कानपुर देहात में प्रेमी से मिलने के लिए अड़ी युवती घर के बाहर धरने पर बैठी...

अवनीश कुमार| पुनः संशोधित गुरुवार, 21 अक्टूबर 2021 (13:54 IST)
हमें फॉलो करें
कानपुर। उत्तर प्रदेश के देहात में थाना राजपुर के अंतर्गत अपने पर अड़ी एक युवती ने प्रेमी के घर के बाहर धरना देना शुरू कर दिया। इसकी जानकारी होते ही गांव वालों की भीड़ इकट्ठा हो गई।

मौके पर पहुंची पुलिस ने युवती को समझाने का प्रयास किया तो युवती ने पुलिस वालों से साफ इंकार करते हुए कहा कि जब तक उसको प्रेमी से नहीं मिलवाया जाएगा, वह धरना समाप्त नहीं करेगी।

क्या है मामला :
कानपुर देहात के थाना राजपुर के अंतर्गत भाल गांव में 24 घंटे से धरने पर बैठी युवती ने बताया कि युवक से उसके तीन साल से प्रेम संबंध हैं। दोनों एक साथ कॉलेज में पढ़ते थे। नवंबर 2020 में जालौन के एक मंदिर में वह युवक से शादी भी कर चुकी है। हालांकि उसके पास शादी संबंधी कोई प्रमाण नहीं है।
उसने बताया कि इस बीच युवक सेना में भर्ती हो गया और नौकरी लगने के बाद उसने शादी करने से इंकार कर दिया और बातचीत भी बंद कर दी है। अब वह नहीं मिलता है, जबकि पहले रोज घंटों फोन पर बात करता था और मुलाकात भी करता था।

...तो बैठ गई धरने पर : युवती ने बताया कि युवक अपने बाबा की मौत के बाद 13वीं में शामिल होने के लिए 18 अक्टूबर को गांव आया था, जब मैंने उससे मिलने का प्रयास किया, लेकिन मुलाकात नहीं हो पाई है। उसने बताया कि जब तक उसकी मुलाकात युवक से नहीं कराई जाएगी वह धरने पर ऐसे ही बैठी रहेगी।

मौके पर पहुंचे अधिकारी : प्रेमी से मिलने की जिद पर अड़ी युवती के धरने की जानकारी होते ही ग्रामीण एकत्र हो गए और वहीं मौके पर पहुंचे एसआई अनिलेश यादव ने युवती को समझाकर थाने चलने को कहा और लिखित शिकायत करने के लिए बोला। युवती ने किसी भी प्रकार की थाने में शिकायत करने से इंकार कर दिया।

पुलिसवालों ने युवती के परिजनों को जानकारी दी और मौके पर बुलाया, लेकिन युवती युवक से मिलने की जिद पर अड़ी थी। कड़ी मशक्कत के बाद पुलिस ने उसे समझाया और मौके पर पहुंचे परिजनों को सौंप दिया तब जाकर कहीं मामला शांत हुआ।

क्या बोले थाना प्रभारी : थाना प्रभारी कपिल दूबे ने बताया कि युवती एक युवक से मिलने की जिद पर अड़ी हुई थी और युवक के घर के बाहर धरना दे रही थी जिसकी जानकारी होते ही मौके पर पहुंची पुलिस ने युवती को समझाने का प्रयास किया लेकिन वह एक भी बात सुनने को तैयार नहीं थी।



और भी पढ़ें :