0

ऐसे हों हमारे गुरु...

शनिवार,सितम्बर 4, 2010
0
1

हर कदम पर मिलते हैं गुरु

शुक्रवार,सितम्बर 3, 2010
दिल को अच्‍छा लगा कि वाकई आज सामाजिक और मानवीय मूल्यों को बरकरार रखने वाले लोग भी इस दुनिया में हैं और मैं तो उनका अभिन्न मित्र हूँ। उनके प्रति दिल में आदर और बढ़ गया। जीवन की पाठशाला का महत्व बताने वाले मेरे ये मित्र होने के साथ मेरे गुरु भी हो गए। ...
1
2

उपहार, जो हो सबसे खास

शुक्रवार,सितम्बर 3, 2010
हमारे भारत वर्ष में गुरु का सम्मान अनादि काल से चला आ रहा है। आज बस उसका स्वरूप बदल चुका है। पहले गुरुकुल में रहकर छात्र शिक्षा प्राप्ति के बाद गुरु दक्षिणा देते थे और अब शिक्षक दिवस के अवसर पर कॉलेजों के छात्र-छात्राएँ विभिन्न प्रकार की गिफ्ट देकर ...
2
3

कोरा सम्मान, कैसे बने काम

शुक्रवार,सितम्बर 3, 2010
दिन-दिवस की इसी परंपरा के क्रम में तमाम सरकारी-गैर सरकारी आयोजनों में जगह-जगह शिक्षक पूजे जाएँगे। उन्हें राष्ट्र निर्माता का दर्जा देकर उनकी शान में तमाम कसीदे पढ़ दिए जाएँगे, पर कहीं न कहीं उनका यह सम्मान 'औपचारिकता' वाला होगा। शिक्षक भी जानते हैं ...
3
4
आज का युग कम्प्यूटर युग है। कम्प्यूटर के आने से देश, समाज में एक नई क्रांति का आह्वान हुआ है। लेकिन फिर भी ‍बच्चों के मन में ज्ञान की ज्योति जगाने वाले शिक्षकों का आज भी उतना ही महत्व है जितना पुराने जमाने में था। माता-पिता के बाद बच्चों को सही ...
4
4
5

समर्पण और मेहनत ही गुरुमंत्र है

शुक्रवार,सितम्बर 3, 2010
हम अपना कार्य तो हमेशा ही बेहतरी से करने का प्रयास करते हैं, बावजूद इसके और भी अनेक लोग ऐसे हैं जिनके लिए हम कार्य कर सकते हैं। मेरे विचार से आदर्श शिक्षक और आदर्श विद्यार्थी दोनों में कुछ गुणों का होना जरूरी है।
5
6

संस्कारों की शिक्षा भी जरूरी

शुक्रवार,सितम्बर 3, 2010
आज मुझे पढ़ाते हुए करीब 30 साल हो गए। मेरे द्वारा पढ़ाए जाने के बाद विद्यार्थियों के चेहरे पर जो संतुष्टि के भाव आते हैं उससे मुझे बहुत खुशी मिलती है। सांदीपनि विशिष्ट गुरुजन सम्मान प्राप्त करने के संबंध में यही कहूँगी कि हम जो कार्य करते हैं उसे कोई ...
6
7

गुरु बिना जीवन की कल्पना असंभव

शुक्रवार,सितम्बर 3, 2010
गुरु बिना जीवन ही असंभव है। आप किसी भी क्षेत्र में हों किसी भी आयु वर्ग के हों, किसी भी स्तर पर हों अपने आसपास देखेंगे तो पाएँगे कि कोई न कोई आपका गुरु जरूर है। जिस प्रकार मनुष्य बगैर समाज के नहीं रह सकता, उसी प्रकार हरेक व्यक्ति के जीवन में गुरु की ...
7
8

शि‍क्षक दि‍वस है पर्व सुनहरा

शुक्रवार,सितम्बर 3, 2010
है आज बहुत हर्षि‍त मन मेरा,शि‍क्षक दि‍वस है पर्व सुनहरा।इस पुलकि‍त पावन अवसर पर,वंदन करता है मन मेरा।। आपकी महि‍मा आपका गौरव आपका चिंतन आपका ज्ञान। आपके ही उपदेश वचन करते हैं सबका कल्‍याण।। आपकी गरि‍मा का क्‍या बखान करें, आपके गौरव का कैसे गुणगान ...
8
8
9
'शिक्षक दिवस' कहने-सुनने में तो बहुत अच्छा प्रतीत होता है। लेकिन क्या आप इसके महत्व को समझते हैं। शिक्षक दिवस माने साल में एक दिन बच्चों द्वारा टीचर्स को भेंट किया गया एक गुलाब का फूल या ‍कोई भी गिफ्ट। नहीं यह टीचर दिवस मनाने का सही तरीका नहीं है।
9
10
कहने को मैं आपकी शिक्षिका हूँ, किंतु सच तो यह है कि जाने-अनजाने न जाने कितनी बार मैंने आपसे शिक्षा ग्रहण की है। कभी किसी के तेजस्वी आत्मविश्वास ने मुझे चमत्कृत कर‍ दिया तो कभी किसी विलक्षण अभिव्यक्ति ने अभिभूत कर दिया। कभी किसी की उज्ज्वल सोच से ...
10
11

टीचर्स डे पर विशेष उपहार

शुक्रवार,सितम्बर 3, 2010
हमारी जिंदगी में कुछ लोगों का स्थान ऐसा होता है जिसकी तुलना हम किसी से नहीं कर सकते हैं। हमारे पौराणिक धर्मग्रंथों में गुरु (शिक्षक) को भगवान से भी ऊँचा स्थान दिया गया है। शिक्षक हमें पढ़ना-लिखना सिखाते हैं, सही-गलत में भेदभाव करना और जीवन पथ पर ...
11
12
फिल्मों में मास्टरजी को सामान्य व्यक्ति के रूप में बहुत कम दिखाया जाता है। टीचर के रूप में या तो उसे बेहद लाचार और कमजोर बताते हैं, जो कुरता-पजामा पहने, हाथ में छड़ी पकड़े, चश्मा लगाए, टूटी-फूटी साइकिल पर सवार होकर आदर्शवादी बातें करता रहता है या ...
12