प्रिय तुम मेरी कविताओं में आओगे

prem geet
जब रात चांदनी रो रोकर
कोई गीत नया सुनाएगी
ओस की बूंद बनकर
धरती पर वह छा जाएगी

उसकी उस मौन व्यथा को
तुम शब्दों का रूप दे जाओगे

तुम मेरी कविताओ में आओगे
जब आंख के आंसू बहकर के

कपोलों पर ठहरे होंगे
जब काजल के शब्दों ने

कुछ गीत नए लिखे होंगे
तब इन गीतों के शब्दों में

तुम ध्वनि बनकर बस जाओगे

प्रिय तुम मेरी कविताओं में आओगे

जब पीड़ा अपने स्वर को

कैनवस पर मुखरित करेगी
गजल और गीत बनकर वो

मन मन्दिर को हर्षित करेगी
तब तुम श्याम की बांसुरी बन करके

तन-मन को महकाओगे
प्रिय तुम मेरी कविताओं में आओगे।
















वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।

और भी पढ़ें :