0

देवनागरी लिपि के तकनीकी खतरे

सोमवार,सितम्बर 14, 2009
0
1
भाषाओं के उद्यान में हिन्दी ऐसा पुष्प है जो माधुर्य, सौंदर्य और सुगंध से भरपूर है। माधुर्य के कारण हिन्दी मिष्ट है। सौंदर्य के कारण हिन्दी शिष्ट है। सुगंध के कारण हिन्दी विशिष्ट है। माधुर्य, हिन्दी का शिवम्‌ है। सौंदर्य, हिन्दी का सुंदरम्‌ है। ...
1
2
राष्ट्रपति के साथ अपनी हाल की रूस और ताजिकिस्तान यात्रा के दौरान इन दोनों ही देशों में हिन्दी भाषा की उपस्थिति देखकर बहुत खुशी हुई। हिन्दी भाषा बोलने और सीखने को लेकर जिस तरह की उत्सुकता इन देशों में दिखी, उसको देखकर यही लगा कि उनके इस उत्साह को अगर ...
2
3

नेपाल में हिंदी की जिद

सोमवार,सितम्बर 14, 2009
नेपाल में हिंदी में उपराष्ट्रपति पद की शपथ लेने वाले परमानंद झा ने सुप्रीम कोर्ट के निर्देश की चिंदियाँ बिखेरते हुए दुबारा नेपाली भाषा में शपथ नहीं ही ली। उनका तर्क है कि अंतरिम संविधान में जब संशोधन करके हिंदी भाषा में शपथ लेने का प्रावधान कर दिया ...
3
4
भारत जैसे विराट जनतंत्र के लिए यह वास्तव में आश्चर्य का विषय है कि स्वतंत्र होने के बीस वर्ष बाद भी उसकी राष्ट्रभाषा के सम्बन्ध में वाद-विवाद और संघर्ष हो। सम्भवतः इसका कारण यह हो कि भाषा, जो राष्ट्र की आत्मा है, उसे अन्य समस्याओं के समक्ष गौण स्थान ...
4
4
5

हिंदी : दुनिया की बड़ी भाषा

सोमवार,सितम्बर 14, 2009
आँकड़ों के लिहाज से हिन्दी दुनिया की तीसरी बड़ी भाषा है। चाइनीज बोलने वाले 1000 मिलियन, अँगरेजी बोलने वाले 508 मिलियन और हिन्दी बोलने वाले लगभग 497 मिलियन लोग हैं। चूँकि अँगरेजी बोलने वाले दुनिया के लगभग हर देश में हैं इसलिए इस भाषा की पहुँच चाइनीज और ...
5
6
हिन्दी में बात करने का आग्रह अगर 10 साल पहले कोई करता तो आपके सामने नौकरी की चाह रखने वाले, अँगरेजी न समझने वाले युवा की तस्वीर कौंध जाती। लेकिन अब दृश्य बदलने लगा है। यह डिमांड नौकरी देने वालों की तरफ से भी उठ सकती है। एक बात साफ करना बेहतर होगा कि ...
6
7
फादर कामिल बुल्के का जन्म रैम्सचैपल में हुआ। वे बेल्जियम के पश्चिमी प्रांत फ्लैंडर के निवासी थे। उनके पास सिविल इंजीनियरिंग में बीएससी डिग्री थी जो उन्होंने लोवैन विश्वविद्यालय से प्राप्त की थी। 1934 में उन्होंने भारत का संक्षिप्त दौरा किया और कुछ ...
7