0

इतने ऊँचे उठो कि जितना ऊँचा गगन है

मंगलवार,जनवरी 26, 2010
0
1
गणतंत्र दिवस पर निकलने वाली परेड से असली शक्ति के दर्शन नहीं हो सकते। आजादी और गणतंत्र की ताकत तो दूरदराज के गाँवों में है। दिल्ली में रहने वाले खुशनसीब हैं, लेकिन दिल्ली शहर पूरा हिन्दुस्तान नहीं, उसकी राजधानी है।
1
2

संविधान तुझे सलाम...!

सोमवार,जनवरी 25, 2010
26 जनवरी 1950 को तीन वर्ष की अथक मेहनत के बाद हमारे का संविधान लागू हुआ था। हमारे देश के कानून का पालन करना सभी देशवासियों का कर्तव्य है। कानून या कहें कि नियम से ही कोई देश, समाज, परिवार चलता है। कानून नहीं है या कानून का विरोध-उल्लंघन करने वालों ...
2
3
इस बार हम 61वाँ गणतंत्र दिवस मना रहे हैं। बीते वर्षों में भारतीय जनतंत्र ने अपनी सशक्त भूमिका दर्ज की है। इसका पूरा श्रेय भारत के उन युवाओं को जाता है। जिसकी सोच में देश की राजनीतिक और प्रशासनिक व्यवस्था को लेकर क्रांतिकारी बदलाव आया है। इन साठ ...
3
4
भारत की आजादी 15 अगस्‍त 1947 के बाद कई बार संशोधन करने के पश्चात भारतीय संविधान को अंतिम रूप दिया गया जो 3 वर्ष बाद यानी 26 नवंबर 1950 को आधिकारिक रूप से अपनाया गया। तब से 26 जनवरी को हम गणतंत्र दिवस मनाते आ रहे हैं। इस बार हम 61वाँ गणतंत्र दिवस ...
4
4
5

जन गण मन अधिनायक जय हे

सोमवार,जनवरी 25, 2010
गुरुदेव रवींद्रनाथ टैगोर द्वारा रचित गीत 'जन गण मन..' को संविधान सभा ने 24 जनवरी 1950 को राष्ट्रगान के रूप में स्वीकार किया। यह गीत सबसे पहले 27 दिसंबर 1911 को कलकत्ता में हुए भारतीय राष्ट्रीय काँग्रेस के अधिवेशन में गाया गया था। गुरुदेव द्वारा रचित ...
5
6
वि‍ज्ञान ने बीते वर्ष जो एक सबसे बड़ी छलांग भरी वह चंद्रमा पर पानी की खोज थी। चंद्रमा पर पानी की इस खोज ने भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) को नए उत्साह से भर दिया है। इसरो के लिए साल 2010 देश के कुछ बेहद महत्वपूर्ण अभियानों के लिए निर्णायक साल ...
6
7
26 जनवरी को पूरा देश 'गणतंत्र दिवस' मनाएगा। यह जश्न है एकता, समानता और स्वतंत्रता का। उन शहीदों को इस पर्व के माध्यम से नमन करने का जिनकी वजह से हमें खुलकर जीने की आजादी मिली। साथ ही सलाम उन जवानों को जो सीमा पर जागते हैं ताकि हम चैन की नींद सो
7
8
फिल्म 'आनंदमठ' सन्‌ 1952 में आई थी। वह सुप्रसिद्ध बंगला साहित्यकार बाबू बंकिमचंद्र चटर्जी के 'आनंदमठ' उपन्यास पर आधारित थी। फिल्मीस्तान कंपनी द्वारा निर्मित इस फिल्म में पृथ्वीराज कपूर, गीता बाली, भारत भूषण, प्रदीप कुमार, अजीत व मुराद जैसी हस्तियों ...
8
8
9

'वंदे मातरम्' की अमर कहानी

शुक्रवार,जनवरी 22, 2010
बंगाल के महान साहित्यकार श्री बंकिमचंद्र चट्टोपाध्याय के ख्यात उपन्यास 'आनंदमठ' में वंदे मातरम् का समावेश किया गया था। लेकिन इस गीत का जन्म 'आनंदमठ' उपन्यास लिखने के पहले ही हो चुका था। अपने देश को मातृभूमि मानने की भावना को प्रज्वलित करने वाले कई ...
9
10
राजस्थान की झाँकी में जयपुर शहर का रंग नजर आएगा। जयपुर शहर के निर्माता महाराजा सवाई जयसिंह की ज्योतिष के प्रति गहन रुचि थी। उन्होंने ज्योतिष शास्त्र के ग्रंथ 'सूर्य सिद्धांत' का अध्ययन किया तथा यह निश्चित किया कि इन ग्रंथों के आधार पर सारणियाँ बनाकर ...
10
11

भारतीय गणतंत्र और बचपन

शुक्रवार,जनवरी 22, 2010
भारत के 61 साल गणतंत्र की अनेक उपलब्धियों पर हम फख्र कर सकते हैं। लोकतंत्र में हमारी चरित्रगत आस्था का इससे बड़ा सबूत क्या हो सकता है कि दुनिया के सबसे बड़े और जटिल समाज ने सफलतापूर्वक 50 से अधिक राष्ट्रीय चुनाव संपन्‍न किए। सरकारों को बनाया और बदला। ...
11