व्यंग्य : साहित्य के प्रधान सेवक

lekhan



मिश्राजी हैं। साहित्य सेवा का यह बीड़ा उन्होंने 55 किलोग्राम श्रेणी में ही उठा लिया था, जब वे पर एक पैर पर खड़े थे। मिश्राजी ने यह जिम्मेदारी साहित्य के बिना कहे ही अपने कंधों और शरीर के हर अंग पर ले रखी है। साहित्यिक चौकीदारी का यह पद मिश्राजी बिना किसी पारिश्रमिक के श्रमिक की तरह कब्जाए हुए हैं।
साहित्य के इतिहासकार, साहित्यिक चौकीदारी की सूनी मांग और सूनी गोद भरने का श्रेय मिश्राजी को ही देते हैं। मिश्राजी बचपन से ही सफल और धनी साहित्यकार बनना चाहते थे लेकिन किस्मत और प्रतिभा दोनों ने साझा सरकार बनाकर मिश्राजी को धोखा दिया और मिश्राजी के साहित्यकार बनने के सपने पर केंट आरो का पानी फेर दिया। विडंबना रही कि किस्मत और प्रतिभा की यह साझा बेईमानी भी मिश्राजी को अपनी साहित्यिक डुगडुगी बजाने से नहीं रोक सकी।
शुरुआत में साहित्य बहुत ही आशाभरी निगाहों से मिश्राजी की ओर निहार रहा था लेकिन अब मिश्राजी की हेराफेरी से हारकर उसने अपनी आंखें फेर ली हैं। साहित्य और साहित्यकारों पर मिश्राजी का प्रकोप मौसमी बीमारियों की तरह बेवफा नहीं होता है बल्कि 'लवेरिया' की तरह सदाबहार होता है।

साहित्य की चौकीदारी करने के कर्म का मर्म अच्छी तरह से मिश्राजी को कंठस्थ है और वे अक्सर उसी में ध्यानस्थ रहते हैं। कविता, व्यंग्य, गीत, गजल, कहानी आदि साहित्यिक विधाओं पर मिश्राजी दयालु और निरपेक्ष भाव से अपनी वक्रदृष्टि का वज्रपात बारी-बारी से नियमित रूप से करते हैं। मिश्राजी मन में सोचते हैं कि उनकी वक्रदृष्टि, सुदर्शन चक्र बनकर खुद का समय और रचनाकारों के साहित्यिक पाप अच्छे से काट रही है।
किसी भी साहित्यिक विधा से मिश्राजी कोई इरादतन भेदभाव नहीं बरतते हैं। वे 'सबका साथ, सबका विकास' की तर्ज पर सभी रचनाओं के रचनाकारों के मुखमंडल पर साहित्य को कलंकित और दूषित करने का आरोप मलकर हल्के होते हैं। किसी भी विधा का लेखक अपने को लेखक मानने की भूल नहीं कर सकता, जब तक कि मिश्राजी उसे लेखक मानने की भूल न कर दे। 'कवि, व्यंग्यकार, कथाकार चाहे सब पर हो भारी/ है सब मिश्रा ताड़ना के अधिकारी।' साहित्य के क्षेत्र में मिश्राजी पहले अपेक्षा के शिकार हुए, फिर उपेक्षा के शिकार हुए लेकिन फिर भी मिश्राजी ने अपने शिकार करना नहीं छोड़ा।
साहित्य के क्षेत्र में नवागंतुकों की रचनाओं को मिश्राजी की विशेष कुदृष्टि का लाभ मिलता है। नवागंतुकों की रचनाओं को मिश्राजी को पढ़ने की जरूरत ही नहीं पड़ती है। वे उन्हें सूंघकर ही रिजेक्ट कर देते हैं। किसी नए रचनाकार की रचना अगर कपितय कारणों से मिश्राजी का कोपभाजन का शिकार होने से रह जाए तो यह रचनाकार के लिए बड़ा साहित्यिक अपशगुन माना जाता है।

किसी भी साहित्यपिपासु के लिए अपनी रचनाओं पर मिश्राजी की लानत के हस्ताक्षर होना अच्छी 'साहित्यिक बोहनी' माना जाता है। अगर रचनाकार ज्यादा लक्की हो तो उन्हें बिना मांगे ही मिश्राजी की लानत हाथ लग जाती है जिसे वे जीवनभर पैरों में आने से बचाकर उसका सम्मान करते हैं। साहित्य की सीमारेखा भले ही किसी बिंदु पर जाकर समाप्त हो जाती हो लेकिन साहित्य के भीतर मिश्राजी किसी सीमा या रेखा के मोहताज नहीं हैं। सभी रचनाओं तक उनकी वैध-अवैध पहुंच है, जो कि मिश्राजी को बिना कटघरे में रखे उनके साहित्य प्रेम की गवाही देता है।
मिश्राजी कभी-कभी समय और कलम निकालकर खुद भी लिख लेते हैं। वे सतर्क लेखक हैं। लिखते वक्त ही नहीं बल्कि लिखने के बाद भी उनकी सतर्कता अपने पूरे 'तांडवात्मक शबाब' पर रहती है जिसे नियंत्रित करने के लिए कभी-कभी उनके शुभचिंतकों को आपातकालीन परिस्थितियों में भरे गले और खाली दिमाग से साहित्यिक देवी-देवताओं का आह्वान भी करना पड़ता है। लिखने के बाद मिश्राजी की एक आंख लाइक की संख्या पर तो दूसरी मोबाइल की बैटरी परसेंटेज पर रहती है। मिश्राजी स्वभाव से अच्छे बंदे हैं लेकिन साहित्यिक सतर्कता ने उनकी साहित्यिक चेतना को जबरन बंदी बना रखा है।
केवल लेखक ही नहीं, बल्कि एक पाठक के तौर पर भी मिश्राजी साहित्यिक सतर्कता को नहीं बख्शते हैं। दुर्घटनावश वे एक सतर्क और सजग पाठक भी हैं। हर स्क्रीन शॉट में बैटरी परसेंटेज भी पढ़ डालते हैं। वे अध्ययन में रुचि और धैर्य दोनों रखते हैं। अभी तक अपनी सभी महिला मित्रों के इनबॉक्स वार्तालाप के स्क्रीन शॉट्स चाव और ध्यान से पढ़ चुके हैं। वे वार्तालाप से प्रेमालाप की तरफ गमन करने में विश्वास रखते हैं ताकि साहित्यिक आवागमन में सुविधा रहे।
मिश्राजी साहित्यिक चौकीदारी को एक विशेषज्ञ कर्म और कांड मानते और मनवाते हैं इसीलिए साहित्यिक सूत्रों को पूरा भरोसा है कि मिश्राजी ने भले ही अपने जीवन में कुछ अच्छे से न लिखा हो लेकिन अपनी 'साहित्यिक चौकीदारी' की वसीयत वे जरूर अच्छे से अपनी तरह ही किसी योग्य व्यक्ति के नाम लिखेंगे।

Widgets Magazine
वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :

जींस खरीदने से पहले यह जानना बहुत जरूरी है

जींस खरीदने से पहले यह जानना बहुत जरूरी है
जब जींस पहनने की शुरुआत हुई थी तब यह फैशन को ध्यान में रखते हुए नहीं हुई थी और न ही इसे ...

बस 1 हफ्ते में त्वचा के काले धब्बे गायब, पपीते का फैस पैक ...

बस 1 हफ्ते में त्वचा के काले धब्बे गायब, पपीते का फैस पैक करेगा जादू
पपीता आपकी पाचन क्रिया को संतुलित रखने के साथ-साथ आपके चेहरे को भी बेदाग बनाता है।

सनग्लासेस पहनने के 4 फायदे...

सनग्लासेस पहनने के 4 फायदे...
सही चश्‍मा पहनते ही हम एकदम से स्टाइलिश और फैशनेबल दिखने लगते हैं। चश्मे हमें केवल अच्छा ...

आपके मन को लुभाएगी ये पारंपरिक चिल्ड शाही ड्रायफ्रूट्स ...

आपके मन को लुभाएगी ये पारंपरिक चिल्ड शाही ड्रायफ्रूट्स लस्सी, पढ़ें सरल विधि
सबसे पहले ताजा दही लेकर उसमें शक्कर, आधी ड्रायफ्रूट्स की कतरन, केसर व बर्फ डालकर मिक्सी ...

ऐसा देसी डाइट प्लान जिससे भयंकर मोटे बॉलीवुड एक्टर्स ने ...

ऐसा देसी डाइट प्लान जिससे भयंकर मोटे बॉलीवुड एक्टर्स ने अपना वज़न कम कर सबको हैरान कर दिया और आज हैं बिलकुल फिट
और इसी आदत के चलते इंडियंस अपना वेट लॉस देशी डाइट के साथ भी कर सकते हैं, पर डाइट प्लान के ...

गंगा दशहरा पर पारंपरिक शाही मीठे चूरमे से लगाएं गंगा मैया ...

गंगा दशहरा पर पारंपरिक शाही मीठे चूरमे से लगाएं गंगा मैया को भोग, पढ़ें सरल विधि...
सबसे पहले गेहूं के आटे में घी का अच्छा मोयन देकर कड़ा सान लें। फिर इसकी मुठियां बना लें। ...

हरड़ एक ऐसी औषधि है, जो 100 रोगों का नाश करती है

हरड़ एक ऐसी औषधि है, जो 100 रोगों का नाश करती है
हरड़ एक अत्यंत लाभकारी औषधि है। यह शरीर के 100 से अधिक रोगों का नाश करती है। आइए जानें ...

क्या आपने कभी बनाई है सत्तू की यह मिठाई, अगर नहीं तो अवश्य ...

क्या आपने कभी बनाई है सत्तू की यह मिठाई, अगर नहीं तो अवश्य बनाएं...
सबसे पहले मैदे को दूध के छींटे डाल-डालकर गीला कर लें। फिर किसी बर्तन में 1-2 घंटे दबाकर ...

कैसे होते हैं कर्क राशि वाले जातक, जानिए अपना व्यक्तित्व...

कैसे होते हैं कर्क राशि वाले जातक, जानिए अपना व्यक्तित्व...
हम वेबदुनिया के पाठकों के लिए क्रमश: समस्त 12 राशियों व उन राशियों में जन्मे जातकों के ...

अगर पति-पत्नी में हो रहा है खूब कलह तो यह 4 उपाय कराएंगे ...

अगर पति-पत्नी में हो रहा है खूब कलह तो यह 4 उपाय कराएंगे सुलह
यह उपाय उन पति-पत्नी के लिए हैं जो साथ में रहना तो चाहते हैं, एक दूजे से प्यार भी खूब ...