0

दिसंबर 2017 के शुभ योग, जानें नया कार्य आरंभ करने का सही समय...

सोमवार,दिसंबर 4, 2017
0
1
हर माह किसी खास राशि के लिए शुभ-अशुभ मुहूर्त या दिनांक लाता है। आइए जानते हैं कि दिसंबर 2017 की कौन-सी तारीख किस राशि के लिए शुभ है और कौन-सी प्रतिकूल।
1
2
अगर आप दिसंबर के महीने में नया कार्य, व्यापार या गृह प्रवेश करना चाह‍ते हैं तो हम आपके लिए लेकर आए हैं दिसंबर माह का शुभ समय। नक्षत्रों पर आ‍धारित निम्न तारीखों पर आप अपना नया व्यापार या नवीन गृह प्रवेश या किराए का घर बदली कर सकते हैं। आइए जानें ...
2
3
मेष राशि वाले जातकों के लिए यह माह आर्थिक उन्नति वाला रहेगा। व्यापारी वर्ग के लिए यह माह लाभदायक रहेगा। कृषि वर्ग के लिए यह माह मध्यम रहेगा।
3
4
अगर आप दिसंबर माह में जन्मे है तो एस्ट्रोलॉजी कहती है आप अव्वल दर्जे के आलसी हैं। आप में अजीब किस्म का अभिमान होता है। दूसरों पर निर्भर रहने की प्रवृत्ति रहने के कारण आप हमेशा घर के लोगों से उलझते रहते हैं। घर और बाहर सभी से आपकी अतिरिक्त अपेक्षाएं ...
4
4
5
प्रथम सप्ताह उत्तरी देशों में संकट रहेगा। दक्षिण के देशों में सुख-शांति, पश्चिम-पूर्व के देशों में बच्चों को कष्ट व अशांति रहेगी। इस माह असामाजिक तत्वों से प्रजा को कष्ट रहेगा। शुक्र ग्रह के कारण महिलाओं को इस माह रोजगार व उन्नति में नए रास्ते ...
5
6
प्रतिमाह आने वाले कई योग सकारात्मक ऊर्जा से सम्‍पन्न होते हैं। इसी कारण किसी भी नए कार्य को शुरू करने से पहले उस माह के कार्य-सिद्धि योग, शुभ योग-संयोग को देख-परख लेना श्रेष्ठ होता हैं। अगर आपको किसी भी माह में नया कार्य आरंभ करना हो तो शुभ
6
7
अगर आप नवंबर के महीने में नया कार्य, व्यापार या गृह प्रवेश करना चाह‍ते हैं तो हम आपके लिए लेकर आए हैं नवंबर माह का शुभ समय। नक्षत्रों पर आ‍धारित निम्न तारीखों पर आप अपना नया व्यापार या नवीन गृह प्रवेश या किराए का घर बदली कर सकते हैं।
7
8
ज्योतिष में हर कार्य को करने के लिए एक खास मुहूर्त होता है, बहुत से लोग इसे मासिक ग्रह वाणी भी कहते हैं। हर माह किसी खास राशि के लिए शुभ-अशुभ मुहूर्त या दिनांक लाता है। आइए जानते हैं कि नवंबर 2017 की कौन-सी तारीख किस राशि के लिए शुभ है और कौन-सी ...
8
8
9
कार्तिक शुक्ल पक्ष देव प्रबोधिनी एकादशी 31 अक्टूबर को है। इस दिन से सभी शुभ कार्य शुरू हो जाएंगे।। दीपावली के बाद आने वाली इस एकादशी को देवोत्थान, देव प्रबोधिनी और देवउठनी एकादशी भी कहते हैं।
9
10
भगवान ने जलंधर का रूप रखा और वृंदा के महल में पहुंच गए जैसे ही वृंदा ने अपने पति को देखा,वे तुरंत पूजा में से उठ गई और उनके चरण छू लिए.... पढ़ें पौराणिक कथा...
10
11
विवाह के लिए अबूझ मुहूर्त माने जाने वाली देवउठनी एकादशी 31 अक्टूबर, मंगलवार को मनाई जाएगी, पर इस साल विवाह इस दिन नहीं होंगे। ऐसा इसलिए है कि इस साल देवउठनी एकादशी पर गुरु अस्त रहेगा इसलिए एकादशी के 18 दिन बाद 19 नवंबर से शहनाइयों की गूंज सुनाई
11
12
हिन्दू धर्म और वैदिक ज्योतिष में शनि ग्रह का बड़ा महत्व है। शनि को सूर्यपुत्र और नव ग्रह में सर्वश्रेष्ठ माना गया है। शनि के संबंध में अनेक गलत धारणाएं प्रचलित हैं जिस वजह से शनि को अशुभ और दुख का कारक माना जाता है लेकिन यह सही नहीं है। शनि शत्रु ...
12
13
दीपावली से कुछ अच्छी आदतें शुरू करें और उसे जीवन भर अपना कर रखें। विश्वास कीजिए कि आपको धनवान होने से कोई नहीं रोक सकता, पढ़ें 14 काम की बातें....
13
14
समुद्र मंथन के उपरांत धनतेरस के दिन ही भगवान धन्वन्तरि अपने हाथों में अमृत-कलश लिए प्रकट हुए थे। धन्वन्तरि भगवान विष्णु के अंशांश अवतार माने जाते हैं। इस बार धनतेरस 17 अक्टूबर 2017 को है।
14
15
करवाचौथ' शब्द दो शब्दों से मिलकर बना है, 'करवा' यानी 'मिट्टी का बरतन' और 'चौथ' यानि 'चतुर्थी'। इस त्योहार पर मिट्टी के बरतन यानी करवे का विशेष महत्व माना गया है। पढ़ें संपूर्ण जानकारी एक साथ....
15
16
मेष राशि वाले जातकों के लिए यह माह आर्थिक उन्नति वाला रहेगा। स्वास्थ्य में सुधार होगा। मानसिक परेशानी दूर होगी। नौकरी में उन्नति होगी।
16
17
अगर आप अक्टूबर के महीने में नया कार्य, व्यापार या गृह प्रवेश करना चाह‍ते हैं तो हम आपके लिए लेकर आए हैं अक्टूबर माह का शुभ समय। नक्षत्रों पर आ‍धारित निम्न तारीखों पर आप अपना नया व्यापार या नवीन गृह प्रवेश या किराए का घर बदली कर सकते हैं।
17
18
ज्योतिष में हर कार्य को करने के लिए एक खास मुहूर्त होता है, बहुत से लोग इसे मासिक ग्रह वाणी भी कहते हैं। हर माह किसी खास राशि के लिए शुभ-अशुभ मुहूर्त या दिनांक लाता है। आइए जानते हैं कि अक्टूबर माह की कौन-सी तारीख किस राशि के लिए शुभ है और कौन-सी ...
18
19
नवंबर माह में जन्में युवाओं में प्यार का अथाह सागर होता है। ‍जिसे प्यार करेंगे वह अगर ना मिल पाए तो भी उसे भूल नहीं पाएंगे। और जो अगर प्यार मिल जाए तो उसकी खुशी के लिए खुद को मिटाकर भी तृप्त नहीं होते। फिर वही बात कि अत्याधिक दयालु जो होते हैं।
19