उसकी त्वचा पर पड़ जाते थे काले धब्बे

होम्योपैथिक केस हिस्ट्री

डॉ. कैलाशचन्द्र दीक्षि
2-3 महीनों के इलाज के बाद मरीज का काउंट सामान्य हो गया। इसके बाद मरीज को दूसरी बार यह समस्या न हो इसलिए फिर इलाज किया। छ: महीने के इलाज के बाद मरीज सामान्य हो गई। और फिर उसे इस बीमारी का दौरा नहीं पड़ा।



और भी पढ़ें :