प्रेम कविता : संकोच


शर्मे हयात गर तू यूं करती रही
जिन्दगी की पतवार फिर, न संभले कभी
बीत जाएगी जिन्दगी मेरी, फिर उस जहां में
जहां हुस्ने-मलिकाएं नित संवरती रही
जिगरे नांदा को न तोड़ ओ मेरे दिले नूर
वर्ना मिल जाएगी बहलाने, कई जन्नते हूर
पीव दिले करे गर मेरा, जन्नत की हूर
हुजूर जाएगा कहां फिर तेरा ये शबाबे नूर
मुझे इल्जाम न लगा देना का, हो अपने में गरूर
रबे ढ़ह जाएगी शराफत की दीवारे, गर रहा उसे मंजूर।




Widgets Magazine
वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :