0

बजट के गोपनीय पहलू

बुधवार,फ़रवरी 23, 2011
0
1

बजट के दस्तावेज

बुधवार,फ़रवरी 23, 2011
पूरे बजट में कुछ सात दस्तावेज होते हैं, जो निम्न हैं :
1
2

'बजट' की छपाई कितनी गोपनीय

बुधवार,फ़रवरी 23, 2011
बजट एक नितांत गोपनीय दस्तावेज है। इसे तैयार करने से लेकर इसकी छपाई तक की पूरी प्रक्रिया अत्यंत गोपनीय रखी जाती है। नार्थ ब्लॉक में स्थित वित्त मंत्रालय कार्यालय की चाहरदीवारी के भीतर बजट की छपाई का काम सम्पन्न होता है।
2
3
आरके षणमुखम सीडी देशमुख जवाहरलाल नेहरू
3
4

भारत में पहली बार बजट

बुधवार,फ़रवरी 23, 2011
आधुनिक भारत में बजट-पद्धति की शुरुआत करने का श्रेय ब्रिटिश-भारत के पहले वायसराय लार्ड केनिंग को जाता है, जो 1856-62 तक भारत के वायसराय रहे। 1857 के प्रथम भारतीय स्वतंत्रता संग्राम के बाद 1859 में पहली बार एक वित्त विशेषज्ञ जेम्स विल्सन को
4
4
5

कहाँ से आया 'बजट' शब्द?

बुधवार,फ़रवरी 23, 2011
बजट शब्द की उत्पत्ति फ्रेंच भाषा के शब्द 'बूजेत' से हुई है, जिसका अर्थ है 'चमड़े का थैला' या 'झोला'। आमतौर पर सरकार के अलावा घर-परिवार में भी 'बजट' शब्द का प्रयोग अक्सर किया जाता है, लेकिन शायद बहुत ही कम लोगों को पता होगा कि सरकार
5
6

बजट 2002-03

शनिवार,फ़रवरी 20, 2010
व्यक्तिगत आयकर की दरों में कोई परिवर्तन नहीं।
6
7

बजट 2003-04

शनिवार,फ़रवरी 20, 2010
आयकर और निगमित कर दरों में कोई परिवर्तन नहीं।
7
8

बजट 2004-05

शनिवार,फ़रवरी 20, 2010
आयकर, निगमित कर, उत्पाद शुल्क, सीमा शुल्क और सेवा कर पर दो प्रतिशत का शिक्षा उपकर।
8
8
9

बजट 2005-06

शनिवार,फ़रवरी 20, 2010
आयकर - एक लाख तक आयकर मुक्त, एक से डेढ़ लाख 10 प्रतिशत, डेढ़ से दो लाख तक 20 प्रतिशत, दो लाख से ऊपर 30 प्रतिशत
9
10

बजट 2006-07

शनिवार,फ़रवरी 20, 2010
56270 बस्तियों और एक लाख चालीस हजार स्कूलों को स्वच्छ पेयजल और स्वच्छता कार्यक्रम के तहत कवर किया जाएगा।
10
11

बजट 2007-08

शनिवार,फ़रवरी 20, 2010
आयकर छूट में 10 हजार रुपए की वृद्धि,
11
12

वित्तमंत्री का मायाजाल

रविवार,मार्च 2, 2008
लगता है वित्तमंत्री के हाथों कोई जादुई चिराग लग गया है। उन्होंने बजट को मनपसंद व्यंजनों की सूची की तरह पेश किया- मानो जो माँगो, वो मिलेगा। अलग-अलग मुलाकातों और स्मरण पत्रों
12
13
मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी ने बजट के कुछ प्रस्तावों का स्वागत किया, लेकिन कहा कि इसमें कई चीजों पर ध्यान नहीं दिया गया है।
13
14
शुक्रवार को वित्तमंत्री पी. चिदंबरम के बजट भाषण प्रस्तावों और वित्तीय मदों के प्रावधानों से यह आभास हुआ कि आशाएँ धोखेबाज होती हैं, लेकिन आशंकाएँ मिथ्या नहीं होतीं।
14
15

वाहन बाजार बल्ले-बल्ले

शनिवार,मार्च 1, 2008
कार, दुपहिया और तिपहिया खरीदने की इच्छा रखने वालों के लिए वित्त मंत्री की झोली में से बड़ी राहत निकलकर आई। चिदंबरम ने कार, दुपहिया और तिपहिया वाहनों पर उत्पाद शुल्क घटाकर वाहन बाजार को
15
16

शिक्षा के लिए खोला खजाना

शनिवार,मार्च 1, 2008
वर्ष 2008-09 के बजट में शिक्षा को प्राथमिकता देते हुए उसके बजट में 20 प्रतिशत की वृद्धि करते हुए इसे 28,674 करोड़ रूपए से बढ़ाकर 34,400 करोड़ रु. कर दिया गया है।
16
17
बजट में लगातार पाँचवें साल इंफ्रास्ट्रक्चर क्षेत्र की पूरी तरह से उपेक्षा की गई है। इस क्षेत्र के लिए बजट में कोई भी घोषणा नहीं की गई है। बजट में मध्यप्रदेश के बुनियादी ढाँचे की भी पूरी
17
18

अन्नदाता नहीं मतदाता

शनिवार,मार्च 1, 2008
संसद में चिदंबरम का भाषण खत्म होते ही बजट बेताल किसान के भेष में वित्तमंत्री के गले लिपट गया। लोगों की बधाई स्वीकार रहे चिदंबरम पर उसने
18
19

धरती के लाल हुए निहाल

शनिवार,मार्च 1, 2008
किसानों और कृषि क्षेत्र के लिए आखिरकार सरकार का रवैया उदार हो ही गया। पिछले कुछ वर्षों में विदर्भ समेत देश के कई हिस्सों में कर्ज से दुखी किसानों द्वारा आत्महत्या के
19