शरद पूर्णिमा पर हिन्दी कविता...




पूनम की चांदनी आज खिलेगी,
बरसेंगे मोती।
खिलेगी जैसे ज्योति।
सोलह कला समाहित होंगे,
टिम-टिम करेंगे तारे।
जिस पर चंदा करेंगे कृपा,
जन होंगे बड़े निराले।

महक उड़ेगी नभ मंडल तक,
जब लहराएगी चोटी।
रोग-दोष छूमंतर होंगे,
खिलेगी जैसे ज्योति।

भ्रमण करेगी लक्ष्मी माताजी,
स्वागत करेगी रजनी।
धनी पापमुक्त मानव होंगे,
मिट जाएगी कजरी।
पूजा-पाठ सब भक्त करेंगे,
चलती रहेगी रोजी-रोटी।
रोग-दोष छूमंतर होंगे,
खिलेगी जैसे ज्योति।

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :