ज़िंदगी मैं भी मुसाफ़िर हूँ...

WD|
तुम्हारे साथ ये मौसम फ़रिश्तों जैसा है
तुम्हारे बाद ये मौसम बहुत सतायेगा - बशीर बद्र

मैतेरा कुछ भी नहीं हूँ, मगर इतना तो बता
देखकर मुझको तेरे जेह्न में आता क्या है - शहज़ाद अहमद

जिसने दानिस्ता1 किया हो नज़रअंदाज़ 'वसीम'
उसको कुछ याद दिलायें, तो दिलायें कैसे - वसीम बरेलवी
अश्आर मेरे यूँ तो ज़माने के लिए हैं
कुछ शे'र फ़क़त उनको सुनाने के लिए हैं - जांनिसार अख़्तर

जाने क्या एहसास-सा इस दिल के तारों में है
जिनको छूते ही मेरे ‍नग़्में रसीले हो गये - शाहिद कबीर

इक जाम में गिरे हैं, कुछ लोग लड़खड़ा के
पीने गये थे चल के, लाये गये उठा के
भूले हैं रफ़्ता-रफ्‍़ता उन्हें मुद्‍दतों में हम
क़िस्तों में ख़ुदकुशी का मज़ा हमसे पूछिये - खुमार बाराबंकवी

ज़िंदगी मैं भी मुसाफ़िर हूँ तेरी कश्ती का
तू जहाँ मुझसे कहेगी, मैं उतर जाऊँगा - मुईन नज़र

ना सुनो, गर बुरा कहे कोईना कहो, गर बुरा करे कोई - ग़ालिब

जो देखने में बहुत ही क़रीब लगता है
उसी के बारे में सोचो, तो फ़ासिला निकले - वसीम बरेलवी

वीराहै मैकदा, ख़ुमो-साग़र उदास हैं
तुम क्या गये कि रूठ गए दिन बहार के - फ़ैज़
किसे बताऊँ कि गुज़री है ज़िंदगी कैसे
जहां में कोई भी भाया, तो तेरी याद आयी - ख़ालिद शरीफ़

इस नज़ाकत का बुरा हो, वो भले हैं, तो क्या
हाथ आयें, तो उन्हें हाथ लगाये न बने - ग़ालिब

हमने इलाजे-ज़ख़्मे-दिल तो ढूँढ़ लिया, लेकिन
गहरे ज़ख़्मों को भरने में वक़्त तो लगता है - हस्तीमल 'हस्ती'
मुझे फूँकने से पहले, मेरा दिल निकाल लेना
ये किसी की है अमानत, मेरे साथ जल न जाये - अनवमिर्जा

1. जान-बूझकर

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :