प्रेम गीत : मन का संगीत...





मन का संमिटने न देना कभी,
वरना जीवन का पहिया उलझ जाएगा।
के आचमन का मुहूरत नहीं,
जब भी जी चाहे अपना बना लीजिए।
फर्क इसका नहीं कौन इससे रंगा,
जो रंगा उसको दिल से लगा लीजिए।

प्यार का ही असर दर्द है बेअसर,
प्रश्न जितना कठिन हो सुलझ जाएगा।
मिटने न देना कभी,
वरना जीवन का पहिया उलझ जाएगा।

काल का चक्र रुकता नहीं है कभी,
जानते हैं सभी कौन है मानता।
वक्त का हाथ जो वक्त पर थाम ले,
उसको सारा जमाना है पहचानता।

नींद से जागकर खिड़कियां खोल दो,
वरना हाथों से अवसर निकल जाएगा।
मन का संगीत मिटने न देना कभी,
वरना जीवन का पहिया उलझ जाएगा।

कोई नयनों से निंदिया चुरा ले गया,
कैसे ख्वाबों से नजरें मिलाएंगे हम।
गीत के सारे बंदों में सिलवट पड़ी,
चांद का रूप कैसे सजाएंगे हम।

आप बोलें न बोलें मगर आईना,
आपको देखकर सब समझ जाएगा।
मन का संगीत मिटने न देना कभी,
वरना जीवन का पहिया उलझ जाएगा।

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :