जिंदगी बचा सकता है सिटी स्‍कैन

NDND
कई जाँचें जिंदगी बचाने के लिए जरूरी होती हैं। सीटी स्कैन उनमें से एक है। रोग का ठीक निदान होने पर उसका इलाज भी सही तरीके से किया जा सकता है। आमतौर पर लोग सीटी स्कैनिंग जैसी महत्वपूर्ण जाँच को भी नाहक समझ लेते हैं जो कि मरीज के हित में नहीं होता।

केट स्कैन या सीटी स्कैन अर्थात कॉम्प्यूटेड एक्सिअल टोमोग्राफी एक आधुनिक प्रकार की विशेष जाँच है जिसके द्वारा शरीर के अंदरुनी अंगों को देखा व उनके रोगों का पता लगाया जा सकता है। इसमें सीटी मशीन या स्कैनर द्वारा शरीर के भीतरी हिस्सों की अलग-अलग स्तर पर अनेक इमेजेस (प्रतिबिम्ब) या चित्र लिए जाते हैं व उन्हें एक कम्प्यूटर की सहायता से इस प्रकार मिला दिया जाता है कि शरीर के अंग विशेष की ऐसी छवि प्राप्त हो जाती है जिसका अध्ययन कर बीमारी का सटीक निदान करना संभव हो जाता है। एक्स-रे एवं सोनोग्राफी से जोजानकारियाँ नहीं मिल पातीं, वे सीटी स्कैन से मिल जाती हैं। इससे शरीर के अंदरुनी अंग के किस हिस्से में गड़बड़ी है उसका बिलकुल सही-सही और बीमारी की प्रारंभिक अवस्था में ही पता लगाकर आवश्यक उपचार प्रारंभ करना संभव है। पहले सीटी स्कैन द्वारा केवल मस्तिष्क कीजाँच ही संभव थी, पर अब शरीर के किसी भी अंग का सीटी स्कैन किया जा सकता है। स्पाइरल सीटी और अल्ट्राफास्ट स्कैनर द्वारा मात्र कुछ सेकंड्स (2-3 सेकंड) में किसी भी अंग का स्कैन संभव है।

कैसे काम करता है सीटी?

जैसे आप ब्रेड या डबलरोटी की स्लाइस काटते हैं, उसी प्रकार सीटी स्कैनर भी शरीर के अंदरुनी अंग (जैसे मस्तिष्क) के अनेक स्लाइस में बिम्ब प्राप्त करता है। कम्प्यूटर द्वारा इन बिम्बों को मिलाकर उस अंग की एक बहुआयामी छवि प्राप्त कर ली जाती है। इसे कम्प्यूटर मॉनिटरपर देखा जा सकता है एवं फिल्म भी (एक्स-रे के समान) प्राप्त की जा सकती है।

क्या सीटी स्कैन सुरक्षित एवं पीड़ारहित है?

सीटी स्कैन एक अत्यंत सुरक्षित व दर्दरहित जाँच है। मरीज को बस कुछ क्षणों के लिए शांतिपूर्वक परीक्षण टेबल पर लेटे रहना पड़ता है। कभी-कभी सीटी जाँच के लिए आयोडीनयुक्त कन्ट्रास्ट इंजेक्शन या मुँह से दिया जाता है। इससे मरीज को थोड़ी बेचैनी या कभी-कभी एलर्जीहो सकती है, परंतु ऐसा बहुत ही कम होता है। फिर भी यदि आयोडीन से एलर्जी के बारे में पहले से मालूम हो तो डॉक्टर को अवश्य बता देना चाहिए। इसी प्रकार यदि गर्भावस्था हो तो भी डॉक्टर को जरूर बताना आवश्यक है, क्योंकि सीटी में भी एक्स-रे (रेडिएशन) की कुछ मात्रा अवश्य शरीर में जाती है।

सीटी स्कैन कब कराना आवश्यक है?

मस्तिष्क से संबंधित बीमारियों जैसे कुछ समय के लिए या पूरी तरह लकवा लगना, मूर्च्छा या बेहोशी, दुर्घटना आदि से सिर में चोट, मस्तिष्क के अंदर खून जमा हो जाना, मस्तिष्क में गठान (ट्यूमर) होने का संदेह, स्पाइनल कॉर्ड (रीढ़) संबंधी समस्याओं आदि में सीटी स्कैन सबसे उपयोगी, महत्वपूर्ण एवं आवश्यक जाँच है।

पेट व छाती के अंदरुनी अंगों की बीमारियों की पहचान में भी सीटी स्कैन की महत्वपूर्ण भूमिका है।

फेफड़ों, लीवर आदि के कैंसर की विभिन्न अवस्थाओं (स्टेजेस) की जानकारी भी कैट स्कैन द्वारा प्राप्त की जाती है।

WD|
- डॉ. शिवरा
कई बार सर्जन बायोप्सी जाँच, ऑपरेशन एवं कैंसर में सिंकाई (रेडियोथैरेपी) के पूर्व भी कैट स्कैन करवाते हैं ताकि जाँच, उपचार या ऑपरेशन बिलकुल ठीक-ठीक हो।

सम्बंधित जानकारी

विज्ञापन
Traveling to UK? Check MOT of car before you buy or Lease with checkmot.com®
 

और भी पढ़ें :