Widgets Magazine

लघुकथा : बेखबर फासले...



सहजता से चल रही की गृहस्थी में बेखबर फासले दस्तक दे चुके थे। मन के किसी कोने में दोनों ही एक अलगाव-सा महसूस कर रहे थे, पर इसे व्यक्त करने से वे बचते थे।

दस साल की भरी-पूरी खुशहाल जिंदगी में इन फासलों ने दस्तक तब दी, जब एक दिन अचानक ही राजन का रवि उनके घर आया। फिर तो यह क्रम ही बन गया। रवि का रोज-रोज घर आना रमा और उसकी युवा होती बेटी को कतई पसंद नहीं था, पर राजन की खुशी के लिए न चाहते हुए भी वह रवि के स्वागत-सत्कार में कोई कमी नहीं करती।
रवि बेरोजगार होने के बावजूद खुलकर जीवन जीने का आदी था। घर से धनाढ्य होने के कारण फिजूलखर्ची उसके स्वभाव में थी। जब-तब वह कुछ न कुछ उपहार लाता रहता। राजन उसकी इस दरियादिली का कायल था और इस बात से वह पूरी तरह बेखबर था कि रवि की दोस्ती उसके में बड़ा फासला लेकर आने वाली है।
रमा आने वाले इस बेखबर फासले को भांप चुकी थी और इशारे ही इशारे में वह राजन को आगाह भी कर चुकी थी पर राजन, रमा की बात को हंसी में उड़ा देता जिससे रमा सदैव ही असहज रहती। यही असहजता उन दोनों के बीच फासले में बदलती जा रही थी।

समय निकलता गया और राजन, रवि के रंग-ढंग में ढलता गया। अब देर रात नशे में चूर होकर घर लौटना उसकी दिनचर्या बन गई। रमा उसे समझाती, पर राजन को कोई फर्क नहीं पड़ता था। जान से ज्यादा चाहने वाली युवा बेटी को भी अब वह जब-तब दुत्कार दिया करता था जिससे पिता-पुत्री के रिश्ते में भी फासले बढ़ते जा रहे थे।

रमा इन हालातों से बहुत अवसाद में रहने लगी। उसका जब-तब बीमार पड़ जाने का भी राजन और रवि पर कोई असर नहीं हुआ। एक दिन मां-बेटी ने राजन के सामने ही रवि को खूब खरी-खोटी सुनाई और उसके घर आने पर रोक लगा दी।

रवि ने इसे अपने अहम का प्रश्न बना लिया और अब बाहर ही राजन को ज्यादा से ज्यादा शराब पिलाने लगा। अपनी जिंदगी और मौत के बीच घटते जा रहे फासले से बेखबर रवि के लिवर ने जवाब दे दिया और अंतत: एक दिन वह अपनी दुनिया से रुखसत हो गया।
रमा सोचती ही रह गई कि कैसा था राजन के लिए उसका यह दोस्त जिसने उन दोनों के बीच वह फासला ला दिया, जो अब कभी पाटा नहीं जा सकता।


Widgets Magazine
वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :

गर्भावस्था में स्ट्रेच मार्क्स से बचने के 4 आसान तरीके...

गर्भावस्था में स्ट्रेच मार्क्स से बचने के 4 आसान तरीके...
महिलाओं में गर्भावस्था के दौरान स्ट्रेच मार्क्स होना एक आम समस्या है, क्योंकि इस दौरान ...

लू से हो सकती है मौत, पढ़ें 10 काम की बातें

लू से हो सकती है मौत, पढ़ें 10 काम की बातें
गर्म हवाएं, जो लू कहलाती हैं, आपके लिए बेहद खतरनाक हो सकती हैं। ये आपके शरीर के तापमान को ...

8 रसीले ज्यूस, सेहत को रखे चुस्त

8 रसीले ज्यूस, सेहत को रखे चुस्त
केवल पानी ही प्यास बुझाने के लिए काफी नहीं होता। शरीर में नमी अधिक देर तक बनी रहे इसके ...

गर्मियों में रखें अपने क्यूट 'पपी' का ख्याल

गर्मियों में रखें अपने क्यूट 'पपी' का ख्याल
जानवरों के लिए गर्मियां बहुत तकलीफदेह होती हैं इसलिए कुछ आसान उपाय करके हम अपने पालतू ...

यह 6 रसीले फल गर्मियों में देंगे सेहत और सुंदरता

यह 6 रसीले फल गर्मियों में देंगे सेहत और सुंदरता
जानिए गर्मी के मौसम में आने वाले उन फलों को, जो गर्मी में रखते हैं हमारा ध्यान -

यह है मां बगलामुखी की पौराणिक और प्रामाणिक कथा, जरूर पढ़ें

यह है मां बगलामुखी की पौराणिक और प्रामाणिक कथा, जरूर पढ़ें
सतयुग में एक समय भीषण तूफान उठा। इसके परिणामों से चिंतित हो भगवान विष्णु ने तप करने की ...

मां बगलामुखी करती हैं नन्हे बच्चों की रक्षा, जानिए कैसे

मां बगलामुखी करती हैं नन्हे बच्चों की रक्षा, जानिए कैसे
छोटे बच्चे नाजुक होते हैं। मां बगलामुखी का यह रक्षा मंत्र और प्रयोग विधि उन्हें हर संकट ...

तंत्र की देवी है मां बगलामुखी, हर आपदा से बचाता है उनका ...

तंत्र की देवी है मां बगलामुखी, हर आपदा से बचाता है उनका मंत्र
मां बगलामुखी यंत्र चमत्कारी सफलता तथा सभी प्रकार की उन्नति के लिए सर्वश्रेष्ठ माना गया ...

मां बगलामुखी की इस उपासना से मिलेगी चमत्कारी शक्तियां

मां बगलामुखी की इस उपासना से मिलेगी चमत्कारी शक्तियां
बगलामुखी साधना के दौरान हवन में दूधमिश्रित तिल व चावल डालने पर धन, संपत्ति और ऐश्वर्य की ...

जब राजा विक्रमादित्य को दर्शन दिए मां बगलामुखी ने, पढ़ें

जब राजा विक्रमादित्य को दर्शन दिए मां बगलामुखी ने, पढ़ें कथा
राजा विक्रमादित्य ने मां बगलामुखी की आराधना शुरू कर दी। लेकिन माता ने दर्शन नहीं दिए। ...