कोच रमेश पोवार से हुआ विवाद पीछे छोड़ चुकी हैं मिताली राज

पुनः संशोधित सोमवार, 31 मई 2021 (20:26 IST)
मुंबई:भारतीय महिला टेस्ट एवं वनडे टीम की कप्तान ने कहा है कि वह व्यक्तिगत मुद्दों को कोई महत्व नहीं देती हैं। उन्होंने जोर देकर कहा कि वह 2018 में के मुख्य कोच के रूप में पिछले कार्यकाल के दौरान उनके साथ हुए सार्वजनिक मतभेद से आगे निकल गई हैं।
मिताली ने सोमवार को एक बयान में कहा, “ हम अतीत में नहीं रह सकते। मैं इतने सालों से खेल रही हूं। मुझमें अहंकार नहीं है और मुझे चुनौतियों से गुजरते हुए 21 साल का लंबा समय हो गया है। जब भारत के लिए खेलने की बात आती है तो यह आपके देश की सेवा करने जैसा है, इसलिए मैंने व्यक्तिगत मुद्दों को कोई महत्व नहीं दिया। ”

भारतीय महिला टीम अगले साल फरवरी-मार्च में न्यूजीलैंड में होने वाले वनडे विश्व कप के साथ व्यस्त क्रिकेट सत्र के लिए तैयार है। आगामी इंग्लैंड दौरे पर भारतीय महिला टीम एक टेस्ट खेलेगी, जिसके बाद तीन टी-20 और तीन एकदिवसीय मैच होंगे। इसके बाद वह एक मल्टी-फार्मेट सीरीज के लिए ऑस्ट्रेलिया का दौरा करेगी।
इंग्लैंड दौरे से पहले मुंबई में क्वारंटीन में रह रही मिताली ने कहा, “ एक कप्तान और कोच के रूप में पोवार और उन्हें एक टीम के रूप में काम करना होगा, जिससे टीम को फायदा होगा, क्योंकि भारत 2017 विश्व कप में कामयाबी से एक कदम आगे जाना चाहता है। वह कोच हैं और उनकी अपनी योजनाएं हैं। यह महत्वपूर्ण है कि टीम को आगे ले जाने के लिए हम दोनों एक ही पृष्ठ पर संरेखित हों, क्योंकि उनका लक्ष्य भी यही है कि टीम विश्व कप में अच्छा करे। यह टीम में हर किसी का लक्ष्य है। मैं कभी भी टकराव करने वाली इंसान नहीं रही हूं और न ही मैं अतीत को वर्तमान में ले जाने वाली शख्स हूं। नहीं तो मैं एक खेल में इतने लंबे समय तक जीवित नहीं रहती। यह महत्वपूर्ण है कि हम एक ही पृष्ठ पर हों और टीम को साथ में आगे ले जाएं, क्योंकि हम विश्व कप के लिए अपनी तैयारी के बहुत महत्वपूर्ण चरण में हैं। ”
भारतीय कप्तान ने आगामी इंग्लैंड दौरे को लेकर कहा कि टीम को टेस्ट प्रारूप को लेकर ओवर कॉन्फीडेंट नहीं होना चाहिए, क्योंकि छह साल से अधिक समय से टीम ने टेस्ट नहीं खेला है। उन्होंने कहा, “ मुझे लगता है कि कभी-कभी खेल में उम्मीदों के बोझ के साथ न उतरना अच्छा होता है, क्योंकि टीम के ज्यादातर सदस्य अभी अपनी शुरुआत कर रहे हैं और हम में से कुछ लंबे समय के बाद खेल रहे हैं। ”

रमेश पोवार के पहले कार्यकाल में हुआ था विवाद

एक समय भारतीय बल्लेबाज मिताली राज और मुख्य कोच रमेश पोवार के बीच का विवाद बेहद खराब शक्ल अख्तियार करता जा रहा था और पोवार ने (बीसीसीआई) को दी गई अपनी आधिकारिक रिपोर्ट में कहा था कि मिताली ने धमकी दी थी कि यदि उन्हें ओपनिंग नहीं करने दी गई तो वह विश्वकप के बीच से ही हट जाएंगी और संन्यास ले लेंगी।
मिताली राज ने आरोप लगाया था कि पोवार उन्हें बर्बाद करना चाहते हैं जबकि कोच रमेश पोवार ने उनके रवैए पर सवाल उठाए थे। पोवार की नियुक्ति जुलाई-2018 में हुई थी जब तुषार अरोठे ने सीनियर खिलाड़ियों के साथ मतभेद के कारण पद छोड़ दिया था।(वार्ता)



और भी पढ़ें :