वामा साहित्य मंच में कथाकार कृष्णा सोबती के रचनाकर्म पर चर्चा


वर्ष 2017 अंतिम मुहाने पर खड़ा है और इस वर्ष साहित्य संसार अपनी कई उपलब्धियों पर इठला रहा है। इन सबके बीच ने प्रखर उपन्यासकार कृष्णा सोबती की रचनाधर्मिता पर चर्चा की। में उत्कृष्ट कार्य के लिए वर्ष 2017 का हिन्दी साहित्य की सशक्त हस्ताक्षर कृष्णा सोबती को प्रदान किए जाने की घोषणा हुई है। इसलिए उनके व्यक्तित्व और कृतित्व पर चर्चा समीचीन थी।

कृष्णा सोबती को उनके उपन्यास 'जिंदगीनामा' के लिए वर्ष 1980 का साहित्य अकादमी पुरस्कार मिला था। उन्हें 1996 में अकादमी के उच्चतम सम्मान साहित्य अकादमी फैलोशिप से नवाजा गया था। कृष्णा सोबती की प्रमुख रचनाओं में ज़िन्दगीनामा, ऐ लड़की, मित्रो मरजानी और जैनी मेहरबान सिंह शामिल है।

इस अवसर पर बतौर मुख्य वक्ता शामिल सुविख्यात लेखिका डॉ मीनाक्षी स्वामी ने कृष्णा सोबती की लेखन शैली और पात्रों के माध्यम से उनकी साहसी लेखनी पर विस्तृत चर्चा की। अध्यक्षा पद्मा राजेन्द्र ने कृष्णा सोबती पर अपनी बात रखी। लेखिका शांता पारेख तथा मृणालिनी घुले ने भी विचार व्यक्त किए।

इस आयोजन में मुख्य अतिथि के रूप में शामिल शहर की प्रथम नागरिक व महापौर श्रीमती मालिनी लक्ष्मण सिंह गौड़ का वामा साहित्य मंच की तरफ से सम्मान किया जाना था। इंदौर को देश के सबसे स्वच्छ शहर का गौरव दिलवाने वाली श्रीमती गौड़ के अभिनंदन-पत्र का वाचन स्मृति आदित्य ने किया। व्यस्तताओं के चलते हालांकि मालिनी जी उपस्थित न हो सकी, उनके संदेश का वाचन सचिव ज्योति जैन ने किया।

अतिथि के करकमलों से वामा साहित्य मंच द्वारा प्रकाशित रचना संग्रह 'मैं क्या हूं' का विमोचन किया गया। इस संग्रह में मंच की समस्त सदस्याओं ने अपने मन की रचनात्मक प्रस्तुति दी है और स्वयं को पहचान कर स्वयं के लिए कोमल अभिव्यक्ति रची है।
आरंभ में सरस्वती वंदना दिव्या मंडलोई ने प्रस्तुत की तथा कार्यक्रम का मधुर संचालन अंतरा करवड़े ने किया। अतिथियों का स्वागत अध्यक्ष पद्मा राजेन्द्र तथा सचिव ज्योति जैन ने किया।

Widgets Magazine
वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :

कविता : भारत के वीर सपूत

कविता : भारत के वीर सपूत
तेईस मार्च को तीन वीर, भारतमाता की गोद चढ़े। स्वतंत्रता की बलवेदी पर,

सुनो नन्ही बच्चियों, हम अपराधी हैं तुम्हारे

सुनो नन्ही बच्चियों, हम अपराधी हैं तुम्हारे
माता-पिता की सघन छांव से अधिक सुरक्षित जगह क्या होगी.. ? सुरक्षा की उस कड़ी पहरेदारी में ...

कर्मकांड करवाने वाले आचार्य व पुरोहित कैसे हो, आप भी ...

कर्मकांड करवाने वाले आचार्य व पुरोहित कैसे हो, आप भी जानिए...
कर्मकांड हमारी सनातन संस्कृति का अभिन्न अंग है। बिना पूजा-पाठ व कर्मकांड के कोई भी हिन्दू ...

आम के यह 'खास' फायदे शर्तिया नहीं पता होंगे आपको

आम के यह 'खास' फायदे शर्तिया नहीं पता होंगे आपको
रसीले पके आम अत्यंत स्वादिष्ट लगते हैं। आइए जानते हैं इसके 5 ऐसे फायदे जो आपको अचरज में ...

मन को लुभाएगी लाजवाब चटपटी कैरी की चटनी...

मन को लुभाएगी लाजवाब चटपटी कैरी की चटनी...
एक कड़ाही में तेल गरम कर चना दाल, मैथी और जीरा डालकर भून लें। लाल मिर्च, मीठा नीम, हींग ...

बढ़ती उम्र में दिखना है युवा तो यह 7 कदम आपके लिए हैं

बढ़ती उम्र में दिखना है युवा तो यह 7 कदम आपके लिए हैं
ढ़ती उम्र मांग करती है कि हम अपने खाने को लेकर अधिक सतर्क हो जाएं। हमारा शरीर हमारा मंदिर ...

कहानी : संस्कार

कहानी : संस्कार
एक गांव में एक बहुत समझदार और संस्कारी औरत रहती थी। एक बार वह अपने बेटे के साथ सुबह-सुबह ...

आध्यात्मिक गुरु श्री सत्य साईं बाबा का महाप्रयाण दिवस

आध्यात्मिक गुरु श्री सत्य साईं बाबा का महाप्रयाण दिवस
सत्य साईं बाबा आध्यात्मिक गुरु व प्रेरक व्यक्तित्व थे, जिनके संदेश और आशीर्वाद ने पूरी ...

सिर्फ और सिर्फ एक हनुमान मंत्र, रखेगा आपको पूरे साल

सिर्फ और सिर्फ एक हनुमान मंत्र, रखेगा आपको पूरे साल सुरक्षित
इस विशेष हनुमान मंत्र का स्मरण जन्मदिन के दिन करने पर पूरे साल की सुरक्षा हासिल होती है ...

जानकी जयंती पर पढ़ें मां सीता की अचंभित कर देने वाली यह ...

जानकी जयंती पर पढ़ें मां सीता की अचंभित कर देने वाली यह कथा...
भगवान श्रीराम राजसभा में विराज रहे थे उसी समय विभीषण वहां पहुंचे। वे बहुत भयभीत और हड़बड़ी ...