ रोगियों की सेवा करना पुण्य का काम माना गया है। शनि भी ऐसे लोगों से प्रसन्न होते हैं जो कुष्ठ रोगियों की सेवा करते हैं। ऐसे लोगों को सारे कष्टों, परेशानियों से शनिदेव बचाते हैं।> >




और भी पढ़ें :