कोर्स की किताबों के अलावा धर्म, दर्शन और इतिहास की जानकारी क्यों जरूरी?

अनिरुद्ध जोशी|
वर्तमान युग में युवा अपने के बारे में ज्यादा ध्यान देते हैं। कोर्स की किताबों को पढ़ते पढ़ते वे थोड़ी बहुत सभी विषयों की जानकारी ले लेते होंगे लेकिन अधिकतर का शून्य होता है। हो सकता है कि उन्हें, दवा, दारू, व्यापार, तकनीक, विज्ञान, सरकारी योजना, यात्रा, मनोरंजन, बॉलीवुड, शॉपिंग माल आदि की जानकारी हो लेकिन यह जानकारी उनके जीवन में कम ही लाभ पहुंचाती है, क्योंकि यह जानकारी तो सभी हासिल कर लेते हैं।

लेकिन बहुत कम लोगों को देश-विदेश की संस्कृति, मनोविज्ञान, स्थानीय एवं परंपरागत ज्ञान, धर्म, और की जानकारी होती है। अब सवाल यह उठता है कि और दर्शन की जानकारी का क्या फायदा। जिस तरह आपको चलने के लिए ऊर्जा की जरूरत होती है उसी तरह आपके कर्म और विचारों को विस्तार देने के लिए धर्म, दर्शन और इतिहास की जानकारी जरूरी होती है। हमने देखा है कि डॉक्टर होकर भी अधिकतर लोगों में संवेदना और सेवा का कोई भाव नहीं है।

डॉक्टर, इंजीनियर, वकील, नेता, अभिनेता होना कोई बहुत बड़ी बात नहीं। लेकिन महान डॉक्टर, वैज्ञानिक और नेताओं के जीवन को पढ़ेंगे तो आपको पता चलेगा कि उन्हें धर्म, दर्शन, भूगोल और इतिहास की अच्छी खासी जानकारी थी। दर्शन के बगैर विज्ञान अधूरा है। कालांतर में कई ऐसे वैज्ञानिक हुए हैं जिन्होंने धर्म और दर्शन को पढ़कर ही अपने अविष्कार को अंजाम दिया या नई खोज की। आपके भीतर धर्म या दर्शन नहीं है तो आप एक ऐसे इंसान है जिसके भीतर आत्मा नहीं है।

हालांकि आप सोच रहे होंगे कि धर्म और इतिहास की जानकारी का संबंध जिंदगी या रोजमर्रा के जीवन से कैसे?

दरअसल, यह जानकारी आपकी सोच को विस्तृत और सही बनाती है। साथ ही यह ज्ञान आपके जीवन में बहुत काम आता है। आपको बचपन में हिन्दू, बौद्ध, ईसाई, मुस्लिम, वामपंथी संस्कार मिले होंगे। हो सकता है कि आपको नवबौद्ध, श्वेतांबर, प्रोटेस्टेंट, शियाओं या ब्राह्मणों के प्रति नफरत सिखाई गई हो या आप खुद ही इनसे नफरत करना सीख गए हों। यह भी हो सकता है कि नफरत फैलाने वाले लोगों के यूट्यूब चैनल से आप प्रभावित हो। तब आप जिंदगी में यह कभी नहीं जान पाएंगे कि सत्य क्या है।

हां, यदि आप अपना कोई राजनीतिक या धार्मिक हित साधना चाहते हैं तो निश्चित ही सोचते रहें किसी के भी खिलाफ। व्यवस्था और क्रांति के नाम पर आपको हांका जाएगा। आप यह सोचते हैं कि हम पढ़-लिखकर सोचने लगे हैं तो आप सचमुच ही व्यर्थ ही सोच रहे हैं।

सभी धर्मों की जानकारी और इतिहास की सभी दृष्टिकोण से जानकारी जरूरी है, तभी आपके मन और मस्तिष्क में सही सोच का विकास होगा। धर्म और इतिहास को यदि आपने वामपंथ की नजर से देखा है तो आप कभी सही नहीं समझ पाएंगे। सभी धर्मों का अध्ययन सीधे-सीधे करना चाहिए। जैसे गीता, उपनिषद, कुरआन, बाइबल, गुरुग्रंथ साहिब, धम्मपद, समयसार,‍ जिनसूत्र आदि सभी को आप खुद पढ़ें और समझें। लगभग सभी प्रसिद्ध दार्शनिकों सहित वर्तमान में प्रचलित दार्शनिकों की किताबें पढ़ना चाहिए, लेकिन किसी से भी प्रभावित होने की जरूरत नहीं है।

देश और धर्म का इतिहास जानना भी जरूरी है। इतिहास में अधिकतर आपने राजाओं या राजनीतिज्ञों के ही बारे में पढ़ा होगा। स्कूलों में यही पढ़ाए जाते हैं, लेकिन आपको धर्मों के इतिहास का अध्ययन भी करना चाहिए। धर्मों के इतिहास में आप पैगंबरों, अवतारों, तीर्थंकरों, बुद्धों, गुरुओं और सिद्ध पुरुषों के बारे में ही नहीं जानना है यह भी जानना चाहिए कि किस तरह हिन्दू, जैन बौद्ध और ईसाई धर्म का उत्थान, विकास और पतन हो गया। और भी बहुत कुछ। धन्यवाद।

Widgets Magazine
वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :

ऐसा हो मंदिर कि 'भगवान' भी रहने को मजबूर हो जाए....

ऐसा हो मंदिर कि 'भगवान' भी रहने को मजबूर हो जाए....
घर का मंदिर सुंदर, स्वच्छ और इतना पवित्र होना चाहिए कि भगवान भी ठहरने को मजबूर हो जाए...

शत्रु और खतरों से सुरक्षा करते हैं ये मंत्र, अवश्य पढ़ें...

शत्रु और खतरों से सुरक्षा करते हैं ये मंत्र, अवश्य पढ़ें...
बौद्ध धर्म को भला कौन नहीं जानता। बौद्ध धर्म भारत की श्रमण परंपरा से निकला महान धर्म ...

हिंदू धर्मग्रंथों का सार, जानिए किस ग्रंथ में क्या है?

हिंदू धर्मग्रंथों का सार, जानिए किस ग्रंथ में क्या है?
अधिकतर हिंदुओं के पास अपने ही धर्मग्रंथ को पढ़ने की फुरसत नहीं है। वेद, उपनिषद पढ़ना तो ...

हिन्दू धर्मग्रंथ गीता : कब, कहां, क्यों?

हिन्दू धर्मग्रंथ गीता : कब, कहां, क्यों?
3112 ईसा पूर्व हुए भगवान श्रीकृष्ण का जन्म हुआ था। कलियुग का आरंभ शक संवत से 3176 वर्ष ...

सिर्फ और सिर्फ एक हनुमान मंत्र, रखेगा आपको पूरे साल

सिर्फ और सिर्फ एक हनुमान मंत्र, रखेगा आपको पूरे साल सुरक्षित
इस विशेष हनुमान मंत्र का स्मरण जन्मदिन के दिन करने पर पूरे साल की सुरक्षा हासिल होती है ...

27 अप्रैल 2018 : आपका जन्मदिन

27 अप्रैल 2018 : आपका जन्मदिन
अंक ज्योतिष का सबसे आखरी मूलांक है नौ। आपके जन्मदिन की संख्या आपस में जुड़ कर नौ होती है। ...

27 अप्रैल 2018 के शुभ मुहूर्त

27 अप्रैल 2018 के शुभ मुहूर्त
शुभ विक्रम संवत- 2075, अयन- उत्तरायन, मास- वैशाख, पक्ष- शुक्ल, हिजरी सन्- 1439, मु. मास- ...

30 मुहूर्तों के नाम, कौन से मुहूर्त में क्या करें, जानिए

30 मुहूर्तों के नाम, कौन से मुहूर्त में क्या करें, जानिए
मुहूर्त को लेकर मुहूर्त मार्तण्ड, मुहूर्त गणपति, मुहूर्त चिंतामणि, मुहूर्त पारिजात, धर्म ...

यहां अवतरित हुए थे भगवान नृसिंह, मनेगा लक्ष्मीनृसिंह ...

यहां अवतरित हुए थे भगवान नृसिंह, मनेगा लक्ष्मीनृसिंह चंदनोत्सव
स्थल पुराण के अनुसार भक्त प्रहलाद ने ही इस स्थान पर नृसिंह भगवान का पहला मंदिर बनवाया था। ...

नृसिंह अवतार का आश्चर्यजनक रहस्य, आपको जरूर जानना चाहिए

नृसिंह अवतार का आश्चर्यजनक रहस्य, आपको जरूर जानना चाहिए
धारणा है कि भक्त प्रह्लाद के जीवन की रक्षा के लिए भगवान विष्णु ने इसी स्तंभ से नृसिंह ...

राशिफल