रक्षा बंधन 2022 के दो दिनों के सबसे अच्छे भद्रा रहित शुभ और शुद्ध मुहूर्त

रक्षाबंधन 2022 को लेकर लगातार संशय की स्थिति बनी हुई है, 11 और 12
अगस्त में से किस दिन मनाना है शुभ? आइए जानते हैं दोनों दिनों के अत्यंत शुभ और शुद्ध जो भद्रा रहित हैं।


पूर्णिमा तिथि प्रारंभ : 11 अगस्त को सुबह 10:38 से प्रारंभ।
पूर्णिमा तिथि समाप्त : 12 अगस्त को सुबह 7 बजकर 5 मिनट पर समाप्त।

रक्षा बंधन शुभ योग संयोग- Raksha Bandhan Shubh:

1. रवि योग : रवि योग सुबह 05:30 से 06:53 तक रहेगा।
2. आयुष्मान योग : 10 अगस्त 07:35 से 11 अगस्त दोपहर 03:31 तक।
3. सौभाग्य योग : 11 अगस्त को दोपहर 03:32 से 12 अगस्त सुबह 11:33 तक।
4. शोभन योग : घनिष्ठा नक्षत्र के साथ शोभन योग भी लगेगा।

रक्षा बंधन के शुभ मुहूर्त- Raksha Bandhan Shubh Muhurta 2022:

अभिजीत मुहूर्त : सुबह 11:37 से 12:29।
विजय मुहूर्त : दोपहर 02:14 से 03:07 तक।
गोधूलि मुहूर्त : शाम 06:23 से 06:47 तक।
सायाह्न संध्या मुहूर्त : शाम 06:36 से 07:42 तक।
अमृत काल मुहूर्त : शाम 06:55 से 08:20 तक।


भद्रा का साया :


- प्रात: 10:38 से शाम 08:50 तक है। भद्रा पूंछ शाम 05 बजकर 17 मिनट से 06 बजकर 18 मिनट तक। भद्रा मुख- शाम 06 बजकर 18 मिनट से लेकर रात 8 बजे तक। भद्रा का अंत समय रात 08 बजकर 50 मिनट पर है।

- 11 अगस्त को प्रदोषकाल में भद्रा पूंछ के समय शाम 5 बजकर 18 मिनट से 6 बजकर 18 मिनट तक के बीच रक्षा सूत्र बंधवा सकते हैं। इसके अलावा भद्रा समाप्त हो जाने पर रात 08:52:15 से 09:13:18 के बीच राखी बंधवा सकते हैं।

- 11 अगस्त को पूरे दिन भद्रा व्याप्त है परंतु ज्योतिषाचार्यों के अनुसार भद्रा मकर राशि में होने से इसका वास पाताल लोक में माना गया है। इसलिए भद्रा का असर नहीं होगा। मेष, वृष, मिथुन, कन्या, तुला, वृश्चिक, धनु या मकर राशि के चन्द्रमा में भद्रा पड़ रही है तो वह शुभ फल प्रदान करने वाली होती है।




और भी पढ़ें :