क्या आपने कभी कहा है : मैं हूं ना

जब हम किसी के दुःख में सहभागी बनते हैं, तो सच में बहुत बड़ा मानवीय कर्म करते हैं। उसका दुःख तो यथावत् रहता है, किन्तु उसका दंश कम हो जाता है। कई बार दुःख की सघनता उसे शून्य मस्तिष्क कर देती है और कोई राह नहीं सूझती। तब सहयोग का एक हाथ, संवेदना का एक स्पर्श उसे समाधान की झलक दे देता है। दुःख अलग-अलग स्वरूपों में आता है। कहीं यह बिलकुल निजता में लिपटा हुआ आता है, तो कहीं सहज सामाजिक सन्दर्भों से वलयित। सामाजिक सन्दर्भों वाले दुखों में अक्सर बीमारी, नौकरी का अभाव, संतानों के विवाह, वृद्धावस्था आदि शामिल होते हैं, जिन पर सम्बन्धित व्यक्ति प्रायः चर्चा करने में संकोच नहीं करता। ऐसी दशा में हम जिस भी स्तर की मदद कर सकते हैं, अवश्य करें। संभव है कि हमारा एक कदम उसके लिए प्यासे को मिली एक जल-बूँद के समान बन जाये।
निजता में आबद्ध दुःख में सहभागी होने के लिए सर्वप्रथम 'निजता' की रक्षा की जानी चाहिए। आप उस 'अपने' को दुखी देखकर इतने विचलित हो जाते हैं कि सबसे पहले कारण जानने के लिए व्यग्र हो जाते हैं और यहीं वह आपसे दूर हो जाता है क्योंकि कई बार दुःख का कारण इतना दारुण और लज्जास्पद होता है कि सम्बन्धित के लिए उसे खुलकर कहना अत्यंत कठिन होता है। ऐसे में बेहतर यही होता है कि आप उसे केवल यह विश्वास दिलाएं कि आप हर स्थिति में उसके साथ हैं। उससे दुःख के कारण पर चर्चा के स्थान पर केवल उस दुःख के समाधान पर बात करें और उस दिशा में अपनी भूमिका तय करें। यकीन मानिये, आपका इतना सहयोग उसे अपार बल देगा। उसे महसूस होगा कि वह अकेला नहीं है। वस्तुतः यह मानवीय स्वभाव है कि सुख में सम्पूर्ण दुनिया 'अपनी' लगती है और दुःख में 'एकाकी' हो जाने का विषाद घेर लेता है। आपको उस अपने प्रियजन को इस 'एकाकीपन' से दूर ले जाना चाहिए।

इसके लिए अपने ह्रदय के समूचे स्नेह से उसकी आत्मा को स्पर्श करें। यदि आप उसके साथ भौतिक रूप से हैं, तो उसके निकट बैठकर उसके हाथों को अपने हाथों में लेकर मौन बैठें। आपका यह निर्मल स्पर्श उसका मन पढ़ लेगा और वहीं से विषाद के काले बादल छंटने लगेंगे। जब वह सहज हो जाये, तब आप समाधान पर जाएँ। यदि आप उससे दूर हैं, तो उसके दुःख पर अपनी स्नेहपगी वाणी का शीतल लेप लगाते रहिये। उसे वे सभी कार्य करने के लिए प्रोत्साहित कीजिये, जिनसे उसे आंतरिक प्रसन्नता मिले और उसका दुःख कम हो सके। आप उसे दुःख के बीच आनंदपूर्वक जीने की राह बताइये और यदि संभव हो तो स्वयं भी उस राह का एक पड़ाव बन जाइये, जहां वो जब भी रुके, उसका तप्त मन शीतलता की दो बूँद पाकर तृप्त हो जाये।
ईश्वर ने 'मानवीयता' के अणुओं से हमारी रचना की है। तभी हम मानव कहलाये। 'कहलाना' तो सभी के साथ है, लेकिन जो उसे अपने आचरण से सिद्ध भी कर दे, वही सच्चा मानव है। अन्य शब्दों में इसे ही 'मानवीयता' कहते हैं।

तो फिर देर किस बात की? अपनी मानवीयता को खुलकर जीयें। किसी 'अपने' को निज स्नेह की छाँव दीजिये, उसके दुःख पर संवेदना का मरहम लगाइये, उसके कष्ट को ह्रदय से अपना लीजिये, उसकी कंटकाकीर्ण जीवन-राह पर आत्मीयता के पुष्प बिखेर दीजिये और हौले-से उसके हाथों को अपने हाथों में लेकर कहिये-" मैं हूं ना।"

Widgets Magazine
वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :

बस,एक छोटा सा 'आभार' कम कर देगा जीवन के कई भार

बस,एक छोटा सा 'आभार' कम कर देगा जीवन के कई भार
आभार व्यक्त तो कीजिए। फिर देखिए, उसकी सुगंध कैसे आपके रिश्तों को अद्भुत स्नेह से सींचती ...

अपने लिए भी वक्त निकालें, यह वक्त का तकाजा है

अपने लिए भी वक्त निकालें, यह वक्त का तकाजा है
थोड़ा समय अपने शौक को देंगे तो आपको अपना आराम और मनोरंजन पूर्ण महसूस होगा।

जरा चेक करें कहीं आपकी कोहनी भी तो कालापन लिए हुए नहीं?

जरा चेक करें कहीं आपकी कोहनी भी तो कालापन लिए हुए नहीं?
भले ही आप चेहरे से कितनी ही खूबसूरत क्यों न हों, देखने वालों की नजर कुछ ही मिनटों में ...

5 मिनट में चमकती स्किन चाहिए तो इसे जरूर पढ़ें

5 मिनट में चमकती स्किन चाहिए तो इसे जरूर पढ़ें
जिस तरह बालों को सॉफ्ट और शाइनी बनाने के लिए आप हेयर कंडीशनिंग करते हैं, उसी तरह से त्वचा ...

पेट फूला-फूला रहता है तुंरत बदलिए लाइफ स्टाइल, पढ़ें 10 काम ...

पेट फूला-फूला रहता है तुंरत बदलिए लाइफ स्टाइल, पढ़ें 10 काम की बातें
लगातार बैठे रहने और कम मेहनत करने वालों का पेट बाहर आ जाता है लेकिन यह जरूरी नहीं है... ...

पूजा ही नहीं सेहत के लिए भी शुभ है नारियल, 6 लाभकारी नुस्खे ...

पूजा ही नहीं सेहत के लिए भी शुभ है नारियल, 6 लाभकारी नुस्खे पढ़ें और आजमाएं
नारियल को श्रीफल भी कहा जाता है। यह फल पूजा में प्रमुखता से शामिल किया जाता है। इसके ...

घर पर ही बनाएं कैंडल होल्डर

घर पर ही बनाएं कैंडल होल्डर
हम आमतौर पर घर सजाने के लिए कैंडल्स का इस्तेमाल करते हैं। बाजार में कई तरह के कैंडल ...

आंधी, तूफान, आगजनी, दुर्घटनाएं..नौतपा में मंगल-केतु का ...

आंधी, तूफान, आगजनी, दुर्घटनाएं..नौतपा में मंगल-केतु का संयोग दे रहा है खतरे का संकेत
इस वर्ष मंगल और केतु का संयोग रोहिणी में प्राकृतिक आपदाओं की स्थिति बनाएगा। इस बीच भीषण ...

अभी भी वक्त है कुदरती पानी को सहेजें

अभी भी वक्त है कुदरती पानी को सहेजें
पानी को लेकर विश्वयुद्ध की बातें अब नई नहीं हैं। सुनने में जरूर अटपटी लगती हैं लेकिन ...

जानकारों में मतभेद, हो सकती है नौतपा में भारी बरसात, अच्छे ...

जानकारों में मतभेद, हो सकती है नौतपा में भारी बरसात, अच्छे नहीं हैं प्रदेश के लिए संकेत...
जहां एक तरफ नौतपा के खूब तपने की भविष्यवाणी है वहीं दूसरी तरफ नौतपा के दौरान बारिश की ...