पंजाब में खिलाड़ियों की बल्ले-बल्ले, 23 पदक विजेताओं को मिले 15.50 करोड़

Last Updated: गुरुवार, 11 अक्टूबर 2018 (20:28 IST)
चंडीगढ़। सरकार ने इस वर्ष गोल्ड कोस्ट में हुए राष्ट्रमंडल खेलों और जकार्ता एशियाई खेलों में पदक जीतने वाले राज्य के 23 पुरुष और महिला खिलाड़ियों को गुरुवार को यहां 15.50 करोड़ रुपए के नकद पुरस्कारों, एक-एक आईफोन और प्रशस्ति पत्रों से सम्मानित किया।

मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने यहां एक समारोह में यह पुरस्कार प्रदान किए। इस मौके पर मंच पर उनका सहयोग राज्य के खेल मंत्री राणा गुरमीत सोढ़ी और पूर्व एथलीट मिल्खा सिंह ने किया। उल्लेखनीय है कि राष्ट्रमंडल खेलों में राज्य के खिलाड़ियों ने 2 स्वर्ण, 3 रजत और 3 कांस्य पदक तथा एशियाई खेलों में 3 स्वर्ण, 2 रजत और 2 कांस्य पदक जीते थे।

सम्मानित किए गए खिलाड़ियों में हीना सिद्धू को पिस्टल निशानेबाजी में राष्ट्रमंडल और एशियाई खेलों में स्वर्ण, रजत और कांस्य पदक जीतने पर 1.75 करोड़ रुपए प्रदान किए गए। राष्ट्रमंडल खेलों में बैडमिंटन खिलाड़ी प्रणव चोपड़ा को 75 लाख रुपए, निशानेबाजी में रजत पदक विजेता अंजुम मुद्गिल को 50 लाख रुपए, चक्का फेंक में नवजीत कौर ढिल्लों को 40 लाख रुपए, भारोत्तोलन में विकास ठाकुर को 40 लाख रुपए तथा प्रदीप सिंह को रजत पदक जीतने पर 50 लाख रुपए देकर सम्मानित किया।

एशियाई खेलों में गोला फेंक और नौकायन में स्वर्ण पदक जीतने पर तेजिंदरपाल सिंह तूर और स्वर्ण सिंह को 1-1 करोड़ रुपए, नौकायन में स्वर्ण पदक विजेता सुखमीत सिंह को 1 करोड़ रुपए, तिहरी कूद में स्वर्ण पदक के लिए अरपिंदर सिंह को एक करोड़ रुपए दिए गए।

कबड्डी में रजत पदक विजेता रणदीप कौर को 75 लाख रुपए, हॉकी में रजत पदक के लिए रीना खोखर को 75 लाख रुपए, हॉकी में कांस्य पदक के लिए रूपिंदर पाल को 50 लाख रुपए, हॉकी में रजत पदक जीतने पर गुरजीत कौर को 75 लाख रुपए और आकाशदीप सिंह को 50 लाख रुपए तथा मनप्रीत सिंह को 50 लाख रुपए तथा नौकायन में कांस्य पदक के लिए भगवान सिंह को 50 लाख रुपए प्रदान किए गए।

जकार्ता एशियाई खेलों में हॉकी में कांस्य पदक जीतने पर मंदीप सिंह, हरमनप्रीत सिंह, सिमरनजीत सिह, कृष्णा बहादुर पाठक और दिलप्रीत सिंह को सरकार ने 50-50 लाख रुपए प्रदान किए। ये खिलाड़ी इस समय भारतीय हॉकी के राष्ट्रीय प्रशिक्षण शिविर में हैं ऐसे में इनके परिजनों ने यह पुरस्कार प्राप्त किए।

इस मौके पर मुख्यमंत्री ने कहा कि उनकी सरकार खेलों को सतही स्तर पर बढ़ावा युवाओं को खेलों की ओर प्रेरित करने के लिए प्रतिबद्ध है। उन्होंने विश्वास व्यक्त किया कि राज्य के खिलाड़ी 2020 के टोक्यो ओलम्पिक में अच्छा प्रदर्शन करेंगे। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार खिलाड़ियों को राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय प्रतियोगिताओं की तैयारी के लिए बेहतरीन कोच के साथ हर संभव सहयोग प्रदान करेगी।

सोढ़ी ने इस अवसर पर कहा कि मुख्यमंत्री ने सम्मानित खिलाड़ियों को उनके प्रदर्शन और योग्यतानुसार सरकारी नौकरियां देने का भी आवश्वासन दिया है। खेलों में राज्य की शान पुन: बहाल करने और राज्य में खेल संस्कृति पैदा करने के लिए राज्य सरकार ने हाल ही में नई खेल नीति को हरी झंडी दी है।




खेल मंत्री के अनुसार सरकार का लक्ष्य है कि 2020 के टोक्यो ओलम्पिक खेलों में राज्य के खिलाड़ी अधिकाधिक पदक जीतें तथा उन्हें पूरी उम्मीद है कि नई खेल नीति के अच्छे परिणाम सामने आएंगे। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार ने पटियाला में खेल विश्वविद्यालय स्थापित करने के लिए जगह चिन्हित कर ली है। उन्होंने उद्योगपतियों से राज्य में खेलों को बढ़ावा देने के लिए खेल और खिलाड़ियों को अपनाने का भी आग्रह किया।




समारोह में कैबिनेट मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू, ब्रह्म मोहिंदरा, सुखबिंदर सिंह सरकारिया, साधु सिंह धर्मसोत, बलबीर सिंह सिद्धू, ऊर्जा मंत्री गुरप्रीत सिंह कांगड़, मुख्यमंत्री के मीडिया सलाहकार रवीन ठुकराल, विधायक एवं पूर्व हॉकी कप्तान परगट सिंह, पंजाब ओलम्पिक संघ के अध्यक्ष सुखदेव सिंह ढींडसा, अभिनेता एवं कॉमेडियन गुरप्रीत सिंह घुग्गी और कपिल शर्मा तथा अन्य गणमान्य अतिथि मौजूद थे।


और भी पढ़ें :