बाल कविता : अम्मा लो बात करो फोन से...

kids poem


टीचरजी होल्ड किए,
बात उन्हें करना है।
लगता है मेरा ही,
कोई सा उलाहना है,
न मालूम थोपेंगी,
काम मुझे कौन से।
टीचर ने बोला है,
मम्मी से कहलाना।
मैं कैसी शिक्षक हूं,
उनका मत भिजवाना।
लिखना मां,
अच्छे से पेन से।

सच में मां टीचरजी,
बहुत नेक व सच्ची हैं,
बाहर से कर्कश हैं,
भीतर से अच्छी हैं
उनके कारण ही मैं,
पढ़ पाती चैन से।

Widgets Magazine
वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :