FIFA WC 2018: विश्वकप से पहले हाथियों ने खेला फुटबॉल मैच

आयुथाया (बैंकाक)| पुनः संशोधित मंगलवार, 12 जून 2018 (22:19 IST)
आयुथाया (बैंकाक)। दुनियाभर में फीफा के खुमार के बीच की प्राचीन राजधानी आयुथाया में मंगलवार को हाथियों के बीच हुए फुटबॉल मैच ने स्थानीय दर्शकों को रोमांचित किया और साथ ही अवैध सट्टे के खिलाफ भी जागरूक किया।

नौ हाथियों ने में 14 जून से शुरू होने वाले विश्वकप में हिस्सा लेने वाले नौ देशों के ध्वज के रंग के साथ फुटबॉल खेला और गेंद को एक दूसरे को पास किया।

यह मैच हाथियों और स्थानीय स्कूल के बच्चों के बीच 15 मिनट तक चला। आयोजकों ने बताया कि उनका मकसद बच्चों को यह सिखाना था कि विश्वकप में खेल का मजा लेना जरूरी है और इस दौरान अवैध सट्टेबाजी से दूर रहना चाहिए।

आयुथाया एलीफैंट पैलेस एंड रॉयल क्राल के प्रमुख रियांगथोंगबात मीफन ने कहा 'हाथी यहां रंग और खुशी फैलाने आए थे, इन्होंने लोगों को जागरूक किया कि वे विश्वकप के दौरान अवैध सट्टेबाजी के बजाय फुटबॉल टीमों की हौंसला अफजाई करें।' थाईलैंड अवैध सट्टेबाजी का बड़ा बाजार है।

थाईलैंड और मलेशिया फुटबॉल विश्वकप के दौरान अवैध सट्टेबाजी के लिए प्रचलित हैं, इन देशों में वैध सट्टेबाजी का विकल्प नहीं है जहां फुटबॉल काफी लोकप्रिय है। थाईलैंड में सट्टेबाजी अपराध है लेकिन पकड़े जाने पर दोषियों को केवल एक हजार बहात या 31 डॉलर तक का मामूली जुर्माना होता है।

हालांकि यदि बच्चे इसमें पकड़े जाते हैं तो उनके परिजनों को 311 डॉलर तक का जुर्माना और तीन महीने तक की जेल हो सकती है। थाई चैंबर ऑफ कामर्स के सर्वेक्षण के अनुसार इस वर्ष विश्वकप के दौरान थाईलैंड में 1.84 अरब डॉलर तक अवैध सट्टेबाजी होने की आशंका है।

एशिया की कई जांच एजेंसियां विश्वकप के दौरान अवैध सट्टेबाजी को रोकने के लिए नजर रखे हुए है। वहीं अकेले बैंकाक में पुलिस ने एक मई से अब तक 681 अवैध सट्टेबाजी के मामलों में 763 लोगों को गिरफ्तार किया है। इसके अलावा देश में 300 से अधिक सट्टेबाजी की वेबसाइटें भी काम कर रही हैं, जो विदेशों से ऑपरेट हो रही हैं। (वार्ता)


और भी पढ़ें :