माइकल वान ने किया रहस्यमय खुलासा, क्रोन्ये ने इंग्लैंड को टेस्ट जीतने का मौका दिया तब अजीब लगा था

Last Updated: बुधवार, 15 जनवरी 2020 (19:42 IST)
लंदन। इंग्लैंड के ने कहा कि साल 2000 में सेंचुरियन में खेले गए टेस्ट मैच में उन्हें उस समय अजीब लगा, जब दक्षिण अफ्रीका के दिवंगत कप्तान हैंसी क्रोन्ये ने उनकी टीम को मैच जीतने का मौका दिया। यह मैच बुरी तरह बारिश से प्रभावित हुआ था। बाद में इस मैच की मामले की हुई।
वान उस समय टीम ने नए खिलाड़ी थे। उन्होंने 'डेली टेलीग्राफ' में लिखा कि मैंने कभी भी मैच फिक्सिंग के बारे में नहीं सोचा था। एक युवा खिलाड़ी के तौर पर आप ऐसा सोच भी नहीं सकते। लेकिन जो बात मेरे दिमाग में थी वह यह कि दक्षिण अफ्रीका की टीम ने हमें जीतने का मौका दिया।

क्रोन्ये की कप्तानी में दक्षिण अफ्रीका की टीम उस समय अपने खेल के शीर्ष पर थी। उनकी टीम उस समय ऑस्ट्रेलिया की तरह थी जिसे हराना काफी मुश्किल था। वान ने लिखा कि वे मुश्किल टीम थे और कड़ी चुनौती देते थे। वे कुछ हद तक ऑस्ट्रेलिया की तरह थे, इसके बाद भी वे ऐसे करार के लिए तैयार हुए। कुछ दिन के बाद मुझे लगा कि इसमें कुछ तो 'गलत' है।
जनवरी में खेले गए इस टेस्ट मैच के बाद मार्च में दिल्ली पुलिस ने क्रोन्ये के खिलाफ मैच फिक्सिंग का मामला दर्ज किया। पुलिस ने क्रोन्ये और भारतीय सट्टेबाज के बीच बातचीत को भी जारी किया। वान ने कहा कि उसके कुछ महीने बाद मैं उस समय चौंक गया, जब मुझे यह पता चला कि सट्टेबाज से मिलीभगत के कारण क्रोन्ये मैच का नतीजा निकालने के लिए कुछ भी करने को तैयार थे।

नासिर हुसैन की कप्तानी में इंग्लैंड का यह पहला दौरा था, जहां टीम में कई युवा और अनुभवहीन खिलाड़ी थे। सेंचुरियन में खेले गए श्रृंखला के आखिरी मैच से पहले दक्षिण अफ्रीका की टीम 2-0 से आगे थी। इस मुकाबले से पहले दक्षिण अफ्रीका की टीम लगातार 14 टेस्ट मैचों में अजेय रही थी।
बारिश के कारण मैच का नतीजा निकालने के लिए दोनों टीमों को 1-1 पारी को बिना खेले घोषित कर दिया। इंग्लैंड को जीतने के लिए 75 ओवर में 245 रनों का लक्ष्य मिला था जिसे टीम ने 2 विकेट रहते हुए हासिल कर लिया। 6ठे क्रम पर बल्लेबाजी के लिए आए वान ने 69 रन बनाए थे।




और भी पढ़ें :