जोश को 21 साल, ऐश्वर्या का भाई नहीं बनना था इसलिए सलमान ने छोड़ दी थी मूवी

फिल्म को 9 जून 2021 को रिलीज हुए 21 बरस पूरे हो गए। यह फिल्म 2000 में बनी थी और इसे ने निर्देशित किया था। मंसूर ने ‘कयामत से कयामत तक’ और ‘जो जीता वही सिकंदर’ जैसी उम्दा फिल्म बना कर अपना नाम कर लिया था। बॉलीवुड वालों को उम्मीद थी कि आने वाले समय में उनका नाम बड़े निर्देशकों के साथ लिया जाएगा और वे कई हिट फिल्मों का निर्माण करेंगे, लेकिन एक दिन सब कुछ छोड़ कर मंसूर मुंबई से दूर प्राकृतिक सौंदर्य के बीच रहने चले गए। फिल्म इंडस्ट्री और शहरी जीवन से उनका मोह भंग हो गया था। आमिर ने कई बार कोशिश की कि मंसूर वापस मुंबई आएं और फिल्में बनाएं, लेकिन वे उनके ये प्रयास असफल रहे।



आमिर का नाम क्यों था गायब?
बहरहाल, जब जोश बनाने की घोषणा की गई थी तो इस फिल्म के कलाकारों में का नाम नदारद था। आमिर और मंसूर चचेरे भाई हैं और दोनों के बीच अच्छी बांडिंग भी है। दरअसल आमिर को मंसूर ने वो रोल ऑफर किया था जो चंद्रचूड़ सिंह ने निभाया था। यह लवर बॉय का रोल था और इस तरह की भूमिकाएं आमिर कई फिल्मों में अदा कर चुके थे। एक तो आमिर को अपने रोल में ऐसी कोई बात नजर नहीं आई जो उन्हें इस फिल्म को करने के लिए उत्साहित कर सके। दूसरी बात, वे लवर बॉय की छवि से छुटकारा पाना चाहते थे। मंसूर, मैक्स की रफ-टफ वाले रोल के लिए आमिर को नहीं लेना चाहते थे। बात नहीं बन पाई तो आमिर फिल्म से अलग हो गए।



सलमान को भी अलग होना पड़ा
मैक्स वाले रोल के लिए मंसूर के ‍दिमाग में का नाम था। मंसूर को विश्वास था कि इस रफ-टफ रोल में सलमान जमेंगे। सलमान को रोल तो पसंद आ गया, लेकिन जब पता चला कि वे इस फिल्म में के भाई के रूप में भी नजर आएंगे तो वे ‍बिदक गए। ऐश्वर्या राय से उस समय उनकी नजदीकी सुर्खियां बटोर रही थीं। भला वे यह भूमिका कैसे निभा सकते थे। दो ही विकल्प थे। या तो ऐश्वर्या को हटा कर दूसरी हीरोइन को लिया जाए या फिर सलमान खुद ही फिल्म से हट जाएं। सलमान ने दूसरा रास्ता चुना।



शाहरुख दोहरा नहीं पाए इतिहास
आखिरकार उनकी जगह को लिया गया। शाहरुख ने इसके पहले भी बाजीगर और दिलवाले दुल्हनिया ले जाएंगे में सलमान को रिप्लेस किया था क्योंकि सलमान ये फिल्में करने के लिए राजी नहीं हुए थे। लेकिन जोश उन फिल्मों की तरह सफल नहीं रही, जैसी कि वो फिल्में सफल रही थीं जिनमें सलमान की जगह शाहरुख ने ली थी। जोश ने उम्मीद से कमतर प्रदर्शन बॉक्स ऑफिस पर किया। एक तरह से यह फिल्म फ्लॉप रही। मंसूर जैसा निर्देशक और शाहरुख-ऐश्वर्या जैसे सितारे भी इसको नहीं बचा पाए। जैसा ‍कि हमेशा होता है, फिल्म असफल होने के कारण ढूंढे गए।



असफलता के कारण
सबसे बड़ा जो कारण सामने आया वो ये कि शाहरुख-ऐश्वर्या को भाई-बहन बनाकर ही मंसूर ने गलती की। दोनों बड़े सितारे थे और उनसे दर्शकों को रोमांस की उम्मीद थी। वे भला उन्हें भाई-बहन के रूप में कैसे देखते? ऐश्वर्या के प्रेमी के रूप में चंद्रचूड़ नजर आए जो कि बड़े सितारे नहीं थे। शाहरुख जैसे स्टार की उपस्थिति में चंद्रचूड़ की बांहों में ऐश्वर्या को देख पाना दर्शक स्वीकार नहीं कर पाए। ऐसे में फिल्म में उनका मन नहीं लगा। फिल्म के कमजोर प्रदर्शन से मंसूर भी दु:खी हो गए और इसके बाद उन्होंने मुंबई छोड़ दिया।



और भी पढ़ें :