आयरिश लक और अल्लाह ने दिलाया इंग्लैंड को वर्ल्ड कप खिताब : मोर्गन

Last Updated: सोमवार, 15 जुलाई 2019 (14:18 IST)
लंदन। को 44 वर्ष के बाद विश्व विजेता बनाने वाले कप्तान ने न्यूजीलैंड के खिलाफ कांटे की टक्कर के बाद मिली जीत के लिए माना है कि फाइनल में निश्चित ही ईश्वर और भाग्य ने उनका साथ दिया।
इंग्लैंड को में जाकर जीत हासिल हुई। मैच में कई पल ऐसे रहे जहां साफ लगा कि भाग्य ही मेज़बान टीम को जीत दिलाने की साज़िश कर रहा है। हालांकि सुपर ओवर की आखिरी गेंद पर जाकर अंतत: इंग्लिश टीम को जीत नसीब हुई।

कप्तान मोर्गन ने जीत के बाद कहा कि उनकी टीम में विभिन्न क्षेत्रों और धर्मों के खिलाड़ी हैं और यह विविधता भी उनके बड़ी काम आई। कप्तान मोर्गन आयरिश मूल के हैं जबकि बेन स्टोक्स कैंटाबेर, सुपर ओवर के हीरो ब्रिजटाउन से हैं। उन्होंने बताया कि मैच के बाद लेग स्पिनर आदिल राशिद ने उनसे कहा कि अल्लाह टीम के साथ था और उसने इंग्लैंड को जीत दिलाई है।
मैच के बाद संवाददाता सम्मेलन में मोर्गन ने कहा कि मैंने आदिल से बात की तो उन्होंने कहा कि अल्लाह निश्चित ही हमारे साथ था, तो मैंने कहा कि आयरिश लक हमारे साथ था। हमारी टीम की विविधता ही उसकी पहचान है। टीम में अलग अलग मूल और संस्कृति के खिलाडृी हैं और कुछ अलग देशों के भी हैं। कई बार हम मज़ाक भी बनाते हैं और इसमें काफी मज़ा आता है।

कप्तान ने बताया कि सुपर ओवर के लिए भी इंग्लिश टीम बहुत हंसते हुए बिना दबाव के तैयार हुई थी और यह टीम का आत्मविश्वास दिखाता है। उन्होंने कहा कि मैंने लगातार अपने खिलाड़ियों से हंसते रहने के लिए कहा था, क्योंकि यह ऐसा पल था जब हम बहुत दबाव में थे। कई ऐसे मौके आए जिसने हमें दबाव में ला दिया और यही कारण था कि मैच सुपर ओवर में चला गया जिसका हमें हर हाल में बचाव करना ही था।
मोर्गन ने कहा कि मेरे लिए खिलाड़ियों के चेहरों पर मुस्कुराहट लाना जरूरी था ताकि उन पर से दबाव कम हो सके और उन्होंने भी स्थिति को बहुत अच्छी तरह संभाला।

सुपरओवर में ओवर डाल रहे आर्चर ने अपनी गेंद पर छक्का पड़ने के बावजूद हड़बड़ाहट नहीं दिखाई और अपने करियर के पहले अंतरराष्ट्रीय सत्र में बिना दबाव के खेलते हुए टीम को जीत दिलाई, वहीं बेन स्टोक्स ने अपने बल्ले से अहम भूमिका निभाई।
स्टोक्स ने नाबाद 84 रन की पारी के बाद मैच को टाई कराया और फिर सुपर ओवर में इंग्लैंड के कुल 15 में 8 रन का योगदान दिया। इंग्लिश कप्तान ने कहा कि बेन हमारे सुपरहीरो हैं। उन्होंने असाधारण खेल दिखाया। उन्होंने हमारी टीम और बल्लेबाज़ी क्रम की अगुवाई की। मैं जानता हूं कि जोस बटलर के साथ उनकी साझेदारी असाधारण थी, लेकिन निचले क्रम के साथ उनकी बल्लेबाज़ी कमाल की थी।

मैन ऑफ द मैच स्टोक्स के लिए उन्होंने कहा कि टीम के माहौल और भावनाओं को स्टोक्स ने बहुत अच्छे ढंग से संभाला। वे काफी अनुभवी हैं। मुझे यकीन है कि जो भी कोई घर पर बैठकर मैच देख रहा होगा वह अगला बेन स्टोक्स बनने का प्रयास करेगा। मैंने बेन को यह बात कई बार कही है। कई मौकों पर बेन ने व्यक्तिगत तौर पर हमारे लिए संघर्ष किया है। ट्रेनिंग से लेकर टीम की बैठकों में उन्होंने हमारा नेतृत्व किया है। वे शानदार क्रिकेटर हैं और मैं इस प्रदर्शन के लिए उनका शुक्रगुजार हूं।
इंग्लैंड को पहली बार विश्व विजेता बनाकर इतिहास रचने वाले कप्तान मोर्गन ने अपने जीवन में इस ऐतिहासिक जीत के बाद बदलाव को लेकर साफ किया कि वह इसके बावजूद शांत और सामान्य जीवन ही जिएंगे और उनके जीवन में इससे कोई बदलाव नहीं आएगा।

उन्होंने कहा कि मुझे नहीं लगता कि इस जीत के बाद भी मेरा जीवन बदलेगा। मैं उम्मीद करता हूं कि ऐसा न ही हो क्योंकि मैं अपने जीवन का मजा लेना चाहता हूं। मैं शांतप्रिय इंसान हूं और मैं इसमें बदलाव नहीं चाहता।



और भी पढ़ें :