नवग्रहों के संग, खूबसूरत होली के रंग


होली का त्योहार प्रत्येक वर्ष फाल्गुन मास की पूर्णिमा से प्रतिपदा के मध्य मनाया जाता है। जो सुसमृद्ध, गौरवशाली भारतीय संस्कृति का ऐसा अनूठा रंगों का त्योहार है जो हमारे निकट सम्पूर्ण वातावरण को विशेष सकारात्मक बनाता है। रंग हमें केवल लुभाते ही नहीं, बल्कि हमारे मन और शरीर पर प्रत्यक्ष रूप से असर भी डालते हैं।
सूरज की लाली, धरती की हरियाली, चंदा की चांदनी और गगन मण्डल में सतरंगी इंद्रधनुष का आकर्षण मानव के पंच महाभूत स्थूल शरीर को सदैव लुभाता रहता है। सम्पूर्ण ब्रह्माण्ड में विविध प्रकार के रंग समाहित हैं। इस पंचभूत शरीर में भी कई तरह के रंगों का मिश्रण है। जैसे-पृथ्वी तत्व का रंग बैंगनी व नारंगी, जल का हरा एवं नीला, पावक (अग्नि) का लाल, व पीला, हवा का बैंगनी और आकाश का रंग प्रायः नीला है।
नवग्रह व बारह राशियां भी विविध प्रकार के रंगों व तत्वों की होती हैं। जैसे- सूर्य का रक्त (लाल) वर्ण, नारंगी व सुनहला तथा चंद्रमा का सफेद, मंगल का लाल, बुध का हरा, शुक्र का रंग सफेद, बृहस्पति (गुरु) का पीला, शनि का काला व नीला, राहु का काला और केतु का रंग चितकबरा होता है।

इस रंगीले होली के पावन पर्व में सभी नौ ग्रह चलते हुए एक-दूसरे पर रंग डालते हैं। मंगल व शुक्र का मिलन बड़ा ही रोचक होता है। मंगल हमें जोश व उत्साह प्रदान करता है। शुक्र हमें सांसारिक खुशियां प्रदान कर जीवन व मन को प्रसन्न बनाता है। बुध का रंग हरा है जो उन्नति और प्रसन्नता का सूचक है, यह रिश्तों में प्रेम और चाहत को बनाए रखने हेतु प्रेरित करता है तथा रिश्तों को घनिष्ठता के सूत्र में पिरो के रखता है। उन्हें टूटने नहीं देता और मजबूती तथा आपसी विश्वास को भी बढ़ाता है। शत्रुता और आपसी कलह व अर्न्तविरोधों का अंत करता है। दिलों को मिला उनमें हंसी-खेल व मित्रता की भावना को बढ़ाता है। हमारे चेहरे पर सुन्दरता का नूर खिलाता है। यह तंत्रिका तंत्र का स्वामी है।

शुक्र का सफेद रंग मानसिक शांति का और मंगल का लाल रंग जोश व उमंग का सूचक है। होली के दिन यह वयोवृद्धों में भी विशेष जोश का संचार कर देता है।

सूर्य जो कि विश्व आत्मा है यह हमारे जीवन को ओज और ऊर्जा से भर देता है। इसका रंग नारंगी व सुनहला है जो हमारे आपसी संबंधों को मजबूती प्रदान कर चेहरे को खिला देता है।

चंद्रमा का रंग सफेद है। यह हमारी कल्पनाशक्ति व मानसिक शक्ति का स्वामी है। यह मन की शांति व खूबसूरती का सूचक ग्रह है। यह हमारे मनोभावों तथा मनोकामनाओं को साकार करने के द्वार खोलता है। दो दिलों में मेल कराता है उन्हें आपस में जोड़ता है यह मन का स्वामी है।

बृहस्पति (गुरु) का रंग पीला होता है। यह ग्रह वैभव व समृद्धि का सूचक है। इसे बुद्धि का स्वामी तथा विवेक का रंग भी कहा जाता है। भारतीय वांग्मय में शुभ कार्यों में पीले वस्त्र का विशेष महत्व है। इस रंग से खुशियां बढ़ती हैं। ज्ञान प्राप्त होता है व ऊर्जा मिलती है। सौभाग्य तथा बुद्धि में अद्भुत वृद्धि होती है।

शनि का रंग काला व नीला होता है। नीला रंग प्रसन्नता व शांति का सूचक है। नीला रंग हमें शान्ति ही नहीं देता, बल्कि हमारी चेतना शक्ति को भी प्रभावित करता है। शनि ग्रह रात का स्वामी है काली रात में हल्के नीले रंग के बल्ब का प्रयोग शयन कक्ष में किया जाए तो सुखद व गहरी नींद भी आती है। यह रंग सिर्फ नींद ही नहीं देता बल्कि हमारे जीवन के अति विशिष्ट रिश्तों को मधुरता और मजबूती प्रदान कर उनमें मिठास घोल देता है।
शनि कालपुरुष की कुण्डली में दशम व एकादश भाव का स्वामी होता है। यह ग्रह हमारे अंदर मजबूती व गंभीरता को जागृति करता है। अभिलाषाओं की पूर्ति कर भाग्य को भी मजबूत बनाता है। हमारे शरीर में रंग सदैव एक विशेष प्रभाव व उत्साह छोड़ते हैं। चाहे वह होली के रंग हो या फिर किसी मांगलिक कार्यक्रमों के, दुल्हन की बिंदियां या चूड़ी के रंग हो, या फिर बहन-भाई के रक्षा सूत्रों के रंग, खाने के रंग हो या फिर घर सजाने के रंग हो, सभी रंग हमारे शरीर और मन को प्रत्यक्ष रूप से प्रभावित करते हैं।

सफेद रंग शरीर में महत्वाकांक्षा को, केसरिया व भगवा रंग बलिदान व त्याग को, लाल रंग उत्तेजना को, काला रंग चिंतन व रहस्य को उत्पन्न करता है।

पीला रंग ताप उत्पन्न करता है और हरा रंग शरीर में सर्दी व गर्मी के संतुलन को बनाए रखता है। नीला रंग मन को शांत तथा गंभीर बनाता है। लाल रंग जीवन में ऊर्जा शक्ति का विशेष संचार करता है।

अतः होली के पावन अवसर पर राशि के अनुसार रंगों का प्रयोग आपके जीवन में अधिक से अधिक उत्साह ऊर्जा शक्ति तथा मधुरता घोलेगा। तत्वों, रंगों व गुणों की विविधता होते हुए भी नवग्रह समूह एक दूसरे पर परस्पर प्रेम रंगों की बरसात कर सकते हैं, तो क्या आप भी मानव जीवन में प्रेम रंगों की ऐसी सजीव बरसात नहीं कर सकते...? जो उसे सुख, आनंद, उत्साह व माधुर्य से भर दें।
होली : आपके लिए कौन से हैं सौभाग्यशाली रंग

मेष (21 मार्च-अप्रैल 20):-
भाग्यशाली रंग लाल और पीला है।

वृष (अप्रैल 21-मई 20):- भाग्यशाली रंग ऑरेंज और परपल (जामुनी) है।

मिथुन (21 मई-21 जून):-
भाग्यशाली रंग हरा और परपल है।

कर्क (22 जून-22 जुलाई):-
भाग्यशाली रंग नीला और हरा है।

सिंह (23 जुलाई-23 अगस्त):- भाग्यशाली रंग गोल्डन पीला और ऑरेंज है।

कन्या (24 अगस्त-23 सितंबर):-
भाग्यशाली रंग ऑरेंज और परपल है।

तुला (24 सितंबर-23 अक्टूबर):-
भाग्यशाली रंग गुलाबी, सैफरन और ऑरेंज है।

वृश्चिक (24 अक्टूबर-22 नवम्बर):- भाग्यशाली रंग लाल, पीला और हरा है।

धनु (23 नवम्बर-21 दिसंबर):-
भाग्यशाली रंग पीला और लाल है।

मकर (22 दिसंबर-20 जनवरी):- भाग्यशाली रंग गुलाबी और लाल है।
कुंभ (22 जनवरी-19 फरवरी):-
भाग्यशाली रंग गुलाबी और लाल है।

मीन (20 फरवरी- 20 मार्च):-
भाग्यशाली रंग हरा और ऑरेंज है।

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।

और भी पढ़ें :

लाल किताब में दिए हैं 12 राशि के अनोखे उपाय, पढ़ें क्या है ...

लाल किताब में दिए हैं 12 राशि के अनोखे उपाय, पढ़ें क्या है आपकी राशि का उपाय
किसी से कोई वस्तु मुफ्त में न लें। लाल रंग का रूमाल हमेशा प्रयोग करें।लाल किताब के ...

ऐसे लगाएं परमात्मा से योग

ऐसे लगाएं परमात्मा से योग
योग यानी जुड़ना और जुड़ना जिससे भी सच्चे मन से हो जाए, उससे ही योग लग जाता है। जब किसी को ...

ज्योतिष के अनुसार राहु की खास विशेषताएं, जो आप नहीं जानते ...

ज्योतिष के अनुसार राहु की खास विशेषताएं, जो आप नहीं जानते होंगे...
ज्योतिष के अनुसार हर ग्रह की परिभाषा अलग है। यहां पाठकों के लिए प्रस्तुत है राहु के बारे ...

कर्ज से मुक्ति हेतु करें हनुमानजी के ये 4 उपाय

कर्ज से मुक्ति हेतु करें हनुमानजी के ये 4 उपाय
यदि किसी कारणवश आप कर्ज में डूब गए हैं या कर्ज से परेशान हैं तो हनुमान भक्ति से कर्ज से ...

अचानक धन मिल जाए तो बात बन जाए.. अगर आप भी ऐसा सोचते हैं तो ...

अचानक धन मिल जाए तो बात बन जाए.. अगर आप भी ऐसा सोचते हैं तो यह 6 उपाय आजमाएं
परिश्रम से बड़ा कोई धन नहीं। लेकिन सांसारिक सुखों को हासिल करने के लिए जो धन चाहिए वह अगर ...

24 जून 2018 के शुभ मुहूर्त

24 जून 2018 के शुभ मुहूर्त
शुभ विक्रम संवत- 2075, अयन- उत्तरायन, मास- ज्येष्ठ, पक्ष- शुक्ल, हिजरी सन्- 1439, मु. ...

बुध का कर्क में गोचर, जानिए क्या होगा 12 राशियों पर असर...

बुध का कर्क में गोचर, जानिए क्या होगा 12 राशियों पर असर...
बुध ज्ञान का कारक शत्रु चन्द्र की राशि कर्क में 25 जून, सोमवार से आ रहा है, इसके साथ ही ...

भीष्म पितामह का वध कैसे हुआ, जानिए रहस्य

भीष्म पितामह का वध कैसे हुआ, जानिए रहस्य
फिर पांडव पक्ष युद्ध क्षे‍त्र में भीष्म के सामने शिखंडी को युद्ध करने के लिए लगा देते ...

भगवान राम ने इस तरह ढूंढा था सेतु बनाने का स्थान

भगवान राम ने इस तरह ढूंढा था सेतु बनाने का स्थान
पंचवटी (नासिक) में माता सीता का अपहरण होने के बाद प्रभु श्रीराम सर्वतीर्थ (जटायु का वध ...

निर्जला एकादशी 2018 : जानें पूजन का शुभ समय और दान करने का ...

निर्जला एकादशी 2018 : जानें पूजन का शुभ समय और दान करने का मंत्र
धार्मिक ग्रंथों के अनुसार ज्येष्ठ मास के शुक्ल पक्ष की निर्जला एकादशी सभी एकादशियों में ...

राशिफल