स्वास्थ्य लक्ष्यों को पूरा करने में बहुत पीछे है भारत

वॉशिंगटन|


वॉशिंगटन। भारत ने 2030 तक स्वास्थ्य से जुड़े संयुक्त राष्ट्र के सतत विकास लक्ष्य (एसडीजी) को हासिल करने की दिशा में बहुत धीमी प्रगति की है। देश को इससे जुड़ी एक सूची में मिला है।

द लैंसेट की ओर से बुधवार को प्रकाशित वैश्विक स्वास्थ्य समीक्षा में देश को वायु प्रदूषण, स्वच्छता, हैपेटाइटिस बी और अन्य मापकों पर बहुत कम अंक मिले हैं। इस प्रतिष्ठित जर्नल में प्रकाशित 'द ग्लोबल बर्डन ऑफ डिजीज' नामक अध्ययन में इन लक्ष्यों तक पहुंचने को लेकर विश्व की स्थिति से जुड़ नए आकलन दिए गए हैं।

रिपोर्ट में कहा गया है कि जहां कुछ देशों ने उल्लेखनीय प्रगति की है, वहां अब भी बहुत अधिक प्रगति की जरूरत है। यह अध्ययन 188 देशों के 1990-2014 तक के रुझान और 2030 की संभावनाओं को लेकर किया गया पहला समग्र विश्लेषण है। विश्लेषण में स्वास्थ्य संबंधी समग्र एसडीजी सूची के अनुसार देशों को रैंक प्रदान किया गया है।

सिंगापुर, आइसलैंड और स्वीडन इस सूची में सबसे अच्छा प्रदर्शन करने वाले देशों में हैं, जबकि सोमालिया, मध्य अफ्रीकी गणराज्य और अफगानिस्तान सबसे निचले स्थान पर हैं। ब्रिटेन इस सूची में 10वें स्थान पर है, लेकिन अन्य देशों की तुलना में बाल यौन शोषण, शराब के उपभोग, धूम्रपान और अधिक वजन वाले बच्चों के मापदंड पर उसका प्रदर्शन बहुत खराब रहा है।

अमेरिका को 24वां स्थान मिला है, लेकिन खुदकुशी, बाल यौन शोषण और शराब के उपभोग जैसे क्षेत्रों में उसका प्रदर्शन अच्छा नहीं रहा है। पड़ोसी देश चीन का वायु प्रदूषण, सड़क दुर्घटना में जख्मी होने, विषाक्तता और धूम्रपान जैसे क्षेत्रों में प्रदर्शन खराब रहा है और उसे सूची में 74वां स्थान मिला है। (एजेंसियां)



और भी पढ़ें :

लिपबाम के फायदे जानते हैं और इसे लगाते हैं, तो इसके नुकसान ...

लिपबाम के फायदे जानते हैं और इसे लगाते हैं, तो इसके नुकसान भी जरूर जान लें
लिप बाम सौंदर्य प्रसाधन में आज एक ऐसा प्रोडक्ट बन चुका है, जिसके बिना किसी लड़की व महिला ...

पति यदि दिखाए थोड़ी सी समझदारी तो पत्नी भूल जाएगी नाराज होना

पति यदि दिखाए थोड़ी सी समझदारी तो पत्नी भूल जाएगी नाराज होना
पति-पत्नी के बीच घर के दैनिक कार्य को लेकर, नोकझोंक का सामना रोजाना होता हैं। पति का ...

क्या आपको भी होती है एसिडिटी, जानिए प्रमुख कारण और बचाव

क्या आपको भी होती है एसिडिटी, जानिए प्रमुख कारण और बचाव
मिर्च-मसाले वाले पदार्थ अधिक सेवन करने से एसिडिटी होती है। इसके अतिरिक्त कई कारण हैं ...

फलाहार का विशेष व्यंजन है चटपटा साबूदाना बड़ा

फलाहार का विशेष व्यंजन है चटपटा साबूदाना बड़ा
सबसे पहले साबूदाने को 2-3 बार धोकर पानी में 1-2 घंटे के लिए भिगो कर रख दें।

बालों को कलर करते हैं, तो पहले यह सही तरीका जरूर जान लें

बालों को कलर करते हैं, तो पहले यह सही तरीका जरूर जान लें
हर बार आप सैलून में ही जाकर अपने बालों को कलर करवाएं, यह संभव नहीं है। बेशक कई लोग हमेशा ...

दूषित सोच से पीड़ित एक प्रसिद्ध भारतीय अर्थशास्त्री

दूषित सोच से पीड़ित एक प्रसिद्ध भारतीय अर्थशास्त्री
पिछले सप्ताह विश्व प्रसिद्ध अर्थशास्त्री अमर्त्य सेन ने मोदी सरकार की आर्थिक नीतियों के ...

यदि पैरेंट्स के व्यवहार में हैं ये 4 बुरी आदतें तो आपके ...

यदि पैरेंट्स के व्यवहार में हैं ये 4 बुरी आदतें तो आपके बच्चे को बिगड़ने से कोई नहीं रोक सकता!
पैरेंट्स की कुछ ऐसी आदतें होती हैं, जो वे बच्चों को सुधारने, कुछ सिखाने-पढ़ाने और नियंत्रण ...

क्या आप भी संकोची हैं, अपना ही सामान मांग नहीं पाते हैं तो ...

क्या आप भी संकोची हैं, अपना ही सामान मांग नहीं पाते हैं तो यह एस्ट्रो टिप्स आपके लिए है
क्या आप भी संकोची हैं, अगर हां तो यह आलेख आपके लिए है...

कैंसर की रिस्क लेना अगर मंजूर है तो ही इन 7 सामान्य लक्षणों ...

कैंसर की रिस्क लेना अगर मंजूर है तो ही इन 7 सामान्य लक्षणों को नजरअंदाज करें, वरना हो सकती है बड़ी परेशानी
ये बीमारी भी ऐसे ही सामने नहीं आती। इसके भी लक्षण हैं जो आप और हम जैसे लोग अनदेखा करते ...

श्री गुरु पूर्णिमा : कैसे मनाएं घर में पर्व जब कोई गुरु ...

श्री गुरु पूर्णिमा : कैसे मनाएं घर में पर्व जब कोई गुरु नहीं हो...ग्रहण के कारण इस समय कर लें पूजन
वे लोग जिन्हें गुरु उपलब्ध नहीं है और साधना करना चाहते हैं उनका प्रतिशत समाज में अधिक है। ...