बाबा की इच्छा को पूरी करती थीं विषकन्याएं..

पुनः संशोधित बुधवार, 13 सितम्बर 2017 (22:13 IST)
Photo: Youtube
सिरसा। डेरा सच्चा सौदा के प्रमुख गुरमीत राम रहीम के जेल जाने के बाद उसकी काली करतूतों के खुलासे हो रहे हैं। अब राम रहीम की ऐसी महिला गैंग के बारे में पता चला है जो अय्याश बाबा के लिए लड़कियों की व्यवस्था करती थी।
टीवी खबरों के अनुसार ये महिला सहायक रंगीले बाबा के लिए 16 से 20 वर्ष की लड़कियों व्यवस्था करती थीं। हालांकि इस महिला गैंग पर किसी कानूनी कार्रवाई की खबरें अभी तक नहीं आई हैं। बाबा को सजा होने के बाद अब उसके अपराध में शामिल इन महिलाओं पर कार्रवाई न होने से भी सवाल उठ रहे हैं।

साध्वियों के साथ बलात्कार के दोषी 20 साल जेल की सजा काट रहे गुरमीत राम रहीम के कारनामों के खुलासे हो रहे हैं। एक पूर्व साध्वी ने टीवी चैनल पर यह खुलासा किया कि बाबा की मुंहबोली बेटी हनीप्रीत भी पिता के साथ इस गंदे खेल में शामिल थी और वह लड़कियों को बाबा के पास पहुंचाती थी। साध्वी ने यह खुलासा किया कि बाबा की गुफा में उसकी पत्नी या बेटा कभी नहीं जाते थे। हनीप्रीत ने बाबा को उसके परिवार से दूर कर दिया था। न तो राम रहीम की परिवार वालों से मिलने की इच्छा होती थी और न ही परिवार वाले उससे संपर्क करने की कोशिश करते थे।

एक बड़े समूह की पत्रिका में छपी रिपोर्ट के अनुसार गुरमीत राम रहीम न केवल लड़कियों का यौन शोषण करता था, बल्कि अपनी करीबी बड़ी उम्र की महिलाओं से भी शारीरिक संबंध बनाता था। बाद में ये महिलाएं उसकी विश्वासपात्र महिला सहायकों में शामिल हो जाती थीं और उसके लिए दूसरी महिलाओं को लाने का काम करने लगती थीं। इस पत्रिका में यह आरोप तक लगाए गए हैं कि कुछ नेता और अधिकारी डेरे में अय्याशी करने के लिए आते थे।

सामने आया गुफा का 'काला सच' : रिपोर्ट के मुताबिक दो बार बलात्कार की शिकार एक महिला ने सीबीआई को बताया था कि राम रहीम की गुफा के बाहर संतरी के रूप में तैनाती के दौरान उसने कई महिलाओं को आंखों में आंसू लिए गुफा से बाहर निकलते देखा है। डेरा में गुरमीत के आवास को ‘गुफा’ कहा जाता था।

महिला ने अपने बयान में आठ पीड़ित महिलाओं के नाम भी गिनाए थे। रिपोर्ट के अनुसार अय्याश बाबा के लिए लड़कियां जुटाने वाली महिलाओं का काम इससे इंकार करने वाली या अपना मुंह खोलने वाली महिलाओं को डराना, धमकाना और प्रताड़ित करना भी था।

करवाता था गर्भपात : सीबीआई के गवाह गुरदाससिंह तूर ने बताया कि इसके लिए डेरा में ‘मन सुधार कमरा’नाम से एक यातना गृह चलाया जाता था। यहां इन महिलाओं को 24 घंटे तक भूखा रखा जाता था। रिपोर्ट अनुसार गुरदास सिंह तूर ने कहा कि ज्यादातर साध्वियों ने अब डेरा छोड़ दिया है, लेकिन राम रहीम के लिए लड़कियां लाने वाली तीन विषकन्याएं अभी भी आश्रम में मौजूद हैं। इनमें से एक महिला का नाम सीबीआई की चार्जशीट में भी है, फिर भी उस पर कोई कार्रवाई नहीं हुई है। गुरमीत राम रहीम के यौन शोषण से गर्भवती होने वाली लड़कियों का गर्भपात कराने वाली महिला अभी भी डेरा मुख्यालय में है। (एजेंसियां)

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :