लाल किताब के अनुसार अंगुलियों में यहां होती हैं राशियां

palmistry in Lal kitab
अनिरुद्ध जोशी| Last Updated: बुधवार, 11 मार्च 2020 (14:45 IST)
में सामुद्रिक शास्त्र और हस्तरेखा विज्ञान का बहुत महत्व होता है। आप भी जानिए की आपकी अंगुलियों में राशियों का स्थान कहां होता है और वे किस तरह की होती हैं।

1.राशियों के लिए तर्जनी का प्रथम पोर मेष, दूसरा वृष और तीसरा मिथुन राशि का होता है।
2.अनामिका का प्रथम पोर कर्क, दूसरा पोर सिंह और तीसरा पोर कन्या राशि का माना जाता है।
3.बीच की अंगुली का प्रथम पोर तुला, दूसरा पोर वृश्चिक और तीसरा पोर धनु राशि का माना जाता है।
4.सबसे छोटी अंगुली का प्रथम पोर मकर, दूसरा पोर कुम्भ और तीसरा पोर मीन राशि का माना जाता है।

लाल किताब के अनुसार कुंडली में राशियां फिक्स होती है। अर्थात लग्न में मेष राशि ही होती है तो सप्तम भाव में तुला ही मानी जाती है। इसी तरह सभी राशियां अपने अपने स्थान पर होती है।



और भी पढ़ें :