50 हजार श्रद्धालुओं ने लिया लाभ

बड़वानी | Naidunia| पुनः संशोधित शनिवार, 8 अक्टूबर 2011 (23:14 IST)
शनिवार को नगर के धोबड़िया हिल्स स्थित माता वैष्णोदेवी मंदिर के पास माता के भंडारे का आयोजन हुआ। लगभग 50 हजार श्रद्धालुओं ने प्रसादी ग्रहण की, जिनकी सेवा में 400 से अधिक लोग दिनभर तत्पर रहे। इससे पहले भक्तों ने देवी के दर्शन किए। इस दौरान वैष्णोदेवी मंदिर से महेंद्र टॉकीज तक मेले जैसा स्वरूप रहा। सेवाभावी लोगों ने जगह-जगह पानी के स्टॉल लगाकर जलसेवा की।

सुबह से ही मंदिर में दर्शन एवं पूजन हेतु श्रद्धालुओं की आवाजाही शुरू हो गई थी। प्रातः 9 बजे बाद माता की आरती हुई और 101 कन्याओं को भोजन कराया गया। उसके बाद प्रसादी ग्रहण का सिलसिला शाम तक जारी रहा। भंडारे में नगर के अलावा आसपास के ग्राम सजवानी, बड़गाँव, बंधान, आमल्यापानी, भवती, रेहगून, बिजासन, चिखल्दा, नर्मदा नगर, छोटी कसरावद, सेगाँव, एकलरा, कुकरा, राजघाट आदि के हजारों लोग पहुँचे। महेंद्र टॉकीज से मंदिर तक सड़क पर मेले जैसा नजारा था। विभिन्ना संगठनों व सामाजिक कार्यकर्ताओं ने जगह-जगह पानी के स्टॉल लगाए। पुलिस कर्मियों ने यातायात व्यवस्था को सुचारु रूप से संभाला और पार्किंग व्यवस्था में सहयोग दिया।

वैष्णोदेवी मंदिर प्रांगण में पूजा-अर्चना की सामग्री, नारियल, धार्मिक पुस्तकें, बच्चों के खिलौने और माला-तस्वीरों की अस्थाई स्टॉल भी लगे हुए थे। श्रद्घालुओं ने मंदिर में माता के दर्शन-पूजन कर नीचे बनी गुफा को देखा।


आयोजन समिति के प्रमुख आनंद हल्दीवाल एवं सदस्य श्याम गुप्ता ने बताया कि भंडारे के अलावा मंदिर में 6 क्विंटल हलवे की महाप्रसादी भी बाँटी गई। भंडारे में प्रसादी ग्रहण करने के लिए आए हजारों लोगों के लिए बैठक व्यवस्था हेतु 60 हजार वर्गफुट का पांडाल लगाया गया था, जहाँ एक बार में 40 से 50 पंक्तियों में 2 हजार लोग प्रसादी ग्रहण कर रहे थे। 400 से अधिक सेवाभावी लोगों, विद्यार्थियों, आयोजन समिति के सदस्यों, पदाधिकारियों ने भोजन परोसने और अन्य कार्यों में सहयोग प्रदान किया। प्रसादी तैयार करने में हलवाई, कारीगर और उनके सहयोगी सहित 200 लोगों ने सहयोग दिया।

प्रशासन का सहयोग

आयोजन समिति ने भंडारा स्थल पर पीने के पानी की भी माकूल व्यवस्था की थी। प्रशासन ने भी सहयोग किया। नपा ने पेयजल की व्यवस्था करवाई तो भारत दूरसंचार विभाग ने अपना खाली प्रांगण उपलब्ध करवाया। इसके अलावा मॉडल स्कूल परिसर के वासियों, हाउसिंग बोर्ड के मित्र मंडल सहित अनेक संगठनों के सदस्यों ने अपनी सेवा दी।

16 वर्षों से आयोजन

समिति के श्री हल्दीवाल ने बताया कि 16 वर्षों से जनसहयोग से माता का विशाल भंडारा हो रहा है। इस वर्ष भी 60 हजार भक्तों के मान से प्रसादी तैयार करवाई गई थी, जिसमें 21 क्विंटल शकर की नुक्ती, 60 क्विंटल आटे की पूड़ी, 25 क्ंिवटल विभिन्ना प्रकार की सब्जियाँ, 60 डिब्बे घी, 13 क्विंटल तेल, 11 क्विंटल बेसन का प्रसादी में उपयोग हुआ।


और भी पढ़ें :