क्रेडिट कार्ड से जुड़ी हर जानकारी, जो आपको जानना बेहद जरूरी है

नृपेंद्र गुप्ता|
आम आदमी के लिए बेहद काम की वस्तु है और हममें से अधिकांश लोग इसका उपयोग भी करते हैं। कुछ लोग खुली से आंखों से इसका प्रयोग करते हैं तो कुछ बगैर सोचे-समझे इसका इस्तेमाल करते हैं। अगर इसका सही यूज हो तो यह वरदान है और अगर आप इसे सही ढंग से चलाना नहीं जानते हैं तो इससे बड़ा अभिशाप भी कोई नहीं है।

क्या होता है क्रेडिट कार्ड : क्रेडिट कार्ड बैंक द्वारा प्रदान किया जाने वाला एक ऐसा कार्ड है जिसकी मदद से आप बाजार से तय सीमा तक उधार में सामान खरीद सकते हैं या ऑनलाइन बिल का भुगतान कर सकते हैं। एक निश्चित तारीख को इसका बिल जनरेट होता है और इसके 20 दिनों के भीतर आपको बिल भरना होता है।

कैसे करें इसका इस्तेमाल : क्रेडिट कार्ड के जरिए कैश या पेमेंट के लिए पिन नंबर जरूरी होता है। क्रेडिट कार्ड से ऑनलाइन पेमेंट के लिए वन टाइम पासवर्ड जरूरी होता है। डेबिट कार्ड की तर्ज पर क्रेडिट कार्ड पर भी सेफ्टी के लिए खास डिटेल्स होती है।

क्रेडिट कार्ड के पीछे 3 डिजिट का सीवीवी नंबर होता है और ऑनलाइन खरीदारी में सीवीवी नंबर जरूरी है। क्रेडिट कार्ड पर एक्सपायरी डेट होती है और क्रेडिट कार्ड के पिन नंबर के बिना ट्रांजेक्शन नहीं हो सकता है।

इसलिए आपके पास होना चाहिए क्रेडिट कार्ड : यह कार्ड नौकरीपेशा वर्ग के लिए बड़े काम का है। इससे आप पेट्रोल भराने से लेकर सभी जरूरी कार्य निपटा सकते हैं। खरीदारी से लेकर कई जरूरी कार्यों में लोग क्रेडिट कार्ड का प्रयोग करते हैं। डेबिट कार्ड से भुगतान करने पर भुगतान की राशि सीधे आपके जमा खाते से कटती है लेकिन क्रेडिट कार्ड में ऐसा नहीं होता।

क्या हैं इसके फायदे : अगर आप इंटरनेट का उपयोग करते हैं और ऑनलाइन शॉपिंग और लेन-देन करते हैं तो यह कार्ड आपके लिए बेहद उपयोगी है। आप ऑनलाइन पेमेंट कर कोई भी वस्तु खरीद सकते हैं। इस पर आपको डिस्काउंट भी मिलता है और पैसों के भुगतान के लिए समय भी।

इसके अलावा, आप अपने टेलीफोन, मोबाइल, बिजली बिल, इंश्योरेंस पॉलिसी का प्रीमियम आदि भी क्रेडिट कार्ड के जरिए भर सकते हैं। अगर आपके पास भुगतान करने के लिए पर्याप्त पैसा नहीं है तो मिनिमम बैलेंस चुकाकर अगले माह के भी बिल का भुगतान किया जा सकता है। इसके लिए आपको फाइनेंशियल चार्ज जरूर देना पड़ेगा, पर आपका बजट नहीं गड़बड़ाएगा।

अगर आपको अचानक कुछ पैसों की आवश्यकता हो और आपको पता चले कि आपके बैंक अकाउंट में तो इतने पैसे ही नहीं हैं। आप परेशान न हों। आप एटीएम मशीन या ऑनला‍इन क्रेडिट कार्ड से एक निश्चित राशि तक का लोन ले सकते हैं। इतना ही नहीं, आप सुविधानुसार समयसीमा चुनकर लोन को ईएमआई के जरिए चुका सकते हैं।

क्या होता है नुकसान : क्रेडिट कार्ड के जितने फायदे हैं उतने ही इसके नुकसान भी हैं। अकसर देखने में आता है कि हमें कोई ऐसी चीज पसंद आ जाती है जिसे तुरंत खरीदना हमारे बजट से बाहर होता है। ऐसे समय में अकसर लोग क्रेडिट कार्ड का सहारा ले लेते हैं।

क्रेडिट के बिल को जमा करने के लिए आपके पास कोई मैसेज नहीं आता, क्योंकि कंपनी चाहती ही नहीं है कि आप पहले महीने में ही सारा पेमेंट कर दें बल्कि कंपनियां तो ये चाहती हैं कि आप और लेट करें और बाद में लेट फीस भरें। जीरो प्रतिशत ब्याज पर, ईएमआई पर भी नियम एवं शर्तें लागू होती हैं।

क्रेडिट कार्ड पर लगता है वार्षिक शुल्क : क्रेडिट कार्ड पर आपको वार्षिक शुल्क भी लगता है। सिल्वर, गोल्ड, प्लेटिनम आदि हर क्रेडिट कार्ड पर अलग-अलग वार्षिक शुल्क लगता है। अगर आप कार्ड की लिमिट बढ़वाने के लिए इसे अपग्रेड करवाते हैं, तो आपका वार्षिक शुल्क भी बढ़ जाता है।

समय पर जरूर करें भुगतान : क्रेडिट कार्ड उपयोग करने वालों को समय पर इसके बिल का भुगतान जरूर कर देना चाहिए। कई बार व्यक्ति मिनिमम अमाउंट भरकर काम चला लेता है, पर इसके बदले उसे भारी फाइनेंशियल चार्जेस देना होते हैं। मिनिमम बैलेंस में ज्यादा हिस्सा चार्जेस का होता है और जानकारी के अभाव में व्यक्ति ठगा-सा रह जाता है।


और भी पढ़ें :