अगर आपको भी शॉपिंग की बीमारी है तो यह 3 बातें जरूर पढ़ें


डॉ. सुश्री शरद सिंह

अक्सर यही होता है कि जब आप बाजार जाती हैं तो आप चार दुकानों में जांच-पड़ताल करके सामान खरीदने की कोशिश करती हैं। अब चारों दुकानों में सामान एक जैसा तो रहता नहीं है, अतः कई बार आप उलझन में पड़ जाती हैं कि कौन-सा अच्छा है?

कौन-सा बुरा? ये वाला लूं? या वो वाला? तय करना कठिन हो जाता है। फिर कई बार एक ही दुकानदार आपके द्वारा माँगी गई वस्तु की इतनी सारी वैरायटी दिखा देता है कि आप चकरा जाती हैं कि इनमें से कौन-सा चुना जाए?

इस समस्या से बचने के लिए कई लोग एक ही दुकान से सामान खरीद लेते हैं फिर चाहे वह सामान अपेक्षाकृत सामान्य कोटि का अथवा महंगा ही क्यों न हो। लेकिन नहीं, यह तरीका सही नहीं है। बाजार से अपनी आवश्यकता की सही वस्तु खरीदना आपका अधिकार है और इस अधिकार का सदुपयोग करने के लिए आपको करना सिर्फ इतना है कि आप जान लें कि क्या चाहती हैं आप?
इसके लिए बाजार जाने से पहले अपने मन में ये तीन बातें तय कर लें
* आप कौन-सी वस्तु खरीदने जा रही हैं?
* आप किस उत्तमता (क्वॉलिटी) की वस्तु खरीदना चाहेंगी?
* आप वस्तु की उत्तमता और अपनी आवश्यकता के अनुरूप कितना पैसा खर्च कर सकेंगी?

अब तीन बातें मन में तय करें
* आप कम से कम दो-तीन दुकानों में उस वस्तु की उत्तमता और मूल्य पता करेंगी, उसके बाद ही खरीदेंगी।
* यदि वस्तु की कई वैरायटी देखने को मिलती हैं तो आप उससे भ्रमित हुए बिना अपने निर्धारित बजट के आधार पर ही वह वस्तु खरीदेंगी।


* वस्तु की उत्तमता चाहे कितनी भी अच्छी क्यों न हो, यदि वह आपके निर्धारित बजट से बहुत अधिक की है तो आप उसे खरीदने का इरादा बिना झिझक छोड़ देंगी।
अब की तीन बातें पहले से ही अपने मन में तय कर लीजिए

* आप जो खरीदकर लाएंगी, उसके प्रति संतुष्ट रहेंगी।
* आप अधिक मूल्य के कारण जो सामान नहीं खरीद सकीं, उसे याद करके अपना मन नहीं दुखाएंगी।
* आप अपनी खरीदी हुई वस्तु को अधिक से अधिक उपयोग में लाकर उसकी सार्थकता सिद्ध कर देंगी।


वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।

और भी पढ़ें :

अटल जी की कविता : जीवन की ढलने लगी सांझ

अटल जी की कविता : जीवन की ढलने लगी सांझ
जीवन की ढलने लगी सांझ उमर घट गई डगर कट गई जीवन की ढलने लगी सांझ।

अटल जी की लोकप्रिय कविता : मेरे प्रभु! मुझे इतनी ऊंचाई कभी ...

अटल जी की लोकप्रिय कविता : मेरे प्रभु! मुझे इतनी ऊंचाई कभी मत देना
मेरे प्रभु! मुझे इतनी ऊँचाई कभी मत देना गैरों को गले न लगा सकूँ इतनी रुखाई कभी मत ...

पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी : बेदाग रहा राजनीतिक ...

पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी : बेदाग रहा राजनीतिक पटल, बहुत याद आएंगे अटल
देश के पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी बहुमुखी प्रतिभा के धनी थे। वह ना केवल एक ...

शिक्षा और भाषा पर अटल बिहारी वाजपेयी के 6 विचार, बदल सकते ...

शिक्षा और भाषा पर अटल बिहारी वाजपेयी के 6 विचार, बदल सकते हैं सोच...
अटल बिहारी वाजपेयी ने शिक्षा, भाषा और साहित्य पर हमेशा जोर दिया। उनके अनुसार शिक्षा और ...

अटल बिहारी वाजपेयी की कविता : जीवन को शत-शत आहुति में, जलना ...

अटल बिहारी वाजपेयी की कविता : जीवन को शत-शत आहुति में, जलना होगा, गलना होगा
बाधाएं आती हैं आएं घिरें प्रलय की घोर घटाएं, पांवों के नीचे अंगारे, सिर पर बरसें यदि ...

ईद-उल-अजहा क्यों कहते हैं ईदे कुरबां, जानिए...

ईद-उल-अजहा क्यों कहते हैं ईदे कुरबां, जानिए...
ईद-उल-अजहा मुस्लिम भाइयों का एक महत्वपूर्ण त्योहार है। कुरबानी से जुड़ी होने की वजह से इसे ...

ईद-उल-अजहा की कुर्बानी को लेकर शरीयत में दी गई है ये सलाह

ईद-उल-अजहा की कुर्बानी को लेकर शरीयत में दी गई है ये सलाह
मुसलमानों के लिए अल्लाह ने खुशी मनाने के लिए साल में मुकर्रर दो ईद में से एक ईदुल-अजहा

मुंह में बार-बार छाले होने से परेशान है, अब नहीं सहा जाता ...

मुंह में बार-बार छाले होने से परेशान है, अब नहीं सहा जाता दर्द... तो छालों को गायब करने के ये 12 तरीके जान लीजिए
मुंह में बार-बार छाले होने से परेशान है, अब नहीं सहा जाता दर्द तो छालों को गायब करने के ...

रक्षाबंधन पर कैसे हो सकता है पंचक दोष निवारण, जानें उपाय

रक्षाबंधन पर कैसे हो सकता है पंचक दोष निवारण, जानें उपाय ...
इस बार रक्षाबंधन का पर्व प्रतिवर्षानुसार श्रावण शुक्ल पक्ष की पूर्णिमा तिथि दिनांक 26 ...

अटलजी के निधन पर अमेरिका में भारतीय समुदाय शोकाकुल

अटलजी के निधन पर अमेरिका में भारतीय समुदाय शोकाकुल
न्यूयॉर्क। पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के निधन पर यहां भारतवंशी समुदाय के लोगों ...