GST का एक वर्ष, जानें कमियां, सुधार

जीएसटी को 1 जुलाई को एक वर्ष पूरा हो जाएगा। 17 कानून खत्म करके जीएसटी लागू होने से व्यापारियों को अत्यधिक कंप्लायंस से छूट मिल गई है। अब मैनली दो ही डिपार्टमेंट से कंप्लायंस करना है। जीएसटी और इनकम टैक्स। इससे अच्छा कुछ नहीं हो सकता था। व्यापार की गति बहुत बढ़ गई है, अब 6 माह में गुड्स की उधारी का पैसा नहीं दे पाने से आईटीसी वापस करने की मजबूरी होने से व्यापारी पैमेंट तुरंत करने लगे हैं, जिससे व्यापारी का पैसा डूबना करीब-करीब बंद हो गया है।

पहले व्यापारी को सर्विस टैक्स अलग भरना होता था और सेल्स टैक्स अलग भरना पड़ता था। ज्यादातर केस में सर्विस टैक्स का इनपुट डूब जाता था। सेल्स टैक्स का ही इनपुट मिलता था। अब क्रॉस क्रेडिट उपलब्ध होने से व्यापारी और उपभोक्ता को कम टैक्स देना पड़ रहा है। यह एक व्यापारी और उपभोक्ता के लिए छुपी हुई बचत है। ऐसा लगता है कि आगे जाकर महंगाई कम होगी। सरकार को प्रोडक्ट कितने में मिल रहा था और अब क्या भाव है, इसका एनालिसिस उपभोक्ता के हित के लिए जरूर करना चाहिए, ताकि गुड्स के भाव कम हो सकें।

कई बड़ी कंपनियों ने प्लानिंग के तहत जीएसटी होने के पहले ही भाव बढ़ा दिए थे। जीएसटी की दर 18 प्रतिशत सर्विस सेक्टर पर होने से उपभोक्ता इसे स्वीकार नहीं कर पा रहा है। सर्विस सेक्टर का भार डायरेक्ट बहुत छोटे-छोटे उपभोक्ता पर पड़ रहा है। इसे छोटे सर्विस सेक्टर वालों पर तुरंत कम कर देना चाहिए। जीएसटी में 3B भरने पर थोड़ी-सी भी गलती जैसे एक जीरो कम हो गया तो एक बार टैक्स भरने के बाद उसका पैसा सरकार के पास होते हुए भी उसे ब्याज अगले माह 18 प्रतिशत की दर से देना होता है।

इसे व्यापारी ठगा-सा महसूस कर रहा है। इसमें सरकार को उसी रिटर्न में सुधार करने या कम से कम उसी वक्त टैक्स भरने की सुविधा देना चाहिए, ताकि व्यापारी पर जबरन ब्याज का बोझ न पड़े। भारत में सामान्यतया व्यापारी गुड्स के व्यापार के साथ दलाली या रिपेयरिंग की सर्विस भी करता है। चूंकि कम्पोजीशन की सुविधा सिर्फ गुड्स वालों को है तो लोग अभी कम्पोजीशन नहीं ले पा रहे हैं। कम से कम 5 लाख की सर्विस की आय होने पर भी कम्पोजीशन देना चाहिए।

इसमें अभी भी कई व्यापारी जानकारी के अभाव में कम्पोजीशन में हैं और सर्विस भी दे रहे हैं। 3B रिटर्न को मंथली GSTR-1 के साथ मैच न करें, इसे वार्षिक रिटर्न के साथ ही ग्रॉस करके मैच करें। इस वर्ष तो करीब-करीब सभी ने गलतियां की हैं। इसके कारण सरकारी काम बढ़ेगा और व्यापारी परेशान होगा और समय नष्ट होगा। सरकार को ऑप्शन देना चाहिए की ई-वे बिल को ऑनलाइन इनवॉइस के साथ जोड़कर एक ही कागज से काम हो जाए, ताकि ई-वे बिल बार-बार अलग से न बनाना पड़े।

व्यापारी का पूरा महीना एकाउंटेंट्स और सीए के चक्कर लगाते-लगाते निकल जाता है और कानून नया होने से गलती सभी से हो रही है, 50 करोड़ से कम वाले के लिए रिटर्न को तुरंत क्वार्टरली कर देना चाहिए। बड़ी कंपनी तो अपने ऑफिस में ही कार्य कर लेती है। छोटे व्यापारी परेशानी का सामना कर रहे हैं। टैक्स माहवारी चालान में ही विक्रय और खरीदी की ग्रॉस अमाउंट भरवाकर जमा कर लें, जिसका क्रय-विक्रय का मिलान न करें। कम ज्यादा हो तो ब्याज तो ले ही रहे हैं। सबसे ज्यादा जरूरत सरकार के ही विभिन्न डिपार्टमेंट में सुधार की है। सरकारी डिपार्टमेंट में अभी भी बिल नहीं लेते हैं।

बाबू लोग जीएसटी के नियम को समझने के लिए तैयार नहीं हैं। अपने हिसाब से पेमेंट काट कर करते हैं, व्यापारी जीएसटी का रिटर्न नहीं रोक सकता है, इसलिए व्यापारी का बहुत सारा पूंजी का पैसा टैक्स के रूप में सरकार के पास चला जाता है और आईटीसी नहीं मिलती है। वार्षिक रिटर्न भी मैच नहीं हो पाएंगे। खासकर छोटे कांट्रेक्टर बहुत परेशान हैं। इसमें तुरंत सुधार करना चाहिए। रिवर्स चार्जेज आने वाली बड़ी समस्या है क्योंकि इसे लागू करते ही बहुत ही छोटे-छोटे लोग जिनका विक्रय 20 लाख से कम है उनको रजिस्ट्रेशन लेना होगा और कंप्लायंस कास्ट व्यापारी की जीएसटी में सबसे ज्यादा हो गई है, क्योंकि प्रत्येक छोटे व्यापारी, जो कि अकाउंट्स और कंप्यूटर की जानकर के अभाव में हैं, उन्‍हें इस खर्चे को वहन करना भारी पड़ रहा है।

किराए की आय व अन्य आय पर रिवर्स चार्जेज लागू नहीं करना चाहिए, क्योंकि इसमें छोटे-छोटे लोग खासकर महिलाएं जिनके नाम प्रॉपर्टी है, बहुत परेशान हो जाएंगे। रिफंड क्लेम करते ही व्यापारी के ITC में से अमाउंट नामे हो जाता है और रिफंड नहीं मिलता है तो व्यापारी ना तो उसका उपयोग टैक्स भरने में कर पा रहा है, न ही रिफंड राशि उसे आसानी से मिल पा रही है। इसमें प्रोविसिनल रूप से नामे करें और व्यापारी को छूट हो कि वह रिफंड का अमाउंट भी टैक्स पेमेंट में कर सके और उसका रिफंड क्लेम ऑटोमेटिक कम हो जाए।

मतलब बीच में वह स्विच कर सके। पोर्टल सॉफ्टवेयर को इम्प्रूव करने में छोटे-छोटे जानकार और परेशानी का सामना करने वाले व्यापारी और सलाहकार की मदद उपलब्ध कराना चाहिए ताकि वह मूल समस्या को समझ सके। इन सुधारों से सरकार का टैक्स कलेक्शन दोगुना भी हो सकता है। छोटे लोगों की कंप्लायंस लागत घटाना बहुत जरूरी है।

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।

और भी पढ़ें :

युवती ने ठुकराई अरबों की संपत्ति, बनीं जैन साध्‍वी

युवती ने ठुकराई अरबों की संपत्ति, बनीं जैन साध्‍वी
गुजरात में अरबपति परिवार से ताल्लुक रखने वाली और एमबीबीएस में गोल्ड मेडल हासिल कर चुकी ...

समय से काम पर पहुंचने के लिए रात भर चलता रहा

समय से काम पर पहुंचने के लिए रात भर चलता रहा
अलबामा में एक कर्मचारी अपनी ड्यूटी पर पहुंचने के लिए 30 किलोमीटर पैदल चल कर आया। बॉस को ...

खुशखबर, अब कम भीड़ वाली ट्रेनों में मिलेगी 10% तक छूट

खुशखबर, अब कम भीड़ वाली ट्रेनों में मिलेगी 10% तक छूट
नई दिल्ली। रेलवे ने यात्रियों को एक बड़ी सौगात देते हुए उन ट्रेनों में 10% तक छूट देने का ...

एलआईसी में निकली बंपर वेकेंसियां, जल्द करें आवेदन

एलआईसी में निकली बंपर वेकेंसियां, जल्द करें आवेदन
भारतीय जीवन बीमा निगम ने असिस्टेंट एडमिनिस्ट्रेटिव ऑफिसर्स के 700 पदों के लिए आवेदन ...

फीचर फोन का गया जमाना, 501 रुपए में मिलेंगे स्मार्ट फोन के ...

फीचर फोन का गया जमाना, 501 रुपए में मिलेंगे स्मार्ट फोन के सारे फीचर्स...
अब महंगे स्मार्ट फोन का जमाना गया। अब मात्र 501 रुपए के फोन में आपको स्मार्ट फोन के सारे ...

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा, आंध्र प्रदेश के विकास में कोई कसर ...

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा, आंध्र प्रदेश के विकास में कोई कसर नहीं छोड़ेंगे
नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को आंध्र प्रदेश की जनता को आश्वासन दिया ...

न्यायाधीश ने हार्दिक की याचिका पर सुनवाई से खुद को किया अलग

न्यायाधीश ने हार्दिक की याचिका पर सुनवाई से खुद को किया अलग
अहमदाबाद। गुजरात उच्च न्यायालय के न्यायमूर्ति आरपी धोलारिया ने पाटीदार आरक्षण आंदोलन के ...

अविश्वास प्रस्ताव: हार के बाद नायडू ने कहा- प्रधानमंत्री ने ...

अविश्वास प्रस्ताव: हार के बाद नायडू ने कहा- प्रधानमंत्री ने सत्ता का अहंकार दिखाया
अमरावती। लोकसभा में शुक्रवार रात तेलुगू देशम पार्टी की ओर से लाए गए अविश्वास प्रस्ताव ...

कोहेन ने प्लेब्वॉय मॉडल को भुगतान देने की बातचीत की थी ...

कोहेन ने प्लेब्वॉय मॉडल को भुगतान देने की बातचीत की थी रिकॉर्ड
न्यूयॉर्क। अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के लंबे समय से वकील रहे माइकल कोहेन ने ...

सोमालिया में खतना करने के दौरान 10 वर्षीय लड़की की मौत

सोमालिया में खतना करने के दौरान 10 वर्षीय लड़की की मौत
जोहानसबर्ग। सोमालिया में 10 वर्षीय एक लड़की की मौत खतना के दौरान हुए रक्तस्राव की वजह से ...

Oppo Find X दुनिया का सबसे खास कैमरे वाला स्मार्टफोन भारत ...

Oppo Find X दुनिया का सबसे खास कैमरे वाला स्मार्टफोन भारत में लांच, 35 मिनट में होगा फुल चार्ज
ओप्पो ने अपना Oppo Find X भारत में लांच कर दिया है। इस फोन को सबसे पहले पेरिस में लांच ...

Oppo A3s स्मार्टफोन 'सुपर फुल स्क्रीन' पैनल और आ सकते हैं ...

Oppo A3s स्मार्टफोन 'सुपर फुल स्क्रीन' पैनल और आ सकते हैं ये दमदार फीचर्स
चीनी कंपनी Oppo भारत में एक से बढ़कर एक स्मार्ट फोन लांच कर रही है। अब ओप्पो नया फोन लांच ...

एमटेक ने लांच किए दो फीचर फोन

एमटेक ने लांच किए दो फीचर फोन
नई दिल्ली। किफायती मोबाइल फोन बनाने वाली कंपनी एम टेक ने दो नए फीचर फोन रागा और वी 10 लॉच ...

नौ कैमरे वाला स्मार्ट फोन, DSLR कैमरा भी हो जाएगा फेल

नौ कैमरे वाला स्मार्ट फोन,  DSLR कैमरा भी हो जाएगा फेल
मोबाइल कंपनियां रोज नई टेक्नोलॉजी ला रही हैं। अब मोबाइल का इस्तेमाल बातें करने के लिए ...

लांच हुआ Spice F311, 6 हजार से कम कीमत में मिलेंगे ये ...

लांच हुआ Spice F311, 6 हजार से कम कीमत में मिलेंगे ये बेहतरीन फीचर्स
स्पाइस की भारत के स्मार्टफोन मार्केट में एक अलग पहचान है। स्पाइस ने अपना नया स्मार्ट फोन ...