बड़ा खुलासा, 'जस्टिस फॉर हाथरस' नाम से बनी थी वेबसाइट, विदेश से फंडिंग

Last Updated: सोमवार, 5 अक्टूबर 2020 (12:06 IST)
लखनऊ। हाथरस कांड को लेकर विपक्ष लगातार योगी सरकार पर निशाना साध रहा है। नेता राहुल गांधी, प्रियंका गांधी और अन्य विपक्षी दलों के नेता हाथरस में पीड़िता के परिवार से मिलने गए। कार्यकर्ताओं के साथ लाठीचार्ज भी किया गया। कांग्रेस आज देशभर में सत्याग्रह का आंदोलन कर रही है। वहीं हाथरस को लेकर जातीय हिंसा फैलाने एक बड़ी साजिश का पर्दाफाश हुआ है।
ALSO READ:
हाथरस कांड : देशभर में कांग्रेस का 'सत्याग्रह', CM योगी बोले- विपक्ष भड़काना चाहता है दंगे
मीडिया खबरों के अनुसार में जातीय दंगे कराने के लिए हाथरस पीड़िता की मौत वाली रात ही एक 'जस्टिस फॉर हाथरस' नाम से एक वेबसाइट बनाई गई थी। खबरों के अनुसार वेबसाइट को इस्लामिक देशों से जमकर फंडिंग भी मिली। खबरों के अनुसार मामले की जांच सुरक्षा एजेंसियां कर रही हैं। इस मामले में जांच एजेंसियों के हाथ महत्वपूर्ण और चौंकाने वाले सुराग लगे हैं।
ALSO READ:
: RLD का आरोप, एनकाउंटर और लाठीचार्ज से विपक्ष की आवाज दबाना चाहती है योगी सरकार
मीडिया खबरों के मुताबिक वेबसाइट में फर्जी आईडी से हजारों लोगों को जोड़ा गया था। बेवसाइट पर विरोध प्रदर्शन की आड़ में देश और प्रदेश में दंगे कराने और दंगों के बाद बचने का तरीका बताया गया। मदद के बहाने दंगों के लिए फंडिंग की जा रही थी। फंडिंग की बदौलत अफवाहें फैलाने के लिए मीडिया और सोशल मीडिया के दुरुपयोग के सुराग भी जांच एजेंसियों को मिले हैं। फिलहाल यह वेबसाइट नहीं खुल रही है।
Yogi Adityanath
सोशल मीडिया पर आपत्तिजनक पोस्ट : उत्तरप्रदेश पुलिस ने सोशल मीडिया पर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी
आदित्यनाथ के संबंध में कथित तौर पर आपत्तिजनक सामग्री पोस्ट करने, उनकी छवि खराब करने का प्रयास
करने और जातीय विद्वेष को भड़काने को लेकर अज्ञात लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया है। उत्तरप्रदेश पुलिस की ओर से लखनऊ के हजरतगंज कोतवाली में भारतीय दंड संहिता की धारा 153-ए, 153-बी (किसी भी जाति, समुदाय आदि के विरुद्ध किसी भी प्रकार से बोलना, लिखना और नफरत फैलाना) समेत कई गंभीर धाराओं में अज्ञात लोगों के खिलाफ मामला दर्ज कराया गया है। पुलिस की तहरीर में मुख्‍यमंत्री की छवि खराब करने की साजिश और जातीय विद्धेष भड़काने का आरोप है।
योगी ने विपक्ष पर लगाया था दंगे भड़काने का आरोप : मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ ने इस मामले में रविवार की शाम को बिना किसी का नाम लिए प्रतिक्रिया व्‍यक्‍त की थी। योगी ने कहा कि जिसे विकास अच्‍छा नहीं लगता, वे देश और प्रदेश में भी जातीय और सांप्रदायिक दंगा भड़काना चाहते हैं। इस दंगे की आड़ में विकास रुकेगा।
योगी ने कहा कि इस दंगे की आड़ में राजनीतिक रोटियां सेंकने का उन्‍हें अवसर मिलेगा। इसलिए वे नए षड्‍यंत्र करते रहते हैं और इन सभी षड्‍यंत्रों के प्रति पूरी तरह आगाह होते हुए हमें विकास की इस प्रक्रिया को तेजी के साथ आगे बढ़ाना है। (एजेंसियां)



और भी पढ़ें :