रंगों का पर्व होली, जानिए क्या करें, क्या न करें


त्योहारों का मजा तो सभी लेते हैं, उस पर फेस्टिवल यदि होली जैसा मजेदार और सो थ्रिलिंग, एक्साइटिंग हो तो क्या कहने...। इसीलिए हमारे यूथ इस फेस्टिवल को बड़े ही जोर-शोर से सेलिब्रेट करते हैं, किसी भी धूम-धड़ाके में कमी नहीं रहने देते...
कलर्स का हमारे जीवन में खास महत्व है। कलर्स न हो तो जीवन किसी 'ब्लैक एंड व्हाइट' फिल्म जैसा बेरंग हो जाएगा। कलर हमारी पर्सनेलिटी, मेंटेलिटी और ग्रोथ पर भी पूरा प्रभाव डालते हैं। तो आइए बात करें होली के कलर्स और हमारी राशियों की... यह भी जानें कि वर्तमान ग्रह गोचर के चलते किस राशि के लिए क्या 'डूज एंड डोंट्‍स' हैं।

1. मेष राशि : राशि स्वामी मंगल यानी मार्स नीच का है अत: आप होली खेलने में रेड-ऑरेंज कलर्स का अधिक से अधिक इस्तेमाल करें। यह आपकी प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाएगा, स्वास्थ्‍य लाभ देगा। गुस्सा न करें।
2. वृषभ राशि : राशि स्वामी शुक्र यानी वीनस अभी उदय हुआ है अत: होली खेलने में पिंक, रेड या इन्हीं से मिलते-जुलते कलर्स का प्रयोग करें। मावे या दूध से बनी स्वीट्‍स अवश्य खाएं।

3. मिथुन : राशि स्वामी बुध ठीक स्थिति में है। ग्रीन, येलो या इन्हीं से मिलते-जुलते कलर्स से होली खेलें। गौमाता को ग्रीन कलर का टीका लगाएँ।

4. कर्क : भावुकता पर नियंत्रण पाने के लिए होली व्हाइट या क्रीम रंग से ही खेलें। ब्लैक-ब्ल्यू कलर्स का बिल्कुल इस्तेमाल न करें। वाणी पर नियंत्रण रखें।
5. सिंह : राशि पर साढ़ेसाती का प्रभाव बना हुआ है। केवल ऑरेंज, गोल्डन और येलो कलर्स से होली खेलें। बहुत ठंडे पानी से बचें।

6. कन्या : राशि पर शनि विद्यमान हैं। होली खेलने में नीले, हरे, भूरे रंग का प्रयोग बेहतर होगा। ब्लैक-स्लेटी रंग से बचें। ज्यादा धमा-चौकड़ी न करें।

7. तुला : राशि स्वामी शुक्र यानी वीनस उदय हो गया है, चढ़ती साढ़ेसाती का भी प्रभाव है। पिंक, ग्रीन, व्हाइट, स्लेटी रंग का इस्तेमाल करें। दूध का प्रयोग करें। भावनाओं पर नियंत्रण रखें।
8. वृश्चिक : राशि स्वामी मंगल यानी मार्स नीचस्थ हैं। रेड-येलो-ग्रीन रंग मिलाकर होली खेलें। चोट-चपेट से बचें। अधिक ठंडे पानी से परहेज करें।

9. धनु : राशि स्वामी बृहस्पति पराक्रम में, शनि की राशि में है। येलो, ब्ल्यू, लाइट ऑरेंज कलर आपके लिए उपयुक्त होगा। येलो स्वीट्‍स अवश्य खाएँ।

10. मकर : ब्लैक, डार्क ब्ल्यू, स्लेटी रंग आपके लिए उपयुक्त होगा। त्वचा की खराश हो तो सावधानी रखें। कूदने-फाँदने से बचें।
11. कुंभ : राशि में गुरु यानी ज्यूपिटर विद्यमान है। आपके लिए स्काई ब्ल्यू, फिरोजी, येलो रंग लाभदायक है। मीठी वस्तुएँ खाने में सावधानी रखें। एसिडिटी न हो, ये भी ध्यान रखें।

12. मीन : मानसिक स्थिरता और स्वास्थ्‍य की समस्याओं को हल करने के लिए ऑरेंज, येलो और बैंगनी रंग का अधिक इस्तेमाल करें।

विशेष : ग्रह गोचर के अनुसार सभी राशि के टीनएजर्स को ठंडे पानी से, अधिक मीठे भोजन से, उछलकूद व रिस्क लेने से तथा नशे आदि से परहेज रखना चाहिए।


वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :

आत्महत्या करने के बाद क्या होता है आत्मा के साथ, जानिए ...

आत्महत्या करने के बाद क्या होता है आत्मा के साथ, जानिए रहस्य...
पहली बात तो यह कि आत्महत्या शब्द ही गलत है, लेकिन यह अब प्रचलन में है। आत्मा की किसी भी ...

आश्चर्य .... एक सियार सिंगी में है कई समस्याओं का समाधान

आश्चर्य .... एक सियार सिंगी में है कई समस्याओं का समाधान
क्या आप जानते हैं कि प्राचीन काल में घर में कई शुभ वस्तुएं रखी जाती थीं, उनमें से एक ...

चमत्कारिक लाभ देता है नवग्रह कवच का पाठ, प्रतिदिन अवश्य ...

चमत्कारिक लाभ देता है नवग्रह कवच का पाठ, प्रतिदिन अवश्य पढ़ें...
ज्योतिष में नवग्रह का बहुत महत्व है। कुंडली में अगर ग्रहों का अशुभ प्रभाव या ग्रहदोष हो ...

पुष्पक विमान की खासियत जानकर रह जाएंगे हैरान

पुष्पक विमान की खासियत जानकर रह जाएंगे हैरान
रामायण के अनुसार रावण के पास कई लड़ाकू विमान थे। पुष्पक विमान के निर्माता विश्वकर्मा थे। ...

महाभारत के युद्ध में लाखों सैनिकों को भोजन कौन और कैसे ...

महाभारत के युद्ध में लाखों सैनिकों को भोजन कौन और कैसे कराता था?
श्रीकृष्ण की एक अक्षौहिणी नारायणी सेना मिलाकर कौरवों के पास 11 अक्षौहिणी सेना थी तो ...

जैन धर्म में श्रुत पंचमी का महत्व, जानिए...

जैन धर्म में श्रुत पंचमी का महत्व, जानिए...
ज्येष्ठ माह के शुक्ल पक्ष की पंचमी तिथि को जैन धर्म में 'श्रुत पंचमी' का पर्व मनाया जाता ...

करण क्या है और किस करण में नहीं करें शुभ कार्य?

करण क्या है और किस करण में नहीं करें शुभ कार्य?
हिंदू पंचांग के पंचांग अंग है:- तिथि, वार, नक्षत्र, योग और करण। उचित तिथि, वार, नक्षत्र, ...

16 जुलाई तक सूर्य रहेंगे मिथुन राशि में, कैसा होगा समय 12 ...

16 जुलाई तक सूर्य रहेंगे मिथुन राशि में, कैसा होगा समय 12 राशियों के लिए...
15 जून 2018 को सूर्य ने मिथुन राशि में प्रवेश कर लिया है। सूर्य के इस गोचर का 12 राशियों ...

ज्योतिष के अनुसार मंगल की खास विशेषताएं, जो आप नहीं जानते ...

ज्योतिष के अनुसार मंगल की खास विशेषताएं, जो आप नहीं जानते होंगे...
ज्योतिष के अनुसार हर ग्रह की परिभाषा अलग है। पौराणिक कथाओं में नौ ग्रह गिने जाते हैं, ...

विवाह के प्रकार और हिंदू धर्मानुसार कौन से विवाह को मिली है ...

विवाह के प्रकार और हिंदू धर्मानुसार कौन से विवाह को मिली है मान्यता, जानिए
शास्त्रों के अनुसार विवाह आठ प्रकार के होते हैं। विवाह के ये प्रकार हैं- ब्रह्म, दैव, ...

राशिफल