रविवार, 14 अप्रैल 2024
  • Webdunia Deals
  1. धर्म-संसार
  2. व्रत-त्योहार
  3. करवा चौथ
  4. karwa chauth 2021 date
Written By

karwa chauth 2021 : क्यों खास है इस बार सुहाग का महापर्व करवा चौथ, सूर्यदेव देंगे आशीष, Save कर लें पूजा का मुहूर्त और कथा का पाना

karwa chauth 2021 : क्यों खास है इस बार सुहाग का महापर्व करवा चौथ, सूर्यदेव देंगे आशीष, Save कर लें पूजा का मुहूर्त और कथा का पाना - karwa chauth 2021 date
karwa chauth 2021 : महिलाओं के लिए अखंड सौभाग्य का महाव्रत करवा चौथ कार्तिक मास के कृष्ण पक्ष की चतुर्थी तिथि को मनाया जाएगा। इस दिन महिलाएं अपने जीवनसाथी के दीर्घायु और खुशहाल जीवन के लिए निर्जला व्रत रखती हैं। इस वर्ष करवा चौथ का व्रत 24 नवंबर दिन रविवार को है।

बाजार में दुकानें सज गई हैं। दुकानों पर कलश, चलनी, मेहंदी, चूड़े, करवा चौथ कथा की पुस्तक, करवा के अलावा सुहागिनों के श्रृंगार के सामान दुकानों में रखे गए हैं। महिलाओं ने अभी से करवा चौथ को लेकर बाजारों में खरीदारी शुरू कर दी है। लंबे समय के बाद बाजारों में भी खूब चहल-पहल दिखाई दे रही है। पिछली बार कोराना काल में यह त्योहार उत्साह से नहीं मन सका था इसलिए महिलाएं इस बार कोई कसर नहीं छोड़ना चाहती हैं। सारे अरमान पूरे कर लेना चाहती हैं। 
 
करवा चौथ पर बन रहे शुभ योग
पति की लंबी उम्र की कामना के लिए रखा जानेवाला महापर्व महाव्रत करवा चौथ इस बार बड़े अच्छे संयोग में आ रहा है। कार्तिक मास के कृष्ण पक्ष की चतुर्थी तिथि 24 अक्टूबर 2021 दिन रविवार को है। खास बात यह है कि 5 साल बाद फिर इस करवा चौथ पर शुभ योग बन रहा है। करवा चौथ पर इस बार रोहिणी नक्षत्र में पूजन होगा तो वहीं रविवार का दिन होने की वजह से भी व्रती सुहागनों को सूर्यदेव का आशीर्वाद प्राप्त होगा।

खास तौर पर सुहागिनों के लिए यह करवा चौथ अखंड सौभाग्य देने वाला होगा। करवा चौथ के दिन मां पार्वती, भगवान शिव, कार्तिकेय एवं गणेश सहित शिव परिवार का पूजन किया जाता है। मां पार्वती से सुहागिनें अखंड सौभाग्य की कामना करती हैं। इस दिन करवे में जल भरकर कथा सुनी जाती है। महिलाएं सुबह सूर्योदय से लेकर चंद्रोदय तक निर्जला व्रत रखती हैं और चंद्र दर्शन के बाद व्रत खोलती हैं।
शाम 6:55 से शाम 8:51 बजे तक करवा चौथ की पूजा का शुभ मुहूर्त
 
इस बार अत्यंत शुभ रोहिणी नक्षत्र में चांद निकलेगा और पूजन होगा। कृष्ण पक्ष की चतुर्थी तिथि इस साल 24 अक्टूबर 2021, रविवार सुबह 3 बजकर 1 मिनट पर शुरू होगी जो अगले दिन 25 अक्टूबर को सुबह 5 बजकर 43 मिनट तक रहेगी। इस दिन चांद निकलने का समय 8 बजकर 11 मिनट पर है। कहीं कहीं यह 8 बजकर 07 मिनट है। पूजन के लिए शुभ मुहूर्त 24 अक्टूबर 2021 को शाम 05:43 से लेकर 06:59 तक रहेगा।

ये भी पढ़ें
नागकेसर के यह 7 उपाय आपको दिवाली की रात से ही शुभ फल देने लगेंगे... करोड़पति बनने का सपना ऐसे होगा पूरा