लघुकथा - देह की दुर्गति


देवेन्द्र सोनी
चार भाई बहनों में बड़ी, नाजों से पली राजो का बचपन हंसते खेलते बीत गया था। कैशोर्य की अल्हड़ता और प्रस्फुटित हो रही मादकता ने उसके स्वभाव में चंचलता और स्वच्छंदता को बढ़ा दिया। गांव में उसके निखरते रूप और यौवन की चर्चा होने लगी। मनचले युवकों की टोली राजो को आते-जाते हल्के-फुल्के बेसुरे राग से उसका सौंदर्य बोध कराते जिसे सुनकर वह और अधिक खिल उठती। पहले तो राजो ने इन पर कोई ध्यान नहीं दिया किन्तु धीरे-धीरे वह प्रशंसा सुनने के मौके तलाशने लगी। परिणाम यह हुआ कि वह अनचाहे आरोपों से घिर गई और पढ़ाई छूट गई। बड़े घर की बेटी थी, समय रहते बदनामी के डर से बचने के लिए पिता ने आनन-फानन में उसकी शादी कर दी ।

राजो अपने विवाह से खुश थी। संपन्न ससुराल में उसे सब कुछ मिला पर शराबी पति से वह संतुष्ट नहीं थी। फलतः जल्दी ही ऊब गई। बार-बार रूठ कर मायके चली जाना राजो की फितरत बन गई। अतृप्त मन की कसक ने उसे विचलित कर दिया। उसकी बढ़ती स्वच्छंदता और लगते आरोपों के बीच वह दो बच्चों की मां भी बन गई पर उसके स्वभाव में कोई परिवर्तन नहीं आया ।

समय बीतता गया और एक दिन अत्यधिक शराब पीने की वजह से राजो संसार में अपने बच्चों के साथ अकेली रह गई। ससुराल वालों ने उस पर बदचलनी और पति की असमय मौत का आरोप लगाकर पल्ला झाड़ लिया। वह मायके आ गई पर मायके में भी कब तक रहती। उसके मनचले स्वभाव से सब परेशान थे।

इतना कुछ बीत जाने के बाद भी राजो के स्वभाव में कोई परिवर्तन नहीं आया तो भाइयों ने मिलकर उसे पास ही के शहर में नौकरी लगवा दी। अब राजो अपने बच्चों के साथ शहर में एक किराए के मकान में रहने लगी। अकेलेपन का उसने जमकर फायदा उठाया और अनेक व्यक्तियों से उसके मधुर संबंध बन गए। पैसे की चाहत में वह लोगों को ब्लैक मेल करने लगी। उसकी बढ़ती ज्यादतियों से तंग आकर एक दिन घने जंगल में उसका मृत कंकाल पुलिस ने बरामद किया। जिस देह के बल पर राजो इतराती थी, वह देह हड्डियों के ढांचे में परिवर्तित हो चुकी थी। बमुश्किल राजो की शिनाख्त हो सकी।

क्रिया कर्म के बाद लोग बतिया रहे थे - लगते आरोपों से यदि राजो सम्हल जाती तो आज देह की यूं दुर्गति न होती। सही ही तो कह रहे थे।

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।

और भी पढ़ें :

लिपबाम के फायदे जानते हैं और इसे लगाते हैं, तो इसके नुकसान ...

लिपबाम के फायदे जानते हैं और इसे लगाते हैं, तो इसके नुकसान भी जरूर जान लें
लिप बाम सौंदर्य प्रसाधन में आज एक ऐसा प्रोडक्ट बन चुका है, जिसके बिना किसी लड़की व महिला ...

पति यदि दिखाए थोड़ी सी समझदारी तो पत्नी भूल जाएगी नाराज होना

पति यदि दिखाए थोड़ी सी समझदारी तो पत्नी भूल जाएगी नाराज होना
पति-पत्नी के बीच घर के दैनिक कार्य को लेकर, नोकझोंक का सामना रोजाना होता हैं। पति का ...

क्या आपको भी होती है एसिडिटी, जानिए प्रमुख कारण और बचाव

क्या आपको भी होती है एसिडिटी, जानिए प्रमुख कारण और बचाव
मिर्च-मसाले वाले पदार्थ अधिक सेवन करने से एसिडिटी होती है। इसके अतिरिक्त कई कारण हैं ...

फलाहार का विशेष व्यंजन है चटपटा साबूदाना बड़ा

फलाहार का विशेष व्यंजन है चटपटा साबूदाना बड़ा
सबसे पहले साबूदाने को 2-3 बार धोकर पानी में 1-2 घंटे के लिए भिगो कर रख दें।

बालों को कलर करते हैं, तो पहले यह सही तरीका जरूर जान लें

बालों को कलर करते हैं, तो पहले यह सही तरीका जरूर जान लें
हर बार आप सैलून में ही जाकर अपने बालों को कलर करवाएं, यह संभव नहीं है। बेशक कई लोग हमेशा ...

दूषित सोच से पीड़ित एक प्रसिद्ध भारतीय अर्थशास्त्री

दूषित सोच से पीड़ित एक प्रसिद्ध भारतीय अर्थशास्त्री
पिछले सप्ताह विश्व प्रसिद्ध अर्थशास्त्री अमर्त्य सेन ने मोदी सरकार की आर्थिक नीतियों के ...

यदि पैरेंट्स के व्यवहार में हैं ये 4 बुरी आदतें तो आपके ...

यदि पैरेंट्स के व्यवहार में हैं ये 4 बुरी आदतें तो आपके बच्चे को बिगड़ने से कोई नहीं रोक सकता!
पैरेंट्स की कुछ ऐसी आदतें होती हैं, जो वे बच्चों को सुधारने, कुछ सिखाने-पढ़ाने और नियंत्रण ...

क्या आप भी संकोची हैं, अपना ही सामान मांग नहीं पाते हैं तो ...

क्या आप भी संकोची हैं, अपना ही सामान मांग नहीं पाते हैं तो यह एस्ट्रो टिप्स आपके लिए है
क्या आप भी संकोची हैं, अगर हां तो यह आलेख आपके लिए है...

कैंसर की रिस्क लेना अगर मंजूर है तो ही इन 7 सामान्य लक्षणों ...

कैंसर की रिस्क लेना अगर मंजूर है तो ही इन 7 सामान्य लक्षणों को नजरअंदाज करें, वरना हो सकती है बड़ी परेशानी
ये बीमारी भी ऐसे ही सामने नहीं आती। इसके भी लक्षण हैं जो आप और हम जैसे लोग अनदेखा करते ...

श्री गुरु पूर्णिमा : कैसे मनाएं घर में पर्व जब कोई गुरु ...

श्री गुरु पूर्णिमा : कैसे मनाएं घर में पर्व जब कोई गुरु नहीं हो...ग्रहण के कारण इस समय कर लें पूजन
वे लोग जिन्हें गुरु उपलब्ध नहीं है और साधना करना चाहते हैं उनका प्रतिशत समाज में अधिक है। ...