पैन कार्ड सेवा, पैन कार्ड बनाने का आसान माध्यम

Last Updated: शनिवार, 1 सितम्बर 2018 (12:44 IST)
पैन कार्ड न केवल व्यक्तियों द्वारा उनकी टैक्स संबंधी परेशानियों के लिए उपयोग किए जाता हैं बल्कि कंपनियों द्वारा अपने कर्मचारियों से जुड़े आर्थिक मामलों के दौरान भी इसका उपयोग किए जाता हैं।

पैन कार्ड के लिए आवेदन व्यक्तियों और कंपनियों के लिए नियमित रूप से कई वित्तीय लेनदेन करने के लिए आवश्यक है। भारत में पैन कार्ड प्रत्येक वर्णमाला और संख्या के साथ पूरी तरह अद्वितीय होते हैं, जिसका अपना विशिष्ट उद्देश्य होता है। यदि आपके पास अभी तक पैनकार्ड नहीं है, तो अब पैन कार्ड सेवा पर आवेदन करें।

टाइम्स के हाल के एक सर्वेक्षण के अनुसार भारत में 24.37 करोड़ लोगों के पास पैन कार्ड हैं। सरकारी नियमों के अनुसार दो लाख या इससे अधिक रकम के गहने खरीदने पर पैन नंबर अनिवार्य है।

सरकार ने एक और नियम बनाया है, जिसके मुता‍‍बिक पैन नंबर को आधार नंबर से जोड़ना जरूरी है। सरकार ने इसे अनिवार्य बना दिया है। हालांकि यह भी पता चला है कि कुल 25 करोड़ पैन कार्डों में से केवल 6.2 करोड़ ही आधार से जुड़े हुए हैं। जून के बाद के महीनों में यह संख्या बढ़कर 9.3 करोड़ हो गई।

हालांकि पैन कार्ड सिस्टम पूर्ण रूप से सुरक्षित है, लेकिन फिर भी कई बार ऐसा भी होता है जब कुछ लोग सिस्टम को चकमा देने में कामयाब हो जाते हैं। यद्यपि पैन कार्ड नंबर आसानी से दिए जाते हैं, लेकिन वे बहुत सारी अतिरिक्त जानकारी से जुड़े होते हैं। ऐसे में इनका दुरुपयोग भी किया जा सकता है। एक जानकारी के मुताबिक मुंबई में लगभग 50 लाख निवेशकों को पैन कार्ड घोटाले में लगभग 7,000 करोड़ रुपए का चूना लगा दिया गया।(Advertorial)



और भी पढ़ें :