विवस्वान अर्थात सूर्य के पुत्रों के नाम जानिए...

अनिरुद्ध जोशी 'शतायु'|
सूर्य के पुत्र वैवस्वत मनु, शनि, यम, कालिन्दी, कुंति पुत्र कर्ण आदि थे। से ही चला। अदिति के प्रथम पुत्र विवस्वान् को सूर्यदेव (प्रत्यक्ष सूर्य नहीं) भी कहा जाता था। ब्रह्माजी के पुत्र मरिचि से कश्यप का जन्म हुआ। कश्यप से विवस्वान और विवस्वान के पुत्र वैवस्त मनु थे।
विश्वकर्मा की पुत्री संज्ञा विवस्वान् की पत्नी हुई। उसके गर्भ से सूर्य ने तीन संतानें उत्पन्न की। जिनमें एक कन्या और दो पुत्र थे। सबसे पहले प्रजापति श्राद्धदेव, जिन्हें वैवस्वत मनु कहते हैं, उत्पन्न हुए। तत्पश्चात और यमुना- ये जुड़वीं संतानें हुई। यमुना को ही कालिन्दी कहा गया।

भगवान् सूर्य के तेजस्वी स्वरूप को देखकर संज्ञा उसे सह न सकी। उसने अपने ही सामान वर्णवाली अपनी छाया प्रकट की। वह छाया स्वर्णा नाम से विख्यात हुई। उसको भी संज्ञा ही समझ कर सूर्य ने उसके गर्भ से अपने ही सामान तेजस्वी पुत्र उत्पन्न किया। वह अपने बड़े भाई मनु के ही समान था। इसलिए सावर्ण मनु के नाम से प्रसिद्ध हुआ।
छाया-संज्ञा से जो दूसरा पुत्र हुआ, उसकी शनैश्चर के नाम से प्रसिद्धि हुई। यम धर्मराज के पद पर प्रतिष्ठित हुए और उन्होंने समस्त प्रजा को धर्म से संतुष्ट किया। सावर्ण मनु प्रजापति हुए। आने वाले सावर्णिक मन्वन्तर के वे ही स्वामी होंगे। कहते हैं कि वे आज भी मेरुगिरि के शिखर पर नित्य तपस्या करते हैं।

Widgets Magazine
वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :

कंस मामा की 10 खास बातें जानेंगे तो चौंक जाएंगे

कंस मामा की 10 खास बातें जानेंगे तो चौंक जाएंगे
भगवान श्रीकृष्ण के मामा का नाम था कंस। यह कंस न तो राक्षस, न ही असुर और न ही दावव था। सभी ...

अधिक मास में शुद्धता और पवित्रता के साथ करें श्रीहरि विष्णु ...

अधिक मास में शुद्धता और पवित्रता के साथ करें श्रीहरि विष्णु का पूजन
पौराणिक शास्त्रों के अनुसार हर तीसरे साल पुरुषोत्तम यानी अधिक मास की उत्पत्ति होती है। इस ...

पुरुषोत्तम मास शुरू, 13 जून तक नहीं होंगी शादियां

पुरुषोत्तम मास शुरू, 13 जून तक नहीं होंगी शादियां
वर्ष 2018 में 'अधिकमास' 16 मई से 13 जून के मध्य रहेगा। इस वर्ष ज्येष्ठ मास की अधिकता ...

कृष्ण के पुत्र ने जब किया दुर्योधन की पुत्री से प्रेम तो मच ...

कृष्ण के पुत्र ने जब किया दुर्योधन की पुत्री से प्रेम तो मच गया कोहराम
महाभारत में ऐसे कई किस्से हैं जो जनमानस में प्रचलित नहीं है। हो सकता है कि आप इनको जानकर ...

आपने नहीं पढ़ी होगी अधिक मास की यह पौराणिक कथा

आपने नहीं पढ़ी होगी अधिक मास की यह पौराणिक कथा
प्रत्येक राशि, नक्षत्र, करण व चैत्रादि बारह मासों के सभी के स्वामी है, परंतु मलमास का कोई ...

श्रीकृष्ण के अंत का आश्चर्यजनक रहस्य, जानिए किसने मारा ...

श्रीकृष्ण के अंत का आश्चर्यजनक रहस्य, जानिए किसने मारा उन्हें....
जनश्रुति कहती है कि एक दिन श्रीकृष्ण प्रभाव क्षेत्र के वन में एक पीपल के वृक्ष के नीचे ...

क्यों जलाते हैं पूजा में दीपक... जानिए राज

क्यों जलाते हैं पूजा में दीपक... जानिए राज
बिना दीपक पूजा की कल्पना संभव ही नहीं है। लेकिन दीपक क्यों जलाते हैं उसका शास्त्र सम्मत ...

सिर्फ यह फूल ही नहीं बल्कि उसकी पेंटिंग भी करवा सकती है ...

सिर्फ यह फूल ही नहीं बल्कि उसकी पेंटिंग भी करवा सकती है बेटी की शादी
क्या आप जानते हैं कि एक फूल ऐसा भी है जो घर में रखने से बेटी की शादी में आ रही सारी ...

अगर आपको आ रहे हैं यह सपने तो समझो बजने वाली है शहनाई

अगर आपको आ रहे हैं यह सपने तो समझो बजने वाली है शहनाई
शादी के सपने हर युवा मन देखता है। लेकिन कुछ सपने गहरी नींद में आकर संकेत देते हैं शादी ...

विष्णुसहस्रनाम का पाठ पुरुषोत्तम मास में अवश्य पढ़ें, जानिए ...

विष्णुसहस्रनाम का पाठ पुरुषोत्तम मास में अवश्य पढ़ें, जानिए श्रीविष्णु के 1000 नाम
इन दिनों पुरुषोत्तम मास चल रहा है। यह महीना श्रीहरि विष्णुजी की उपासना का माना गया है। इन ...

राशिफल