0

आई लव यू डैड

मंगलवार,जुलाई 19, 2011
0
1
कहते हैं कि मां दुनिया की अनोखी और अद्भुत देन हैं। वह अपने बच्चे को नौ महिने तक अपनी कोख में पाल-पोस कर उसे जन्म देने का नायाब काम करती है। अपना दूध पिलाकर उस नींव को सींचती और संवारती है। जैसा कि मां का स्थान दुनिया सबसे महत्वपूर्ण स्थान है। वैसे ...
1
2
चाहे फ्रायड का मनोविज्ञान कुछ भी क्यों न कहता रहे... किशोरावस्था की समस्याओं में माँ की भूमिका बेटी के प्रति और पिता की भूमिका बेटे के प्रति ज्यादा महत्वपूर्ण होती है। होता यूँ है कि चूँकि लड़कियों में होने वाले परिवर्तनों के प्रति एक खास किस्म की ...
2
3

मैं पिता हो रहा हूं

गुरुवार,जून 16, 2011
सच पूछो तो इन दिनों मुझे सबसे बड़ा खतरा लगता है अपने पिता हो जाने का। पिताजी जरा में खोल देते हैं सबके सामने कलेजा अपना सब ऊंच-नीच और वे बातें भी जो हैं घर-परिवार की। सच-सच बता देते हैं वे वे बातें भी, बताने में जिन्हें होती है शर्मिंदगी मुझे। मामला ...
3
4
आमतौर पर हम सभी के बचपन में अपनी अनुशासनप्रियता व सख्ती के चलते पिता हमें क्रूर नजर आते हैं। लेकिन जैसे-जैसे उम्र बढ़ती है और हम जीवन की कठिन डगर पर चलने की तैयारी करने लगते हैं, हमें अनुभव होता है कि पिता की वो डाँट और सख्ती हमारे भले के लिए ही थी। ...
4
4