बाल गीत : कौआ चाचा

CROW

चाचा नहीं आजकल,
तुम छत पर क्यों आते?
चिल्ला-चिल्लाकर,
हमको नहीं जगाते।
कौआ बोला सुनो भतीजे,
शहर नहीं अब भाते।
हवा बहुत जहरीली है,
हम सांस नहीं ले पाते।

क्यों न ढेरों पेड़ लगाकर,
हवा शुद्ध करवाते।
ईंधन वाला धुआं मिटाकर,
पर्यावरण बचाते।


Widgets Magazine
वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :