बारिश पर कविता : धरणी लागे अति प्यारी...


 
 
 
बरखा रानी के आते ही, 
छाई कुल हरियाली। 
हरे-भरे हैं बाग-बगीचे, 
धरणी लागे अति प्यारी।
 
भ्रमर नृत्य कलियों पर करता, 
सुना-सुना के तान। 
पुष्प निहारे भ्रमर राज को, 
बन उनकी पहिचान।
 
मोर मगन हो बन में नाचे, 
चहक रही सब क्यारी। 
हरे-भरे हैं बाग-बगीचे, 
धरणी लागे अति प्यारी।
 
बदरा कड़के अम्बर बरसे, 
चम-चम-चम जुगनू चमके। 
यौवन उधम मचाए अब तो, 
खन-खन-खन कंगन खनके। 
 
जब किसान खेतों को देखे, 
मन में होवे खुशहाली। 
हरे-भरे हैं बाग-बगीचे, 
धरणी लागे अति प्यारी।
 

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :