उत्तर प्रदेश में Corona संक्रमण के 122 नए मामले, संक्रमितों की संख्‍या पहुंची 2766

पुनः संशोधित मंगलवार, 5 मई 2020 (00:22 IST)
लखनऊ। में सोमवार को कोरोना वायरस (Corona virus) के 122 नए मामले सामने आए, जिसके बाद संक्रमण के कुल मामले बढ़कर 2766 हो गए। की ओर से देर शाम जारी बुलेटिन में बताया गया कि राज्य में कोरोना वायरस संक्रमण के 122 नए मामले सामने आए हैं।
बुलेटिन में बताया गया कि कुल 802 लोगों को उपचार के बाद से छुट्टी मिल चुकी है, जबकि संक्रमण की वजह से 50 लोग अपनी जान गंवा चुके हैं। राज्य में 1914 लोगों का उपचार चल रहा है।

बुलेटिन के मुताबिक, सबसे अधिक 14 लोगों की आगरा में हुई है। मेरठ और मुरादाबाद में सात-सात, कानपुर नगर में पांच, मथुरा में चार, फिरोजाबाद और गाजियाबाद में दो-दो तथा कानपुर देहात, अमरोहा, बरेली, बस्ती, बुलंदशहर, लखनऊ, वाराणसी, अलीगढ़ और श्रावस्ती में एक-एक व्यक्ति की मौत कोरोना संक्रमण की वजह से हुई है।

इससे पहले प्रमुख सचिव (चिकित्सा एवं स्वास्थ्य) अमित मोहन प्रसाद ने कहा, पूल टेस्टिंग लगातार चल रही है। कल 1397 नमूनों की जांच की गई थी।उन्होंने बताया कि अभी तक प्रदेश में 90, 821 टेस्ट आरटी-पीसीआर के माध्यम से किए गए। राज्य में कुल 20 प्रयोगशालाएं काम कर रही हैं।पृथक वार्ड में भर्ती मरीजों की संख्या 2024 है, जबकि 11, 049 लोग पृथक-वास में हैं।

प्रमुख सचिव ने कहा कि इतने बड़े प्रदेश में अगर संक्रमित लोगों की संख्या सीमित रही है तो उसका बहुत बड़ा कारण चिकित्साकर्मियों की निगरानी है।उन्होंने बताया कि प्रदेश में अभी तक 50, 193 टीमों ने निगरानी का काम किया है और कुल 45 लाख 56 हजार 923 घरों का सर्वेक्षण किया गया। इनमें दो करोड़ 16 लाख 78 हजार 495 परिवार शामिल हैं।

प्रसाद ने जनता से अनुरोध किया, ये बीमारी संक्रामक है, किसी को भी हो सकती है। सरकार ने जांच और चिकित्सा की नि:शुल्क व्यवस्था की है, इसलिए जिस किसी में भी लक्षण दिखाई दें, वह घबराए नहीं, बल्कि सामने आकर जांच कराए। जांच और चिकित्सा नि:शुल्क होगी। ज्यादातर मामलों में देखा गया है कि लोग तबियत बहुत खराब होने के बाद विलंब से अस्पताल आए।

उन्होंने कहा, बुजुर्गों एवं पहले से बीमार लोगों का विशेष ध्यान रखना है। दूसरे प्रदेशों से जो लौट रहे हैं, उनके लिए संदेश है कि वे अपने घर में ही पृथक-वास में रहें। पास-पड़ोस के लोगों से ना मिलें। परिवार के लोगों से दूर रहें। वे बच्चों, बुजुर्गों, पहले से बीमार लोगों और गर्भवती महिलाओं से दूरी बनाकर रखें ताकि उनमें यदि संक्रमण हो तो उससे कोई और संक्रमित नहीं हो।(भाषा)



और भी पढ़ें :