0

सियार, हंस, कौआ और हाथी सहित भगवान शनि के 9 वाहन बनाते हैं आपका भाग्य

शुक्रवार,अगस्त 5, 2022
0
1
वैसे जो भारतभर में शनिदेव के कई मंदिर और पीठ है किंतु 3 ही प्राचीन और चमत्कारिक पीठ या मंदिर है, जिनका बहुत महत्व है। शनि शिंगणापुर (महाराष्ट्र), शनिश्चरा मन्दिर (ग्वालियर मध्यप्रदेश), सिद्ध शनिदेव (कशीवन, उत्तर प्रदेश)। इनमें से जनश्रुति और मान्यता ...
1
2
वैसे जो भारतभर में शनिदेव के कई पीठ है किंतु तीन ही प्राचीन और चमत्कारिक पीठ है, जिनका बहुत महत्व है। शनि शिंगणापुर (महाराष्ट्र), शनिश्चरा मन्दिर (ग्वालियर मध्यप्रदेश), सिद्ध शनिदेव (कशीवन, उत्तर प्रदेश)। इनमें से शनि शिंगणापुर को भगवान शनिदेव का ...
2
3
श्री शनिदेव की लोहा एवं पत्थरयुक्त दिखाई देने वाली, काले वर्ण वाली 5 फुट 9 इंच लंबी तथा 1 फुट 6 इंच चौड़ी मूर्ति जो आंगन में धूप, ठंडक तथा बरसात में रात-दिन खुले आकाश के नीचे है। इसके संदर्भ में स्थानीय बुजुर्गों से सुनने में मिला है कि लगभग 350 ...
3
4
शनि की वक्री चाल : जानिए क्या होगा 12 राशियों का हाल, और भी जरूरी जानकारी एक साथ
4
4
5
ज्येष्ठ माह की अमावस्या तिथि यानी कि 30 मई 2022 सोमवार को शनि जयंती, सोमवती अमावस्या व वट सावित्री व्रत तीनों एक ही दिन पड़ रहे हैं। इस बार शनि जयंती पर 30 साल बाद यह बहुत ही दुर्लभ योग बन रहे हैं। इस दिन सोमवती अमावस्या के साथ ही वट सावित्री का व्रत ...
5
6
इस वर्ष 30 मई को शनि जयंती (shani jayanti 2022) मनाई जा रही है। यहां पढ़ें न्यायप्रिय देवता शनिदेव से संबंधित खास जानकारी...
6
7
Shani Jayanti 2022: हिन्दू पंचांग के अनुसार ज्येष्ठ मास की अमावस्या तिथि के दिन शनि जयंती मनाई जाती है। इस बार 30 मई सोमवार के दिन शनिदेव की जयंती मनाई जाएगी। इस बार शनि जयंती पर 30 साल बाद बहुत ही दुर्लभ योग बन रहे हैं। आओ जानते हैं इस दिन के दान ...
7
8
Shani Jayanti 2022 : ज्येष्ठ माह की अमावस्या तिथि यानी कि 30 मई 2022 सोमवार को शनि जयंती, सोमवती अमावस्या और वट सावित्री व्रत तीनों एक ही दिन पड़ रहे हैं। शनि दोष से मुक्ति और धन-समृद्धि प्राप्त करने लिए यह खास दिन है। इस दिन कर लें 5 मुख्य काम।
8
8
9
Shani jayanti 2022 tithi : ज्येष्ठ मास की अमावस्या तिथि को शनि जयंती मनाई जाती है। इसी दिन शनिदेव का जन्म हुआ था। अंग्रेजी कैलेंडर के अनुसार इस बार 30 मई 2022 सोमवार को शनि जयंती मनाई जा रही है। आओ जानते हैं कि दान, पूजा या मंत्र, जानिए शुभ फल ...
9
10
Shani pida se mukti ke upay: ज्येष्ठ माह की अमावस्या तिथि यानी कि 30 मई 2022 सोमवार को शनि जयंती मनाई जाएगी। इस दिन शनि की साढ़ेसाती, ढैया, महादशा और उनके कोप से बचने के आप सरल 10 उपाय करना न चूकें।
10
11
पौराणिक मान्यताओं के अनुसार ज्येष्ठ मास की अमावस्या तिथि (shani jayanti 2022 tithi) को शनि जयंती (Shani Jyanati) मनाई जाती है। इसी दिन शनिदेव का जन्म हुआ था। इस दिन शनिदेव का पूजन-अर्चन किया जाता है।
11
12
शनि जयंती (Shani Jyanati) शनि देव की कृपा पाने का सबसे खास दिन है। अगर आप चाहते हैं कि शनि की असीम कृपा आप पर बनी रहे तो शनि जयंती के दिन ये 20 सरल उपाय (Shani Jyanati ke Upay) आजमाएं और शनि देव से सुख-शांति का वरदान पाएं...। यहां पढ़ें शनि जयंती के ...
12
13
Shani gochar 2022 Kumbh Mantra : शनि ग्रह ने राशि परिवर्तन कर लिया है। 29 अप्रैल को अपनी ही राशि मकर से निकलकर स्वयं की राशि कुंभ में प्रवेश कर लिया है। 30 वर्ष के बाद शनि के इस महागोचर से 3 राशि वाले जातक होंगे खुश, 2 राशि के जातकों के लिए खड़ा ...
13
14
शनि का महागोचर : 29 अप्रैल का दिन बहुत खास है, इस दिन शनिदेव अपनी राशि बदल कर 30 साल बाद कुंभ राशि में प्रवेश करेंगे। यह परिवर्तन 12 राशियों की जिंदगी को प्रभावित करेगा, वेबदुनिया ने संजोई है विशेष सामग्री, आइए जानें यह ग्रह गोचर क्यों है खास...
14
15
हर महीने में एक अमावस्या (Amavasya) आती है और कुल मिला कर वर्ष में 12 अमावस्याएं होती हैं। हिन्दू धर्मशास्त्रों के अनुसार हर मास की अमावस्या का विशेष महत्व होता है।
15
16
Shani Amavasya 2022: धार्मिक शास्त्रों में वर्षभर में आने वाली सभी अमावस्या तिथियों का विशेष महत्व माना गया है। इस वर्ष वैशाख मास में पड़ने वाली शनि अमावस्या 30 अप्रैल 2022 को मनाई जा रही है... Shani Amavasya 2022 Date Tithi
16
17
हनुमानजी के बाद यदि शनि ग्रह के बुरे प्रभाव से कोई बचा सकता है तो वह है भगवान भैरव। आओ जानते हैं शनि भगवान को प्रसन्न करके उनकी कृपा प्राप्त करने के सरल उपाय।
17
18
अगर आपमें यह 22 आदतें हैं तो मान कर चलिए कि शनिदेव आपको कभी परेशान नहीं करेंगे उल्टे आप पर उनकी कृपा दृष्टि सदैव रहने वाली है। हर संकट में वे आपके साथी बनकर राह दिखाएंगे। जानिए वे आदतें कौन सी हैं...
18
19
पुराणों के अनुसार महर्षि पिप्लाद ने शनिदेव की संतुष्टि के लिए उनके 10 नामों की रचना की है। जनमानस में यह बात मानी जाती हैं कि शनि का जिक्र होते ही व्यक्ति के मन में भय व शंका का भाव आता है।
19